Home »Economy »Infrastructure» Railways Wants To Generate Revenue Focusing On International And Domestic Tourists

सरकार चलाएगी 10 टूरिस्‍ट ट्रेनें, विदेशियों को मिलेगा 1 साल पहले भी रिजर्वेशन

सरकार चलाएगी 10 टूरिस्‍ट ट्रेनें, विदेशियों को मिलेगा 1 साल पहले भी रिजर्वेशन
 
नई दिल्‍ली। इंडियन रेलवे देश के टूरिज्‍म सेक्‍टर के लिए पॉलिसी तैयार कर रहा है। इसका मकसद जहां देश में टूरिज्‍म को बढ़ावा देना है, वहीं रेलवे अपनी आमदनी भी बढ़ाना चाहता है। रेलवे द्वारा तैयार की गई ड्राफ्ट पॉलिसी के मुताबिक, रेलवे 10 नई टूरिस्‍ट ट्रेन चलाएगा। साथ ही, टूरिस्‍ट प्‍लेस की ओर जाने वाली ट्रेनों में फॉरेन टूरिस्‍ट कोटा भी निर्धारित किया जाएगा, जिनमें एक साल पहले भी रिजर्वेशन कराया जा सकेगा। इतना ही नहीं, ट्रेनों में टूरिस्‍ट कोच भी शुरू किए जाएंगे।
 
चलेंगी लग्‍जरी टूरिस्‍ट ट्रेन
 
ड्राफ्ट पॉलिसी के मुताबिक फॉरेन टूरिस्‍ट को ध्‍यान में रखते हुए लग्‍जरी टूरिस्‍ट ट्रेन चलाई जाएंगी। जिनमें लग्‍जिरयस इंटिरियर के अलावा इंटरटेनमेंट लाउंज, रीडिंग लाइब्रेरी, बार और एक्‍सक्‍लूसिव रसोई होगी। ये ट्रेन राज्‍य सरकारों के टूरिस्‍ट डिपार्टमेंट या आईआरसीटसी के साथ पार्टनरशिप में चलाई जाएंगी। इन ट्रेन में अलग अलग टूरिस्‍ट प्‍लेस में घूमने का पैकेज भी ऑफर किया जा सकता है।
 
सेमी लग्‍जरी टूरिस्‍ट ट्रेन भी चलेंगी
 
रेलवे की योजना है कि लग्‍जरी के अलावा सेमी लग्‍जरी टूरिस्‍ट ट्रेन भी चलाई जाएं। जो पूरी तरह एयर-कंडीशंड हों और इनका किराया लगभग राजधानी के समान होगा। इन ट्रेन के लिए एक पैकेज बनाया जाएगा, जिसमें ट्रेन जर्नी के अलावा लोकल ट्रांसपोर्टेशन, साइड देखना, खाना भी शामिल होगा। साथ ही, इसमें मिलने वाले सुविधाएं एक 3 स्‍टार होटल के समान होंगी।
 
बुद्धिस्‍ट स्‍पेशल ट्रेन
 
रेलवे देश में पॉपुलर बुद्धिस्‍ट सर्किट के लिए अलग स्‍पेशल ट्रेन चलाना चाहता है। इस तरह की एक ट्रेन महापरिनिर्वाण एक्‍सप्रेस चलाई जा रही है, लेकिन रेलवे की योजना है कि इसे एक रेगुलर फीचर बनाया जाए और इस ट्रेन में सेमी लग्‍जरी ट्रेन जैसी सुविधाएं दी जाएं।
 
भारत दर्शन ट्रेन
 
रेलवे द्वारा भारत दर्शन ट्रेनें अभी चला रहा है, लेकिन पॉलिसी में स्‍पष्‍ट किया गया है कि रेलवे इनकी संख्‍या बढ़ाकर अधिक से अधिक टूरिस्‍ट को अपना कंज्‍यूमर बनाना चाहता है। यह ट्रेन मास के लिए होगा, जिसमें स्लिपर क्‍लास कोच और पेंट्री कार होगा। इन ट्रेन का किराया मेल या एक्‍सप्रेस ट्रेन के समान होगा।
 
आस्‍था सर्किट ट्रेन
 
रेलवे ने पिछले कुछ समय से धार्मिक पर्यटन केंद्रों की ओर विशेष फोकस किया है। इस पॉलिसी में भी इसकी झलक दिखाई देगी। रेलवे द्वारा आस्‍था सर्किट ट्रेन और स्‍टेट तीर्थ ट्रेन चलाई जाएंगी। आस्‍था सर्किट ट्रेन का रूट इस तरह से तैयार किया जाएगा, ताकि देश के ज्‍यादा से ज्‍यादा धार्मिक स्‍थल कवर हो जाए। जबकि स्‍टेट तीर्थ ट्रेन राज्‍यों की रिक्‍वेस्‍ट पर चलाई जाएंगी।
 
फ्लेक्‍सी पैकेज टूरिस्‍ट ट्रेन
 
यह ट्रेन अलग-अलग वर्ग को ध्‍यान में रखते हुए शुरू की जाएगी, इसमें डिमांड के मुताबिक स्लिपर 3ए, 2ए और 1ए कोच लगाए जाएंगे। इसका किराया भी नॉमर्ल होगा और आईआरसीटीसी द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं दी जाएंगी। टूरिस्‍ट को अलग-अलग ऑप्‍शन दिए जाएंगे, जैसे कि वे ऑफ बोर्ड सर्विसेज, आवास, साइट देखना, लोकल ट्रांसपोर्टेशन चाहते हैं या नहीं।
 
ये भी होंगी नई ट्रेन
 
इनके अलावा रेलवे ऑर्डनरी टूरिस्‍ट ट्रेन, हिल टूरिस्‍ट ट्रेन स्‍टीम टूरिस्‍ट ट्रेन भी चलाएगा। इसके अलावा ऑर्डनरी टूरिस्‍ट कोच, डेडिकेटेड टूरिस्‍ट कोच भी लगाए जाएंगे। इतना ही नहीं, फॉरेन टूरिस्‍ट कोटा भी निर्धारित किया जाएगा, जिसका ग्‍लोबल लेवल भी एडवर्टाइज किया जाएगा और इसमें एक साल के दौरान कोई भी फॉरेन टूरिस्‍ट बुकिंग करा सकते हैं। ताकि फॉरेन टूरिस्‍ट यदि एक साल पहले भी इंडिया का टूर प्‍लान कर रहा है तो वह आसानी से बुकिंग करा सके।
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY