Home »Economy »Infrastructure» PM Modi Inaugurates Indias Longest Road Tunnel The Chenani-Nashri Tunnel In J&K

मोदी ने J&K में किया सुरंग का इनॉगरेशन, कहा- कश्मीरी युवा टूरिज्म और टेररिज्म में से चुनें रास्ता

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर देश की सबसे लंबी सड़क सुरंग चेनानी-नशारी का इनॉगरेशन किया। तकरीबन 9.2 किमी लंबी इस सुरंग को बनाने में 2519 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। इस सुरंग से आवाजाही शुरू होने से जम्‍मू–कश्‍मीर के बीच करीब 30 किमी की दूरी और दो घंटे का समय कम हो जाएगा। साथ ही इससे साल में करीब 99 करोड़ रुपए के फ्यूल की बचत होगी। चेनानी-नशारी एशिया की सबसे बड़ी बाय-डायरेक्‍शनल हाइवे सुरंग है। 

 
इस मौके पर जम्‍मू-कश्‍मीर के राज्‍यपाल एनएन वोहरा, मुख्‍यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती मौजूद, रोड एंड ट्रांसपोर्ट मिनिस्‍टर नितिन गडकरी और पीएमओ में राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह भी मौजूद थे। सुरक्षा कारणों से जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर यातायात रोक दिया गया। इससे पहले, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने बताया कि यह जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए गर्व की बात है कि पीएम मोदी खुद इस सुरंग को देश को समर्पित करेंगे।
 
 
पीएम मोदी बोले, कश्‍मीर को विकास की नई ऊंचाईयों पर ले जाएंगे
सुरंग के उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उधमपुर में लोगों को संबोधित किया। यहां उन्‍होंने कहा कि कश्‍मीरियत, इंसानियात और जम्‍हूरियत के मूलमंत्र को लेकर हम कश्‍मीर को विकास की नई ऊंचाइयों पर लेकर जाएंगे। उन्‍होंने आगे कहा, ‘हिंसा के रास्‍ते पर चलकर किसी का कोई न भला हुआ है और न ही होगा।' 
 
टूरिज्‍म और टेररिज्‍म में से चुनें अपना रास्‍ता  
पीएम मोदी ने कहा कि कश्‍मीर के युवाओं के सामने दो रास्‍ते हैं। एक टूरिज्‍म और दूसरा टेररिज्‍म। उन्‍होंने युवाओं से कहा कि अगर आप अपने सूफी कल्‍चर को दरकिनार कर दोगे, तो आप अपना वर्तमान खो देंगे और भविष्‍य अंधकारमय हो जाएगा। एक तरफ जहां कुछ भटके हुए युवा पत्‍थर फेंक रहे हैं और कुछ ने पत्‍थरों को काटकर ये सुरंग तैयार कर ली है।  पाकिस्‍तान पर हमला बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बॉर्डर के उस पर रहने वाले तो खुद की भी रक्षा नहीं कर सकते। वे लोग कश्‍मीर में उपद्रव मचाने की कोशिश में लगे रहते हैं।
 
 
क्‍यों महत्‍वपूर्ण है यह सुरंग?
इस सुरंग को बनने में सात साल का समय लगा है। यह सुरंग सभी मौसम में मौजूदा जम्‍मू-कश्‍मीर हाइवे  के अल्‍टरनेटिव के रूप में काम करेगी। सुरंग से हर साल करीब 99 करोड़ रुपए के फ्यूल की बचत होगी। साथ ही रोज करीब 27 लाख का फ्यूल बचने की संभावना है। सुरंग से राज्‍य की दोनों राजधानियों जम्मू और श्रीनगर के बीच की आवाजाही का समय दो घंटे तक कम हो जाएगा। चेनानी और नाशरी के बीच की दूरी 41 किलोमीटर से घटकर 10.9 किलोमीटर रह जाएगी। यह सुरंग 1,200 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह सुरंग उधमपुर को रामबन जिले के साथ जोड़ती है।  
 
कितना देना होगा टोल चार्ज? 
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस सुरंग से गुजरने पर कार को एक तरफ से 55 रुपए और आने-जाने के लिए 85 रुपए देना होगा। एक कार के  मंथली पास के लिए 1870 रुपए देना होगा। पीक-अप और स्‍मॉल बस जैसे बड़े व्‍हीकल के लिए एक तरफ से 90 रुपए और दोनों तरफ से 135 रुपए टोल चार्ज लगेगा। बस और ट्रक को सिंगल जर्नी के लिए 190 और रिटर्न के साथ 285 रुपए देना होगा। 
 
अलगाववादी क्‍यों कर रहे हैं विरोध?
जम्‍मू-कश्मीर के अलगाववादियों ने चेनानी-नशारी सुरंग के इनॉगरेशन के लिए पीएम मोदी की विजिट का विरोध कर रहे हैं। हुर्रियत कॉन्‍फ्रेंस के विरोधी गुटों के चेयरमैन सैयद अली शाह गिलानी और मीरवाइज उमर फारूक और जेकेएलएफ चेयरमैन मोहम्‍मद यासिन मलिक ने ज्‍वाइंट स्‍टेटमेंट में कहा है कि सुरंग और रोड का कंस्‍ट्रक्‍शन कंस्‍ट्रक्‍शन या डेवपलमेंट की सभी कवायद व्‍यर्थ है। यह हमें नहीं लुभा पाएंगे। उन्‍होंने कहा कि पीएम ऐसे समय में राज्‍य का दौरा कर रहे हैं, जब हालात बेहद खराब हैं। 
 
भारत की पहलीTVSसुरंग
चेनानी-नशारी सुरंग जम्‍मू-श्रीनगर नेशनल हाइवे 44 पर स्थित हैं। यह भारत की पहली और दुनिया की छठवीं ऐसी सुरंग है जिसमें ट्रांस्‍वर्स वेंटिलेशन सिस्‍टम है। इस सिस्‍टम के जरिए पैसेंजर्स को फ्रेश एयर मिलती है। स्‍वच्‍छ हवा के स्‍तर को बनाए रखने के साथ-साथ कार्बन डाई ऑक्‍साइड के लेवल के तय सीमा में रखने और वाहनों के हानिकारक इमिशन को बाहर करता है। इस सिस्‍टम को ग्‍लोबल इंडस्ट्रियल टेक्‍नोलॉजी कंपनी एबीबी ऑपरेट करेगी। यह कंपनी करीब 100 देशों में कामकाज करती है।
 
सुरंग की कुछ और खासियत
इस सुरंग को इंटीग्रेटेड टनल कंट्रोल सिस्टम से लैस किया गया है, जिसमें एयर, कम्युनिकेशन, बिजली आपूर्ति और किसी घटना की पहचान की जा सकेगी। यहां हर 150 मीटर पर एक एसओएस कॉल बाक्स और अग्निरोधक सिस्टम लगाया गया है। सुरंग में आग या सेफ्टी इक्विपमेंट्स इंटरनेशनल लेवल के लगाए गए हैं। सेफ्टी के लिए सुरंग के साथ एक अन्य 9 किमी लंबी सुरंग भी है।
 
 
 

Recommendation

    Don't Miss

    NEXT STORY