• Home
  • Govt to soon start work on 10 express highways: Gadkari

10 एक्‍सप्रेस हाईवे पर जल्‍द शुरू होगा काम, बढ़ेगी ग्रोथ रेट

Policy Team

Jul 20,2015 05:57:00 PM IST
नई दिल्‍ली. फास्‍ट कनेक्टिविटी के लिए रोड इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर पर सरकार तेज गति से काम कर रही है। इसके लिए केंद्र सरकार 10 विश्‍व स्‍तरीय हाईवे के निर्माण का काम शुरू करने जा रही है। इन हाईवे से न सिर्फ ट्रेवल के समय की बचत होगी, बल्कि देश की आर्थिक विकास दर को भी इससे गति मिलेगी। यह जानकारी रविवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दी।
रोड ट्रांसपोर्ट और हाईवे मामलों के मंत्री गडकरी ने कहा कि हम जल्‍द मुंबई-पुणे एक्‍सप्रेस हाईवे की तर्ज पर 10 एक्‍सप्रेस वे पर काम करने जा रहे हैं। इनमें नागपुर-मुंबई, बेंगलुरु-चेन्‍नई, बड़ौदा-मुंबई, कटरा-अमृतसर और लुधियान-दिल्‍ली एक्‍सप्रेस हाईवे शामिल होंगे।
गडकरी ने कहा कि इन प्रोजेक्‍ट पर जल्‍द काम शुरू होने जा रही है और इनके पूरे हो जाने पर प्रमुख शहरों के बीच ट्रेवल का समय बचेगा, बल्कि इससे आर्थिक विकास की दर भी बढ़ेगी।
उन्‍होंने कहा कि ये सभी एक्‍सप्रेस हाईवे विश्‍वस्‍तरीय होने जा रहे हैं। इनकी गुणवत्‍ता विकसित देशों की हाईवे की तरह होगी। और इनके पूरे हो जाने पर ईंधन की भी काफी बचत होगी।
महाराष्‍ट्र के पीडब्‍ल्‍यूडी मंत्री के रूप में गडकरी ने ही मुंबई-पुणे एक्‍सप्रेस वे का निर्माण कराया था। राज्‍य में कई सारे फ्लार्इओवर के निर्माण के लिए उन्‍हें 'फ्लाईओवर मैन' के रूप में भी जाना जाता है।
उन्‍होंने कहा कि इन 10 प्रस्‍तावित प्रोजेक्‍ट में शामिल लगभग 6000 करोड़ रुपए का बेंगलुरु-चेन्‍नई एक्‍सप्रेसवे कंक्रीट सीमेंट का होगा।
गडकरी ने कहा कि नागपुर-मुंबई एक्‍सप्रेस हाईवे महाराष्‍ट्र के दो प्रमुख राज्‍यों नागपुर और औरंगाबाद को मुंबई से जोड़ेगा और इससे समय की बचत होगी।
लुधियाना-दिल्‍ली एक्‍सप्रेसवे के जरिए दिल्‍ली और लुधियाना को जोड़ा जाएगा। इसके एक अलग नोड के जरिए चंडीगढ़ को भी जोड़ा जाएगा। इससे दिल्‍ली और लुधियाना के बीच की दूरी में 50 किलोमीटर की कमी आएगी।
जीडीपी में दो फीसदी का होगा इजाफा
गडकरी ने कहा उनका मंत्रालय जीडीपी की विकास दर में कम से कम दो प्रतिशत का इजाफा करने के लिए प्रतिबद्ध है। इससे आने वाले दो वर्षों में सड़क दुर्घटनाओं में भी 50 फीसदी से अधिक की कमी आएगी।
पांच लाख सड़क दुर्घटनाएं होती हैं सालाना
उन्‍होंने कहा कि सालाना 5 लाख सड़क दुर्घटनाओं की वजह से लगभग तीन लाख लोग विकलांग हो जाते हैं, जबकि 1.5 लाख लोग अपनी जिंदगी खो देते हैं।
उन्‍होंने कहा कि उनकी सरकार हाईवे और शिपिंग सेक्‍टर में कम से कम 50 लाख रोजगार सृजन के लिए प्रतिबद्ध है। इन सेक्‍टर में उनकी योजना 6 लाख करोड़ रुपए के प्रोजेक्‍ट के क्रियान्‍वयन की है।
रोड इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर देश के विकास की चाबी
इस महीने के शुरू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सड़क इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर देश के विकास की चाबी है। भारत की 33 लाख किलोमीटर का सड़क नेटवर्क दुनिया में दूसरे नंबर पर है। इसमें 92,851 किलोमीटर नेशनल हाईवे है, जो सड़क नेटवर्क का सिर्फ 1.7 फीसदी है, लेकिन उनसे कुल रोड़ ट्रैफिक का लगभग 40 फीसदी ट्रैफिक गुजरता है।
X

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.