• Home
  • Bullet train will need 100 trips daily to be financially viable: study

कितने साल रोजाना 100 फेरे लगाएगी बुलेट ट्रेन, तब जाकर चुका पाएगी कर्ज

मुंबई-अहमदाबाद के बीच पहला हाई स्पीड रेल रूट बनेगा। इसके लिए जापान लोन दे रहा है। मुंबई-अहमदाबाद के बीच पहला हाई स्पीड रेल रूट बनेगा। इसके लिए जापान लोन दे रहा है।
दिसंबर में दिल्ली में जापान के पीएम शिंजो आबे और मोदी ने बुलेट ट्रेन एग्रीमेंट पर दस्तखत किए थे। दिसंबर में दिल्ली में जापान के पीएम शिंजो आबे और मोदी ने बुलेट ट्रेन एग्रीमेंट पर दस्तखत किए थे।

Economy Team

Apr 18,2016 09:43:00 PM IST
अहमदाबाद. रेलवे को मुंबई-अहमदाबाद के बीच प्रपोज्ड बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट को वायेबल बनाने के लिए रोजाना 88 हजार से 1.18 लाख पैसेंजर्स को लेकर चलना होगा। उसे 15 साल तक रोजाना इतने पैसेंजर्स के साथ 100 फेरे लगाने होंगे। तब जाकर वह कर्ज चुका पाएगी। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट अहमदाबाद (आईआईएम-ए) की एक रिपोर्ट में ये बातें सामने आई हैं। हर पैसेंजर पर कितना किराया तय करना होगा...
- रिपोर्ट ‘डेडिकेटेड हाई स्पीड रेलवे (एचएसआर) नेटवर्क्स इन इंडियाः इश्यूज इन डेवलपमेंट’ कहती है कि यदि रेलवे 300 किलोमीटर लंबे सफर के लिए पर पैसेंजर्स किराया 1,500 रुपए तय करता है तो उसे 15 साल तक रोजाना 88 हजार से 1.18 लाख पैसेंजर्स को ढोना पड़ेगा। इसके बाद ही उसके लिए कर्ज को ब्याज सहित चुकाना मुमकिन होगा।
- जापान ने प्रोजेक्ट की कुल लागत के 80 फीसदी कंसेशनल लोन की पेशकश की है। यह करीब 97,636 करोड़ रुपए के बराबर है।
- इसके लिए रीपेमेंट का पीरियड 50 साल का है। यह बुलेट ट्रेन के ऑपरेशन के 16th साल से 0.1 फीसदी इंटरेस्ट रेट से चुकाया जाएगा।
- बाकी 20 फीसदी लोन के लिए 8 फीसदी एवरेज इंटरेस्ट रेट होगा। जापान ने लोन पर 15 साल के मोरेटोरियम की पेशकश की है।
अभी साफ नहीं है ऑपरेटिंग कॉस्ट
- यह ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद के बीच करीब 500 किलोमीटर की दूरी तय करेगी।
- आईआईएम के पब्लिक सिस्टम ग्रुप के प्रोफेसर जी रघुराम और प्रशांत उदय कुमार की ज्वाइंट रिपोर्ट के मुताबिक भले ही इस प्रोजेक्ट की एक्चुअल ऑपरेटिंग कॉस्ट अभी पता नहीं है, लेकिन इसके लिए 20 फीसदी कॉस्ट और 40 फीसदी रेवेन्यू के दो सिनेरियो को लेकर चलना होगा।
इतने पैसेंजर्स की होगी जरूरत
- रघुराम ने कहा, ‘ यदि रेलवे 100 रुपए का रेवेन्यू कमाती है तो 20 रुपए या 40 रुपए रखरखाव पर जाएंगे। बाकी सरप्लस रकम इंटरेस्ट सहित लोन के रीपेमेंट पर जाएगी। अब दोनों सिनेरियो में ऑपरेटिंग कॉस्ट के साथ लोन को कवर करने के लिए हम मानते हैं कि हर पैसेंजर एवरेज 300 किलोमीटर का सफर करेगा। इस स्थिति में हमें 88 हजार से 1.18 लाख पैसेंजर्स की जरूरत होगी।’
आगे स्लाइड्स में बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर एक नजर...
बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर एक नजर - 505 किमी लंबे मुंबई-अहमदाबाद रूट पर चलेगी पहली बुलेट ट्रेन। - 7 घंटे लगते हैं दोनों स्टेशनों के बीच सफर में। - 300 KMPH रफ्तार से चलेगी बुलेट ट्रेन। - 2 घंटे का रह जाएगा दोनों शहरों के बीच सफर। - 98 हजार करोड़ रुपए होगी प्रोजेक्ट की कॉस्ट। 81% कॉस्ट जापान उठाएगा। - 11 टनल बनेंगी मुंबई-अहमदाबाद रूट में। जिसमें एक टनल समुद्र के अंदर होगी। - 1% से भी कम इंटरेस्ट रेट पर जापान भारत को लोन देगा। यह लोन 50 साल के लिए होगा। चीन के मुकाबले हम कहां होंगे? - भारत 6 साल में 500 किमी हाई स्पीड ट्रेन कॉरिडोर बनाएगा। - वहीं, चीन ने सिर्फ 6 साल में 6000 किमी हाई स्पीड ट्रेन कॉरिडोर बनाया है। दुनिया के मुकाबले हम कहां हैं? देश ट्रेन स्पीड 1. फ्रांस टीजीवी 320 KMPH 2. चीन एचएसआर 300 KMPH 3. जर्मनी आईसीई 300 KMPH 4. भारत राजधानी एक्सप्रेस 140 KMPH गतिमान एक्सप्रेस (दिल्ली-आगरा के बीच प्रस्तावित) 160 KMPH 5. जापान शिंकान्शेन 285 KMPH 6. इटली ईटीआर 300 KMPH
X
मुंबई-अहमदाबाद के बीच पहला हाई स्पीड रेल रूट बनेगा। इसके लिए जापान लोन दे रहा है।मुंबई-अहमदाबाद के बीच पहला हाई स्पीड रेल रूट बनेगा। इसके लिए जापान लोन दे रहा है।
दिसंबर में दिल्ली में जापान के पीएम शिंजो आबे और मोदी ने बुलेट ट्रेन एग्रीमेंट पर दस्तखत किए थे।दिसंबर में दिल्ली में जापान के पीएम शिंजो आबे और मोदी ने बुलेट ट्रेन एग्रीमेंट पर दस्तखत किए थे।

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.