बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureआधी कीमत पर मिलेंगे इलेक्ट्रिक व्‍हीकल, सरकार बना रही है प्‍लान

आधी कीमत पर मिलेंगे इलेक्ट्रिक व्‍हीकल, सरकार बना रही है प्‍लान

सरकार का टारगेट है कि साल 2030 तक देश में सौ फीसदी वाहन बिजली से चलें। सरकार ने इस दिशा में तेजी से काम शुरू कर दिया है।

1 of

नई दिल्‍ली। सरकार का टारगेट है कि साल 2030 तक देश में सौ फीसदी वाहन बिजली से चलें। सरकार ने इस दिशा में तेजी से काम शुरू कर दिया है। लेकिन सरकार के सामने सबसे बड़ी दिक्‍कत यह है कि इलेक्ट्रिक व्‍हीकल, यानी बिजली से चलने वाली गाड़ी की कीमत काफी अधिक है। इन दिनों बाजार में जो इलेक्ट्रिक व्‍हीकल उपलब्‍ध हैं, उनकी कीमत लगभग दोगुना है। जैसे कि बैटरी से चलने वाली फैमिली कार की कीमत 12 लाख रुपए के आसपास है, जबकि पेट्रोल और डीजल से चलने वाली वैसे ही कार की कीमत 4 से 6 लाख रुपए है। यही वजह है कि अब सरकार ने बैटरी  से चलने वाली कारों की कीमत को कम करने के लिए एक प्‍लान बनाया है। 

 

किसको सौंपी कमान 
सरकार ने एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड को यह कमान सौंपी है कि वह भारत में इलेक्ट्रि‍क व्‍हीकल की मार्केट को मैनेज करे। एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) चार नेशनल पीएसयू - एनटीपीसी लिमिटेड, पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन, रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉरपोरेशन (आरईसी) और पावर ग्रिड का ज्‍वाइंट वेंचर है। ईईएसएस एक सुपर एनर्जी सर्विस कम्‍पन्‍नी है। ईईएसएल द्वारा देश में इलेक्ट्रिक व्‍हीकल के लिए इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और माहौल खड़ा करना है। 

 

ईईएसएल ने क्‍या किया 
ईईएसएल ने सबसे पहले 10 हजार इलेक्ट्रिक कारें खरीदने का निर्णय लिया है। यह कारें सरकारी विभागों को दी जाएंगी। ईईएसएल के मुताबिक, अभी वे इन कारों को 11 से 12 लाख रुपए के बीच में खरीदेंगे और लगभग इसी कीमत पर सरकारी विभागों को दी जाएंगी, लेकिन जो विभाग पूरी कीमत नहीं देंगे, उन्‍हें लीज पर ये कारें दी जाएंगी। 

 

आगे पढ़ें - 5 लाख कारें खरीदने की तैयारी 

5 लाख कारें खरीदेगी ईईएसएल 
दरअसल, लगभग तीन साल पहले ईईएसएल को एलईडी बल्‍ब खरीद कर लोगों को उपलब्‍ध कराने को कहा गया था। ईईएसएल ने जो बिजनेस मॉडल अपनाया, उसको खासी सफलता मिली। ईईएसएल ने एलईडी की बल्‍क खरीददारी शुरू की गई और एलईडी बल्‍ब की कीमत लगातार कम होती चली गई। जो बल्‍ब तीन साल साल 350 रुपए का था, वह देखते ही देखते 45 रुपए के आसपास पहुंच गया। इससे इंडस्‍ट्री को मिले माहौल की वजह से ओपन मार्केट में भी एलईडी बल्‍ब की कीमत तेजी से कम हुई। ईईएसएल के अधिकारियों का कहना है कि लगभग ऐसा ही मॉडल इलेक्ट्रिक व्‍हीकल की खरीददारी के वक्‍त अपनाया जा रहा है। पहले लॉट में 10 हजार कारें खरीदी जा रही हैं। इसके बाद इन कारों की संख्‍या बढ़ाई जाएगी। ईईएसएल के मुताबिक, आने वाले तीन से चार साल में 5 लाख इलेक्ट्रिक व्‍हीकल की खरीददारी की जाएगी। 

 

आधी हो जाएगी कीमत 
ईईएसएल के अधिकारी ने बताया कि बल्‍क खरीददारी के बाद ऑटोमोबाइल कंपनियां इलेक्ट्रिक व्‍हीकल मैन्‍युफैक्‍चरिंग के लिए इंफ्रास्‍ट्रकचर बढ़ाएंगी। साथ ही, सड़कों पर इलेक्ट्रिक गाडि़यों की संख्‍या बढ़ने पर चार्जिग इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर भी बढ़ाना होगा। इससे मार्केट में माहौल बनेगा और लोग भी इलेक्ट्रिक कारें खरीदने के लिए प्रति आकर्षित होंगे। इसके साथ ही मार्केट में डिमांड बढ़ने पर कीमत होना लाजिमी है और उम्‍मीद है कि कुछ साल बाद इलेक्ट्रिक कारों की कीमत लगभग आधी हो जाएगी। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट