Home » Economy » InfrastructureThe world continued to oppose and India made nuclear test 4 decisions of Atal bihari who changed the picture of India

दुनिया विरोध करती रही और भारत ने कर दिया परमाणु परीक्षण, अटल के 4 फैसलोंं ने बदली भारत की तस्वीर

उन्होंने प्रधानमंत्री रहते कुछ ऐसे फैसले लिए, जिनसे भारतीय अर्थव्यवस्था की दिशा बदल गई।

1 of
नई दिल्ली. देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम को दिल्ली के एम्स में निधन हो गया। पिछले कुछ दिनों से दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती वाजपेयी को लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा हुआ था। देश के 3 बार प्रधानमंत्री रहने वाले अटल बिहारी वाजपेयी वही शख्स हैं, जिन्होंने दुनिया के नक्शे पर भारत को नई पहचान दी। दरअसल, उन्होंने प्रधानमंत्री रहते कुछ ऐसे फैसले लिए, जिनसे भारतीय अर्थव्यवस्था की दिशा बदल गई। 

 
1. परमाणु परीक्षण कर दिखाई ताकत 
वाजपेयी देश के कुछ उन चुनिंदा प्रधानमंत्रियों में से एक हैं, जो अपने साहसिक फैसलों के लिए जाने जाते हैं। ऐसा ही एक फैसला था पोखरण परमाणु परीक्षण। 1998 का वह साल जब अटल ने पोखरण में 2 दिन में 5 परमाणु परीक्षण कर सारी दुनिया को चौंका दिया था। यह भारत का दूसरा परमाणु परीक्षण था। इससे पहले 1974 में पहला परमाणु परीक्षण किया गया था। दुनिया भर के संपन्‍न देशों अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान और कनाडा के विरोध के बावजूद अटल ने देश की परमाणु संपन्‍नता का उदाहरण पेश करते हुए भारत की ताकत से दुनिया को अवगत करा दिया था। 
आगे पढ़ें : देश को सड़कों से जोड़ा 
 
2. स्वर्णिम चतुर्भुज और ग्राम सड़क योजना 
वाजपेयी सरकार की सबसे बडी उपलब्धियों में से एक है उनकी सड़क परियोजनाएं। इनमें स्वर्णिम चतुर्भुज और प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना शामिल हैं। स्वर्णिम चतुर्भुज योजना ने चेन्नई, कोलकाता, दिल्ली और मुंबई को हाईवे नेटवर्क से कनेक्ट किया। वहीं, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के जरिए गांवों को पक्की सड़कों के जरिए शहरों से जोड़ा गया। वाजपेयी के इस प्रोजेक्ट से देश को आर्थिक विकास में बड़ी मदद मिली।
आगे पढ़ें : सबको मिले पढ़ने का अधिकार 
 
3. सर्व शिक्षा अभियान 
6 से 14 साल के बच्चों को मुफ्त प्राथमिक शिक्षा देने के लिए एक सामाजिक योजना की शुरुआत की गई। 2001 में वाजपेयी सरकार ने सर्व शिक्षा अभियान को लॉन्च किया। योजना लॉन्च होने के 4 साल के भीतर ही स्कूल से बाहर रहने वाले बच्चों की संख्या में 60 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। यह भी देश की आर्थिक तरक्की के लिए बेहतर योजना साबित हुई।
आगे पढ़ें : निजीकरण पर झेलना पड़ा विरोध 

4. निजीकरण 

अटल विहारी वाजपेयी व्यापार और उद्योग चलाने में सरकार की भूमिका कम करने के लिए प्रतिबद्ध थे। इसके लिए उन्होंने अलग से विनिवेश मंत्रालय का गठन किया। सबसे महत्वपूर्ण विनिवेश में भारत एल्युमिनियम कंपनी (BALCO) और हिंदुस्तान जिंक, इंडिया पेट्रोकेमिकल्स कॉरपोरेशन लिमिटेड और VSNL शामिल थे। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट