Home » Economy » InfrastructureSolar city Mission was launched by Modi Govt in 2015

इन 55 शहरों में 24 घंटे मिलती सस्ती बिजली, लेकिन मोदी की यह स्कीम हो गई फेल

मोदी सरकार ने 2015 में शुरू की थी यह स्कीम

1 of

नई दिल्ली. लोगों को 24 घंटे सस्ती बिजली देने के लिए मोदी सरकार ने सोलर सिटी मिशन की शुरुआत की थी. इसके तहत देश के 55 शहरों को सोलर सिटी बनाने का निर्णय लिया गया था। लेकिन पिछले काफी समय से केंद्र सरकार ने इस मिशन की समीक्षा तक नहीं की है। कई शहरों के सोलर सिटी मास्टर प्लान बन कर तैयार हैं, लेकिन उसके बाद काम शुरू नहीं हुआ। अगर यह हो जाता है कि इन शहरों में लोगों को न केवल 24 घंटे बिजली मिलती, बल्कि सोलर पावर की कीमतों मे आई कमी का फायदा भी लोगों को मिल रहा होता। 
 
किन शहरों में बदल जाती तस्वीर 
सोलर सिटी के लिए स्वीकृत शहरों की सूची इस प्रकार हैः
उत्तर प्रदेशः आगरा, मुरादाबाद, इलाहाबाद
मध्य प्रदेशः इंदौर *, ग्वालियर, भोपाल, रीवा
पंजाबः अमृतसर, लुधियाना, एसएएस नगर (मोहाली)
राजस्थानः अजमेर, जयपुर *, जोधपुर
हरियाणाः गुड़गांव, फरीदाबाद
हिमाचल प्रदेशः हमीरपुर, शिमला
छत्तीसगढ़ः बिलासपुर, रायपुर
उत्तराखंडः देहरादून, हरिद्वार और ऋषिकेश, चमोली
दिल्लीः नई दिल्ली (एनडीएमसी क्षेत्र)
महाराष्ट्रः नागपुर, थाणे, कल्याण-डोंबीवली, औरंगाबाद, नांदेड़, शिरड़ी
चंडीगढ़ः चंडीगढ़
गुजरातः राजकोट, गांधीनगर, सूरत
आंध्र प्रदेशः विजयवाड़ा, महबूबनगर *
असमः जोरहाट, गुवाहाटी
अरुणाचल प्रदेशः इटानगर
गोवाः पणजी सिटी
कर्नाटकः मैसूर, हुबली-धारवाड़
केरलः तिरुवनंतपुरम *, कोच्चि
मणिपुरः इंफाल
मिजोरमः एजवाल
नागालैंडः कोहिमा, दीमापुर
ओडिशाः भुवनेश्वर
तमिलनाडुः कोयंबटूर
त्रिपुराः अगरतला
पश्चिम बंगालः हावड़ा, मध्यमग्राम, न्यू टाउन कोलकाता
जम्मू-कश्मीरः लेह *
पुडुचेरीः पुडुचेरी
*सिर्फ सैद्धांतिक मंजूरी दी गई है।

 

आगे पढ़ें : क्या है सोलर सिटी मिशन 

क्या है सोलर सिटी?
सोलर सिटी का उद्देश्य संबंधित शहरों में नवीकरण ऊर्जा स्रोतों से आपूर्ति बढ़ाकर और ऊर्जा कुशलता के उपायों से पारंपरिक ऊर्जा की मांग में 10 फीसदी तक की कमी लाना है। इसका एक मुख्य उद्देश्य स्थानीय सरकारों को नवीकरण ऊर्जा प्रौद्योगिकियों को अपनाने के लिए प्रेरित करना भी है। एक सोलर सिटी में सोलर, पवन, बायोमास, छोटी पनबिजली, कचरे आदि से बिजली बनाने की इकाइयों की स्थापना की जा सकती है।
 

आगे पढ़ें : क्यों लॉन्च किया मिशन 


सोलर सिटी की क्यों है जरूरत
शहरीकरण और आर्थिक विकास के चलते देश के शहरी इलाकों में ऊर्जा की मांग में बढ़ोत्तरी से देश में ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन तेजी से बढ़ा है। दुनिया में कई शहर नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए लक्ष्य तय कर रहे हैं और नीतियां बना रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका जैसे देशों में तेजी से सोलर सिटी विकसित किए जा रहे हैं।
इसके अलावा कई भारतीय शहरों में बिजली की मांग तेजी से बढ़ रही है और बिजली कंपनियों के लिए मांग को पूरा करना मुश्किल हो रहा है। नतीजतन शहरों को बिजली की कमी का सामना करना पड़ रहा है। इसको देखते सरकार ने ‘डेवलपमेंट ऑफ सोलर सिटी प्रोग्राम’ लॉन्च किया था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट