Advertisement
Home » इकोनॉमी » इंफ्रास्ट्रक्चरRecent order of Supreme court against Amrapali

NBCC पूरा करेगी अाम्रपाली के प्रोजेक्ट्स, DRT जुटाएगा पैसा : सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने DRT से कहा है कि वह आम्रपाली के प्रोजेक्ट्स को बेचने का काम करे

Recent order of Supreme court against Amrapali

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अम्रपाली ग्रुप के रुके हुए प्रोजेक्ट्स को पूरा करने की जिम्मेवारी नेशनल बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन लिमिटेड (NBCC) को सौंप दी है। साथ ही,  डेट्स रिकवरी ट्रिब्यूनल (DRT) को निर्देश दिए हैं कि वे आम्रपाली की कमर्शियल प्रॉपर्टी को बेचे। 

 

फोरेंसिक ऑडिटर करेंगे ऑडिट 

सुप्रीम कोर्ट ने एक एस्क्रो अकाउंट खोलने का भी निर्देश दिया,  जिसमें आम्रपाली की प्रॉपर्टी बिकने के बाद मिलने वाली राशि जमा कराई जाएगी। यह रकम एनबीसीसी को दी जाएगी, ताकि वह प्रोजेक्ट्स पूरे कर सके। कोर्ट ने यह भी कहा कि आम्रपाली ग्रुप की सभी 46 कंपिनयों की बैलेंस सीट फोरेंसिक ऑडिटर को सौंप दी जाएं। इन कंपनियों में 2008 में खुली जोतिंद्र स्टील भी शामिल है। 

 

बैंकों से बातचीत कर सकती है आम्रपाली 

खंडपीठ ने एनबीसीसी से कहा कि उन्हें सभी रुके हुए प्रोजेक्ट्स को समय पर पूरा करना होगा। कोर्ट इन सभी प्रोजेक्ट्स की पूरी मॉनिटरिंग करेगी। हालांकि कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप को अपनी रुके हुए प्रोजेक्ट्स के निर्माण के वित्तपोषण के लिए बैंकों, हुडको और अन्य वित्तीय संस्थानों के साथ बातचीत करने की स्वतंत्रता दी।

Advertisement

 

ऐसे आएंगे 1590 करोड़ 
अदालत ने नोट किया कि अनसोल्ड इन्वेंटरी की बिक्री से 1,590 करोड़ रुपये उत्पन्न किए जा सकते हैं और कहा कि डीआरटी के अधिकारी धर्मेंद्र सिंह राठौर को कॉमर्शियल प्रॉपर्टी की लिस्ट सौंपी गई है, जिन्हें बेचा जा सकता है। यह कहा गया है कि इन प्रॉपर्टी पर नोएडा और ग्रेटर नोएडा के कुछ बंधन हो सकते हैं, जिन्हें बाद के चरण में भुगतान किया जाएगा। कोर्ट ने कहा कि आम्रपाली, डीआरटी अधिकारी को सभी जरूरी जानकारी उपलब्ध कराए। 

 

रिटर्न दाखिल न करने पर उठाया सवाल 
खंडपीठ ने आम्रपाली ग्रुप समूह से भी सवाल किया कि उसने 2015 से आयकर रिटर्न क्यों नहीं दायर की थी और रिटर्न के गैर-दाखिल करने पर अपने घर के लेखा परीक्षक क्या कर रहे थे। आम्रपाली के लिए उपस्थित वकील गौरव भाटिया ने कहा कि मुकदमेबाजी के कारण आईटी रिटर्न दाखिल नहीं किया गया था। बेंच ने कहा, "कंपनी ने आयकर रिटर्न दायर नहीं की। हम हर तथ्य को जानना चाहते हैं कि पैसा कहां चला गया है, पैसे के साथ क्या किया गया है, लेकिन आप (आम्रपाली) ने सब कुछ अंधेरे में रखा है"। 

Advertisement

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement