Home » Economy » Infrastructureproducts of Steel authority of India

बिल्डिंग, फ्लाईओवर्स को मजबूती देगा यह बीम, SAIL ने की रोलिंग

सेल देश की पहली ऐसी कंपनी बन गई है, जिसने 750 मिमी की एनपीबी की रोलिंग की है।

products of Steel authority of India

नई दिल्ली . स्टील अथॉरिटी ऑफ इण्डिया लिमिटेड (SAIL) ने देश में पहली बार एनपीबी-750 (Narrow Parallel  Flange Beam-750) की रोलिंग करने की उपलब्धि हासिल की है। इस तरह सेल देश की पहली ऐसी कंपनी बन गई है, जिसने एनपीबी-750 की रोलिंग की है, जिसकी depth 750 मिलीमीटर होगी। भारतीय मानक ब्यूरो के मानकों के अनुसार एनपीबी-750 तीन अलग-अलग सेक्शनल वजन में उपलब्ध हैं।

 

यह होगा फायदा 
एनपीबी-750 के उत्पादन से देश की आम जनता के इस्तेमाल से जुड़ी सार्वजनिक सुविधाओं जैसे पुल, फ्लाई-ओवर, रेलवे ब्रिज, विभिन्न कारखानों के ढांचों समेत निजी उपयोग के बहुमंजिला मकानों और गगनचुम्बी इमारतों के निर्माण को और अधिक मज़बूती मिलेगी और यह निर्माण लागत में भी कमी लाने का काम करेगी।

 

क्या है एनपी बीम 
दरअसल नैरो पैरेलल फ़्लेंज बीम की depth जितनी अधिक बढ़ती जाती है, उसकी भार सहने की क्षमता में भी उतनी ही वृद्धि होती जाती है। इस तरह एनपीबी-750 का उत्पादन देश के सार्वजनिक से लेकर निजी निर्माण तक को और अधिक दृढ़ता और मज़बूती प्रदान करने का काम करेगा।

 

अब तक 600 एमएम बीम हैं उपलब्ध 
भारत में सामान्य रूप से 600 मिलीमीटर से अधिक depth के नैरो पैरेलल फ़्लेंज बीम उपलब्ध नहीं होते थे, जिसकी ज़रूरत को निर्माणकर्ता फैब्रिकेशन बीम से पूरा करते थे; वेस्टेज और मजदूरी की अतिरिक्त लागत के चलते निर्माण महंगा पड़ता था। अब एनपीबी-750 उत्पादन के बाद से निर्मांणकर्ताओं को न केवल अतिरिक्त मेहनत से छुटकारा मिलेगा बल्कि उनकी लागत में भी कमी आएगी और इसके साथ ही निर्माण पहले से अधिक मजबूत, तेज़ और सुदृढ़ होगा।

 

यूएसएम ने किया विकसित 
एनपीबी-750 को सेल के बर्नपुर स्थित इस्को इस्पात संयंत्र के यूनिवर्सल स्ट्रक्चरल मिल (यूएसएम) ने विकसित किया है। सेल के इस यूनिवर्सल स्ट्रक्चरल मिल से मई 2017 में उत्पादन शुरू हुआ था और इसके बाद से यह मिल लगातार सेल प्रोडक्ट बास्केट में उत्पादों को विविधता प्रदान करने में जुटा हुआ है। इस्को इस्पात संयंत्र के पैरेलल फ़्लेंज बीम उत्पाद भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) : आईएस 12778 से प्रमाणित हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट