बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureदिल्ली-मुंबई हाई स्पीड कॉरिडोर रूट पर विज्ञापन स्पेस देगी रेलवे, कमाई का बनाएगी जरिया

दिल्ली-मुंबई हाई स्पीड कॉरिडोर रूट पर विज्ञापन स्पेस देगी रेलवे, कमाई का बनाएगी जरिया

रेलवे दिल्ली-मुंबई हाई स्‍पीड कॉरिडोर के दोनों ओर दीवारें बनाकर उन पर विज्ञापन से कमाई करने पर विचार कर रहा है

1 of

नई दिल्‍ली। रेलवे दिल्ली-मुंबई हाई स्‍पीड कॉरिडोर के दोनों ओर दीवारें बनाकर विज्ञापन से कमाई करने पर विचार कर रहा है। यात्री किराए से कमाई बढ़ाने की गुंजाइश अब सी‍मित है। ऐसे में रेलवे वैकल्पिक तरीकों से अपनी आय बढ़ाने पर फोकस कर रहा है। 

 

प्री-फेब्रिकेटेट होगी दीवार 

 

रेलवे सूत्रों के मुताबिक पिछले दिनों रेलवे अधिकारियों ने ऐसे कॉन्‍ट्रेक्‍टर्स के साथ बात की है, जो प्री-फेब्रिकेटेड दीवार बना सकते हैं। रेलवे का प्रयास है कि कम से कम कीमत और समय में ये दीवारें बनाई जाएं और इन पर विज्ञापन दिया जाए। 

 

सेफ्टी वाल जरूरी 
एक अधिकारी ने कहा कि दरअसल, दिल्‍ली मुंबई जैसे हाई स्‍पीड कॉरिडोर पर सेफ्टी के लिए यह बहुत जरूरी है कि दोनों सेफ्टी वाल बनाई जाए। इसलिए यह विचार किया जा रहा है कि इन दीवारों का इस्‍तेमाल रेवेन्‍यू जनरेशन के लिए किया जाए। चूंकि यह कॉरिडोर घनी आबादी वाले इलाकों के बीच से बनाया जाएगा, इसलिए विज्ञापन देने वालों को इसका अधिकतम एक्‍सपोजर मिलेगा। 

 

इन तरीकों से आएगा पैसा 
अधिकारी के मुताबिक, पिछले कुछ समय से रेलवे उन सभी संभावनाओं पर विचार कर रहा है, जिससे रेलवे को किराये के अलावा अतिरिक्‍त अमादनी हो सके। इसमें राइट-ऑफ-वे चार्ज, एडवरटाइजिंग, लैंड मॉनिटाइजेशन, कैटरिंग, पार्किंग आदि शामिल हैं। 

 

दीवार का यह भी होगा फायदा 


अधिकारी ने कहा कि, दीवार बनाने से राजस्‍व ही नहीं, रेलवे की पटरियों पर सुरक्षा बनाए रखने, अतिक्रमण से छुटकारा पाने, मवेशियों या अन्य गड़बडि़यों को कम करने में भी मदद करेगी।  

मंत्रालय के अधिकारियों ने यह भी कहा कि रेलवे पटरियों के साथ के क्षेत्रों में ध्वनि प्रदूषण को कम करने के लिए भी दीवारों का निर्माण करने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है। रेलवे ने दक्षिण दिल्‍ली में पायलट प्रोजेक्‍ट के मुताबिक ऐसी एक दीवार बनाई और पाया कि ऐसी दीवारें लगभग 20 डेसिबल तक ट्रेनों की आवाज को कम करती हैं। ये दीवारें  7-8 फीट ऊंची होंगी। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट