बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureडाकिया बताएगा-घर में बिजली कनेक्‍शन है या नहीं, सरकार करा रही सर्वे

डाकिया बताएगा-घर में बिजली कनेक्‍शन है या नहीं, सरकार करा रही सर्वे

सभी गांवों को बिजली पहुंचाने के बाद मोदी सकरार हर घर में कनेक्‍शन पहुंचाने के वादे को पूरा करने में जुट गई है।

1 of

नई दिल्‍ली। सभी गांवों को बिजली पहुंचाने के बाद मोदी सरकार हर घर में कनेक्‍शन पहुंचाने के वादे को पूरा करने में जुट गई है। इस सिलसिले में पावर मिनिस्‍ट्री में हुई बैठक में बताया गया कि सौभाग्‍य का टारगेट 31 दिसंबर 2018 तक 3.61 करोड़ घरों तक बिजली कनेक्‍शन पहुंचाना है, लेकिन इसके साथ-साथ डाक विभाग द्वारा भी सर्वे किया जा रहा है और इस सर्वे के आधार पर तय किया जाएगा कि कितने घरों में बिजली का कनेक्‍शन पहुंचाया जाना है। 

 

राज्‍यों के साथ बैठक 
सभी गांवों तक बिजली पहुंचाने के बाद मिनिस्‍ट्री ऑफ पावर ने राज्‍यों के साथ बैठक की। बैठक में राज्‍यों से कहा गया कि वे अपने अपने राज्‍यों में चल रहे पोस्‍टल विभाग के सर्वे के साथ सौभाग्‍य स्‍कीम के डाटा का मिलान करें और उसके बाद तय करें कि कितने घरों में बिजली पहुंचाई जानी है। इसके लिए जल्द से जल्‍द टेंडर जारी कर हर संभव कोशिश करें कि 31 दिसंबर 2018 तक हर घर में बिजली का कनेक्‍शन पहुंचे। 

 

झारखंड में कम हुआ टारगेट 
बैठक में झारखंड के अधिकारियों ने बताया कि उनके राज्‍य में सौभाग्‍य डाटा और डाक विभाग के डाटा के मिलान के बाद पाया गया कि जिन घरों में बिजली नहीं पहुंची है, उनकी संख्‍या में 15-16 लाख का अंतर है। सौभाग्‍य डाटा के मुताबिक, झारखंड में 30 लाख 51 हजार 577 घरों में बिजली नहीं है, लेकिन डाक विभाग के सर्वे के बाद यह टारगेट घटाया जाएगा। झारखंड का कहना है कि उसके राज्‍य में जून 2018 तक 6 लाख कनेक्‍शन जारी कर दिए जाएंगे। साथ ही, डाक विभाग से मिलान के बाद शेष रह गए घरों में बिजली के कनेक्‍शन दिसंबर 2018 तक पहुंचा दिए जाएंगे। 

 

इन राज्‍यों में भी होगा मिलान 
ओडिशा और आसाम ने भी कहा है कि वे अपने राज्‍यों में डाक विभाग द्वारा कराए जा रहे सर्वे के बाद सामने आने वाले आंकड़ों के आधार पर नया टारगेट तय किया जाएगा और इस टारगेट को दिसंबर 2018 तक अचीव किया जाएगा। 

 

यूपी में 60 हजार घर रोजाना का टारगेट 
उत्‍तर प्रदेश सरकार को बताया गया कि सबसे अधिक कनेक्‍शन उनके राज्‍य में लगाए जाने हैं। वहां टारगेट अचीव करने के लिए रोजाना लगभग 60 हजार घरों में कनेक्‍शन लगाने होंगे।  केंद्र ने राज्‍य से कहा कि वे सबसे पहले बाढ़ प्रभावित इलाकों पर फोकस करें। उत्‍तर प्रदेश में लगभग 1 करोड़ 46 लाख 66 हजार घरों में कनेक्‍शन लगाए जाने हैं। 

 

बिहार बना चुनौती 
मिनिस्‍ट्री ऑफ पावर के एक अधिकारी ने बताया कि उत्‍तर प्रदेश के बाद बिहार सौभाग्‍य योजना के लिए चुनौती का विषय है। यहां लगभग 64 लाख 86 हजार घरों में बिजली नहीं है। हालांकि राज्‍य सरकार के प्रतिनिधि ने बताया कि जून 2018 तक पूरे नॉर्थ बिहार में हर घर तक बिजली पहुंचा दी जाएगी, जिसके बाद दिसंबर 2018 तक पूरे राज्‍य में कनेक्‍शन पहुंचाए जाएंगे। 

 

क्‍या है सौभाग्‍य 
31 दिसंबर 2018 तक देश के हर घर में बिजली पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अक्‍टूबर 2017 में प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्‍य) की शुरुआत की थी। इस योजना के तहत देश 3,61,39,781 घरों में बिजली पहुंचानी है। सौभाग्‍य पोर्टल के मुताबिक, 7 मई 2018 तक 53,90,047 घरों में बिजली पहुंचाई जा चुकी है। सौभाग्‍य के तहत हर घर में सर्विस लाइन, मीटर, सिंगल प्‍वाइंट, एलईडी बल्‍ब और मोबाइल चार्जिंग प्‍वाइंट लगाना है। इसके लिए जहां बीपीएल परिवार से कोई पैसा नहीं लिया जाएगा, वहां सामान्‍य परिवारों को 500 रुपए में कनेक्‍शन दिया जाएगा, जो 10 किस्‍तों में लिए जाएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट