Home » Economy » Infrastructure5 राज्‍यों में बनेंगे 13 हजार करोड़ के हार्इवे - 5 States get 20 highway projects of 13 thousand crore

13 हजार करोड़ के प्रोजेक्‍ट के साथ शुरू हुई भारतमाला, 5 राज्‍यों में बनेंगे हार्इवे

पहले लॉट के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने 20 प्रोजेक्‍ट्स को चुना है।

1 of

नई दिल्‍ली। सरकार ने भारतमाला परियोजना पर काम शुरू कर दिया है। पहले लॉट के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) ने 20 प्रोजेक्‍ट्स को चुना है। ये प्रोजेक्‍ट्स पांच राज्‍यों में बनेंगे। जिन पर 13 हजार 100 करोड़ रुपए के खर्च का अनुमान है। इनमें सबसे अधिक प्रोजेक्‍ट आंध्रप्रदेश में बनेंगे। इसके अलावा गुजरात, तेलंगाना और राजस्‍थान को प्रमुखता दी गई है। उत्‍तर प्रदेश में अभी केवल एक प्रोजेक्‍ट का टेंडर जारी किया गया है। 

 

 

'हम' को प्रमुखता 

 

नएचएआई के मुताबिक भारतमाला परियोजना के तहत ज्‍यादातर प्रोजेक्‍ट हाईब्रिड एनुयटी मॉडल(हम) के तहत दिए जा रहे हैं, जबकि कुछ प्रोजेक्‍ट ईपीसी (इंजीनियरिंग, प्रोक्‍योरमेंट और कंस्‍ट्रक्‍शन) मॉडल के तहत किए जाएंगे। 

 

आंधप्रदेश के लिए 7 प्रोजेक्‍ट्स 
एनएचएआई के एक अधिकारी ने बताया कि भारतमाला परियोजना के तहत अब तक जो टेंडर जारी हुए हैं, उनमें सबसे अधिक आंध्रप्रदेश के लिए जारी किए गए हैं। यहां 7 टेंडर किए गए हैं। आंध्रप्रदेश में गिदालुर-विनुकोंडा सेक्‍शन पर लगभग 112 किलोमीटर हाईवे के रिहेबिलिटेशन और अपग्रेडेशन पर 565 करोड़ रुपए खर्च का अनुमान लगाया गया है। इसी तरह गंगावरम पोर्ट से लेकर प्रस्‍तावित एसईजेड तक 130 करोड़ रुपए के खर्च का अनुमान है। इसी तरह विशाखापट्टनम, कृष्‍णापट्टनम पोर्ट, बुग्‍गा आदि इलाकों में भी हाइवे प्रोजेक्‍ट्स के टेंडर जारी किए गए हैं। 

 

गुजरात में 5 प्रोजेक्‍ट्स 
एनएचएआई ने भारतमाला परियोजना के तहत गुजरात को भी प्रमुखता दी है। गुजरात में 5 प्रोजेक्‍ट्स के टेंडर जारी किए गए हैं। इस परियोजना के तहत दिल्‍ली से वड़ोदरा तक डायरेक्‍ट कनेक्‍टविटी की डीपीआर तैयार करने के लिए टेंडर जारी किए गए हैं। इसके लिए कंसलटेंसी फर्म की तलाश शुरू की गई है। इसके अलावा 4 अन्‍य प्रोजेक्‍ट्स के लिए भी टेंडर जारी कर दिए गए हैं। 
यूपी में केवल एक प्रोजेक्‍ट
बड़े राज्‍यों में से एक उत्‍तर प्रदेश में अभी फिलहाल एक प्रोजेक्‍ट का काम शुरू किया गया है। अलीगढ़ से कानपुर सेक्‍शन में फोर लेनिंग के काम के लिए टेंडर जारी किए गए हैं। लगभग 61 किलोमीटर लंबे इस रूट पर 1227 करोड़ 14 लाख रुपए के खर्च का अनुमान लगाया गया है। इसके अलावा राजस्‍थान में तीन और तेलंगाना में 4 प्रोजेक्‍ट्स के लिए टेंडर जारी किए गए हैं। 

 

क्‍या है भारतमाला 
गौरतलब है कि कैबिनेट ने कुछ माह पहले भारतमाला परियोजना को मंजूरी दी थी। इस के तहत लगभग 5.35 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे और इससे 34800 किलोमीटर सड़क बनेगी। पहले फेज में भारत माला प्रोजेक्‍ट की 24800 किमी सड़क बनेगी, जबकि एनएचडीपी के तहत 10 हजार किमी सड़क बनेगी। पहले फेज के भारत माला प्रोजेक्‍ट में 9000 किमी इकोनॉमिक कोरिडोर शामिल होंगे, जिन पर 1.20 लाख करोड़ रुपए का खर्च आएगा। इसके अलावा 80 हजार करोड़ रुपए की लागत से 6000 किमी इंटर कोरिडोर व फीडर कोरिडोर, 1 लाख करोड़ रुपए की लागत से 5000 किमी नेशनल कोरिडोर एफिशिएंसी इंप्रूवमेंट, 25 हजार करोड़ रुपए की लागत से 2000 किमी इंटरनेशनल कनेक्टिविटी रोड, 20 हजार करोड़ रुपए की लागत से 2000 किमी कॉस्‍टल रोड और पोर्ट कनेक्टिविटी और लगभग 40 हजार करोड़ रुपए की लागत से 800 किमी ग्रीन फील्‍ड एक्‍सप्रेस-वे बनाए जाएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट