विज्ञापन
Home » Economy » Infrastructurewhat is MMMM exhibition

MMMM-2018 29 से होगा शुरू, स्‍टील सेक्‍टर की चुनौतियों पर होगी चर्चा

मिनरल, मैटल, मैटल विज्ञान और मैटेरियल्‍स पर इंटरनेशनल एग्‍जीबिशन और कन्‍वेंशन की शुरुआत बुधवार को प्रगति मैदान में होगी

what is MMMM exhibition
मिनरल, मैटल, मैटल विज्ञान और मैटेरियल्‍स (MMMM) पर इंटरनेशनल एग्‍जीबिशन और कन्‍वेंशन की शुरुआत बुधवार को प्रगति मैदान में होगी। स्‍टील मिनिस्‍टर चौधरी बिरेंद्र सिंह इस एग्‍जीबिशन की शुरुआत करेंगे। इस मौके पर सेक्‍टर से जुड़ी मौजूदा चुनौतियों पर चर्चा भी की जाएगी। 12 हजार डॉलर से अधिक व्‍यापार की संभावना आईटीईआई के निदेशक संजीव बत्रा ने कहा कि दो साल बाद यह आयोजन किया गया है, जिसमें कई अहम मुद्दों पर विचार-विमर्श होगा। खासकर सरकार की दीर्घकालिक नीतियों पर विस्‍तार से चर्चा की जाएगी। इसमें सभी स्‍टैक होल्‍डर्स शामिल होंगे, जो अपनी अपनी बात रखेंगे। बत्रा ने कहा कि उम्‍मीद है कि इस एग्‍जीबि शन में 12 हजार डॉलर से अधिक का व्‍यापार होगा, जबकि 1000 से अधिक विदेशी निवेशक इस एग्‍जीबिशन में शामिल होंगे। उन्‍होंने कहा कि मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत जिन 18 मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की पहचान की गई है, उनमें से लगभग 9 सेक्‍टर में स्‍टील की भूमिका है, इसलिए सरकार को स्‍टील सेक्‍टर पर विशेष फोकस करना चाहिए। 15 देशों के प्रतिनिधि होंगे शामिल 15 विभिन्न देशों के 400 से अधिक कंपनियां MMMM-2018 में भाग ले रहे हैं। खनिज समृद्ध राज्यों झारखंड पश्चिम बंगाल उड़ीसा कर्नाटक और गुजरात से राज्य स्तरीय भागीदारी के अलावा देश-स्तर के चीन, ऑस्ट्रिया, फ्रांस, फिनलैंड, जर्मनी, इटली, रूस, स्पेन, ब्रिटेन और यूएसए से की भागीदारी होगी। 7 देशों के व्यापार प्रतिनिधि मंडल निवेश के अवसरों के लिए MMMM-2018 पर भी आएंगे।

 

नई दिल्‍ली. मिनरल, मैटल, मैटल विज्ञान और मैटेरियल्‍स (MMMM) पर इंटरनेशनल एग्‍जीबिशन और कन्‍वेंशन की शुरुआत बुधवार से प्रगति मैदान में होगी। स्‍टील मिनिस्‍टर चौधरी बिरेंद्र सिंह इस एग्‍जीबिशन की शुरुआत करेंगे। इस मौके पर सेक्‍टर से जुड़ी मौजूदा चुनौतियों पर चर्चा भी की जाएगी।

 

12 हजार डॉलर से अधिक व्‍यापार की संभावना

आईटीईआई के निदेशक संजीव बत्रा ने कहा कि दो साल बाद यह आयोजन किया गया है, जिसमें कई अहम मुद्दों पर विचार-विमर्श होगा। खासकर सरकार की दीर्घकालिक नीतियों पर विस्‍तार से चर्चा की जाएगी। इसमें सभी स्‍टैक होल्‍डर्स शामिल होंगे, जो अपनी अपनी बात रखेंगे। बत्रा ने कहा कि उम्‍मीद है कि इस एग्‍जीबि शन में 12 हजार डॉलर से अधिक का व्‍यापार होगा, जबकि 1000 से अधिक विदेशी निवेशक इस एग्‍जीबिशन में शामिल होंगे। उन्‍होंने कहा कि मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत जिन 18 मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की पहचान की गई है, उनमें से लगभग 9 सेक्‍टर में स्‍टील की भूमिका है, इसलिए सरकार को स्‍टील सेक्‍टर पर विशेष फोकस करना चाहिए।

 

15 देशों के प्रतिनिधि होंगे शामिल

15 विभिन्न देशों के 400 से अधिक कंपनियां MMMM-2018 में भाग ले रहे हैं। खनिज समृद्ध राज्यों झारखंड पश्चिम बंगाल उड़ीसा कर्नाटक और गुजरात से राज्य स्तरीय भागीदारी के अलावा देश-स्तर के चीन, ऑस्ट्रिया, फ्रांस, फिनलैंड, जर्मनी, इटली, रूस, स्पेन, ब्रिटेन और यूएसए से की भागीदारी होगी। 7 देशों के व्यापार प्रतिनिधि मंडल निवेश के अवसरों के लिए MMMM-2018 पर भी एंगे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन