Home » Economy » Infrastructureknow about 10 road and railway tunnels in India

ये हैं देश की 10 सबसे लम्‍बी सुरंगें, मिनटों में बदल गई घंटों की दूरी

आज हम आपको 10 ऐसी सुरंग के बारे में बताएंगे, जो कनेक्टिविटी की दृष्टि से काफी महत्‍व रखती हैं।

1 of

नई दिल्‍ली। शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एशिया की सबसे बड़ी सुरंग का शिलान्‍यास किया। दावा है कि यह सुरंग बनने से 3.5 घंटे का सफर 15 मिनट में पूरा हो जाएगा। देश भर में इधर से उधर कनेक्‍टविटी बेहतर करने और समय की बचत में सुरंगों को रोल बहुत अहम होता है। वैसे तो भारत में काफी पुरानी सुरंगें भी हैं, लेकिन पिछले कुछ सालों में सुरंगों के निर्माण में भारत ने काफी प्रगति की है। 

 

आज हम आपको 10 ऐसी सुरंग के बारे में बताएंगे, जो कनेक्टिविटी की दृष्टि से काफी महत्‍व रखती हैं। 

 

 
1. पीर पंजाल सुरंग, जम्मू-कश्मीर (लंबाई 11.215 किलोमीटर): इसे बनिहाल रेलवे सुरंग भी कहा जाता है, जिसकी लंबाई 11.215 किलोमीटर है। यह एशिया की दूसरी सबसे बड़ी रेलवे सुरंग है। हिमालय की पीर पंजाल रेंज से लेकर यह बनिवाल शहर के उत्तरी हिस्सा तक बनाई गई है। इस सुरंग को पार करने में रेलगाड़ी को साढ़े नौ मिनट लगते हैं।
 
2. कार्बूड सुरंग, महाराष्ट्र (लंबाई-6.5 किलोमीटर): यह कोंकण रेलवे मार्ग का हिस्सा है और भारत की दूसरी सबसे लंबी रेलवे सुरंग है। रत्नागिरी के कोंकण तट पर स्थित यह सुरंग 6.5 किलोमीटर लंबी है और उकशी व भोखे रेलवे स्टेशन के बीच है। इस सुरंग के कारण कनेक्टिविटी  मेें काफी सुधार हुुुुआ हैैै ।

 


3. नाटूवाड़ी सुरंग, महाराष्ट्र : करनजाड़ी और दीवान स्टेशन के बीच स्थित 4.3 किलोमीटर लंबी कोंकण रेलवे मार्ग की दूसरी सबसे लंबी सुरंग है। इसे साल 1997 में एक पहाड़ी इलाके में बनाया गया था। सुरंग खुदाई के उपकरण बाहर से मंगवाए गए थे।
 
4. टाइक सुरंग, महाराष्ट्र: यह 4.07 किलोमीटर लंबी सुरंग है, जो सहयाद्री रेंज में रत्नागिरी और निवासर के बीच स्थित है। इस सुरंग में घुसने से पहले का नजारा बेहद खूबसूरत है।
 
5. बेरडेवाड़ी सुरंग, महाराष्ट्र: अडावली और विलावाड़े के बीच स्थित यह सुरंग 4 किलोमीटर लंबी है। यह कोंकण रेलवे मार्ग का हिस्सा है और गोवा व कोंकण इलाकों में यात्रा करते वक्त यह बीच में पड़ती है।
 
6. चेनानी-नशरी (पटनीटॉप), जम्मू एवं कश्मीर: यह उधमपुर जिले के चेनानी को रामबन जिले के नशरी से जोड़ती है। 9.2 किलोमीटर की यह सुरंग एशिया की सबसे लंबी सुरंगों में से एक है। हिमालय की शिवालिक पहाड़ियों के बीच बनी यह सुरंग जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग का हिस्सा है। हाल ही में इसे खोला गया है और इसकी वजह से श्रीनगर और जम्मू के बीच का रास्ता सिर्फ दो घंटे में पूरा हो जाता है। 
 

7. रोहतांग सुरंग, हिमाचल प्रदेश: यह सुरंग रोहतांग दर्रा के नीचे 3878 मीटर की ऊंचाई पर बनाई गई है और इसकी लंबाई 8.8 किलोमीटर है। इसे दुनिया की सबसे ऊंचाई पर बनी रोड सुरंग माना जाता है। दो लेन वाली यह सुरंग फिलहाल निर्माणाधीन है और 2019 तक तैयार हो जाएगी। यह पूरे साल मनाली से लाहौल और स्पिति वैली तक रोड कनेक्टिविटी मुहैया कराएगी। इस प्रोजेक्ट की लागत 1700 करोड़ रुपये है और लेह-मनाली हाईवे की लंबाई इससे 46 किलोमीटर कम होने की उम्मीद है। 
 

8. घाट की गुनी सुरंग, राजस्थान: जयपुर में पूर्वी हिस्से से घुसने और बाहर निकलने के लिए सिर्फ यही सुरंग है। इसकी लंबाई 2.8 किलोमीटर है। इसके आसपास कई ऐतिहासिक इमारते हैं और इसे झलाना हिल्स पर बनाया गया है। साथ ही पूरे रास्ते पर आधुनिक लाइटें भी लगाई गई हैं।
 

आगे पढ़ें ... 


9. ऑट सुरंग, चंडीगढ़: यह चंडीगढ़-मनाली राष्ट्रीय राजमार्ग 21 का हिस्सा है। लार्जी बांध जलाशय के पास बनी ऑट सुरंग की लंबाई 2.76 किलोमीटर है और इससे कुल्लू-मनाली जाने में आसानी होती है। 
 
आगे पढ़ेें....  

10. जवाहर सुरंग, जम्मू-कश्मीर: जवाहर सुरंग या बनिहाल सुरंग जम्मू-कश्मीर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है और यह जम्मू से कश्मीर घाटी को जोड़ता है। इसकी लंबाई 2.5 किलोमीटर है। इसका नाम भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के नाम पर रखा गया है और साल 1956 से यह चालू है। राष्ट्रीय राजमार्ग 1ए पर यह सुरंग बनिहाल और काजीगुंड के बीच स्थित है। साल 2009 तक यह सुरंग आधी रात से लेकर सुबर 8 बजे तक नागरिक यातायात के लिए बंद रहती थी। हाल ही में इसे 24 घंटे के लिए चालू किया गया है।     

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट