Home » Economy » InfrastructureAll villages are electrified Govt claims

खास खबर: सरकार का दावा हर गांव में पहुंची बिजली, लेकिन 3.13 करोड़ घरों को इंतजार

केंद्र सरकार का दावा है कि सभी गांवों में बिजली पहुंच चुकी है।

1 of

नई दिल्‍ली. केंद्र सरकार का दावा है कि सभी गांवों में बिजली पहुंच चुकी है। 15 अगस्‍त 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से यह वादा किया था कि 1000 दिन में सभी गांवों तक बिजली पहुंचाई जाएगी। सरकार ने दावा किया कि यह वादा समय से 12 दिन पहले पूरा कर लिया गया। प्रधानमंत्री ने इसके लिए बधाई भी दी। उम्‍मीद है कि सरकार के आंकड़े दुरुस्‍त हों और सभी गांवों तक बिजली पहुंच गई हो। लेकिन सरकार के समक्ष असल चुनौती हर घर तक बिजली पहुंचाने की है। सरकार के ही आंकड़े बताते हैं कि लगभग 3.13 करोड़ घर ऐसे हैं, जहां अभी बिजली नहीं है। सरकार का टारगेट है कि 31 दिसंबर 2018 तक सभी घरों तक बिजली पहुंचाई जाएगी, लेकिन यह किसी चुनौती से कम नहीं होगा। 

 

क्‍या है दावा  
भारत में 5,97,464 गांव है। अप्रैल 2015 तक देश में लगभग 19679 गांवों में बिजली नहीं थी। इसके बाद पाया गया कि 1270 गांवों में आबादी ही नहीं है, वहीं सरकार ने दावा किया कि 18374 गांवों में अप्रैल 2018 तक बिजली पहुंचा दी जाएगी। कल यानी 28 अप्रैल 2018 को पावर मिनिस्‍टर आरके सिंह ने ट्विट करके दावा किया टारगेट से 12 दिन पहले सभी गांवों में बिजली पहुंचा दी गई है। सबसे अधिक 3281 गांव ओडिशा के हैं,  जहां बिजली पहुंचाई गई। इसके अलावा बिहार के 2906, असम के 2732, झारखंड के 2583, उत्‍तर प्रदेश के 1498 गांवों में बिजली पहुंचाई गई। 

 

घरों में बिजली कब 
25 सितंबर 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सौभाग्‍य ( प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना) की शुरुआत की थी। उस समय दावा किया गया कि 4 करोड़ घरों में बिजली नहीं है, जहां 31 दिसंबर 2018 तक बिजली पहुंचा दी जाएगी। हालांकि बाद में इसमें सुधार करते हुए 3.63 करोड़ घरों का टारगेट रखा गया। इससे पहले भी घरों में बिजली पहुंचाने की योजना दीन दयाल उपाध्‍याय ग्राम ज्‍योति योजना (डीडीयूजीजेवाई) चल रही है, जिसे अक्‍टूबर 2018 में सौभाग्‍य योजना में तब्‍दील कर दिया गया। 

 

कहां पहुंची सौभाग्‍य 
अक्‍टूबर से 30 अप्रैल 2018 तक सौभाग्‍य स्‍कीम के तहत 50,06, 203 घरों में बिजली पहुंची है। यानी कि औसतन 7,15,000 कनेक्‍शन हर महीने या औसतन 24 हजार कनेक्‍शन रोजाना लगाए जा रहे हैं। 

 

पांच गुनी बढ़ानी होगी रफ्तार 
सरकार के सौभाग्‍य पोर्टल के मुताबिक, अभी 3,13,65,992 घरों में बिजली पहुंचानी है। सरकार को 31 दिसंबर 2018 तक यह काम करना है। यानी कि सरकार को हर महीने 39.20 लाख कनेक्‍शन लगाने हैं। औसतन रोजाना 1.30 लाख घरों में बिजली पहुंचानी है। आज की स्‍पीड के मुकाबले लगभग 5 गुना तेजी से काम करना होगा। 

 

सरकार के दावों पर सवाल 
हर गांव तक बिजली पहुंचाने के सरकार के दावों पर सवाल भी उठ रहे हैं। पावर मिनिस्‍टर आरके सिंह के ट्वीट के रिप्‍लाई पर कई लोगों ने अपने-अपने गांव के नाम के साथ कहा कि उनके गांव में बिजली नहीं पहुंची है। एमपी के मऊ तहसील के गांव खेरिया झालू के अरविंद सिंह कुशवाहा ने कहा कि उनके गांव में बिजली नहीं पहुंची, जबकि 1.5 किमी दूरी पर पहुंच चुकी है। सुनीत अवस्‍थी ने पावर मिनिस्‍टर के ट्विट के जवाब में कहा कि उन्‍नाव के रिसालखेड़ा गांव में केवल दो खंभे लगे हैं, बिजली नहीं पहुंची। शिवम वाजपेयी ने कहा कि यूपी के शाहजहांपुर के गांव रूद्रपुर में आज तक बिजली नहीं पहुंची। ऐसे ही कई लोगों ने अपने अपने गांव में बिजली न पहुंचने की शिकायत की है। 

 

अचीवमेंट पर सवाल 
यूपी से चीफ इंजीनियर पद से रिटायर एवं ऑल इंडिया पावर इंजीनियर फेडरेशन के चेयरमैन शैलेंद्र दुबे ने moneybhaskar.com से कहा कि देश भर में 5.97 लाख गांव हैं, जिनमें से 18 हजार गांवों को 4 साल में बिजली पहुंचाई गई है। यानी औसतन 4 हजार गांवों में बिजली पहुंचाई गई, जबकि इससे पिछले सालों का रिकॉर्ड देखा जाए तो 9 से 18 हजार गांवों में सालाना बिजली पहुंचाई गई, इसलिए यह कोई अचीवमेंट नहीं है। वैसे भी बिजली राज्‍य सरकारों का काम है, केंद्र का नहीं। दूबे ने कहा कि जहां तक सौभाग्‍य स्‍कीम की बात है कि 31 दिसंबर तक टारगेट हासिल नहीं हो पाएगा। दो तीन महीने और लगेंगे। इसकी बड़ी वजह यह है कि राज्‍य सरकारें प्राइवेट कंपनियों से यह काम करवा रही है। इसलिये कुछ देरी से सही पर हर घर तक बिजली पहुंच जाएगी। तब ही, यह जरूरी नहीं कि बिजली पहुंचने के बाद लोगों को बिजली मिलने लगे, क्‍योंकि अभी भी गांवों में घंटों-घंटों बिजली नहीं आती। 

 

जनवरी से बढ़ी सौभाग्‍य की स्‍पीड 
अक्‍टूबर से दिसंबर 2017 तक यह स्‍कीम बेहद धीमी गति से चल रही थी और औसतन महीने में 2 से 4 लाख घरों में कनेक्‍शन लगाए जा रहे थे। जनवरी से सौभाग्‍य की स्‍पीड में काफी तेजी आई। जनवरी में 9.97 लाख, फरवरी में 11.79 लाख और मार्च में 10.02 लाख कनेक्‍शन लगाए गए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट