Home » Economy » InfrastructureIndian Railway : Maximum speed of trains will be 160 kmph

Indian Railway: नए ट्रैक पर 160 किमी की रफ्तार से दौड़ेंगी ट्रेन, स्‍पीड पॉलिसी फ्रेमवर्क तैयार

मिशन रफ्तार 2022 के लिए रेलवे ने स्‍पीड पॉलिसी फ्रेमवर्क तैयार किया

Indian Railway : Maximum speed of trains will be 160 kmph

नई दिल्‍ली. मिशन रफ्तार 2022 के लिए रेलवे ने स्‍पीड पॉलिसी फ्रेमवर्क तैयार किया है। इसके तहत अब बनने वाले नए ट्रेक को इस तरह बनाया जाएगा कि 160 किमी रफ्तार की ट्रेनें आसानी से गुजर जाएं। इतना ही नहीं, इन नई लाइन पर कोई लेवल क्रॉसिंग भी नहीं होगा। इस फ्रेमवर्क में यह भी तय किया गया है कि 160 किमी से अधिक स्‍पीड वाले क्‍सक्‍लूसिव कॉरिडोर पर भी विचार किया जाएगा और ऐसे कॉरिडोर को पीपीपी ( पब्लिक-प्राइवेट-पार्टनरशिप) मोड पर चलाया जा सकता है। 

 

रूट्स होंगे अपग्रेड 
रेलवे बोर्ड द्वारा मंजूर किए गए स्‍पीड पॉलिसी फ्रेमवर्क के मुताबिक, स्‍वर्णिम चतुर्भुज और डायगोनल रूट्स को अपग्रेड किया जाएगा, ताकि उन पर 160 किमी प्रति घंटा की स्‍पीड से ट्रेनें चल सकें, जबकि ब्रॉडगेज नेटवर्क पर 130 किमी की स्‍पीड से ट्रेनें चलाने के लिए अपग्रेड किया जाएगा। 

 

इंफ्रा पर भी होगा फोकस 
बोर्ड ने सभी जनरल मैनेजर्स को भेजे पत्र में कहा है कि स्‍पीड बढ़ाने के लिए जो भी कदम उठाए जाएंगे, वे रूट वाइज होंगे। उस रूट पर पूरे इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर को डेवलप किया जाएगा, जिसमें ट्रैक, सिग्‍नलिंग, ओवरहेड इलेक्ट्रिसिटी (ओएचई), रोलिंग स्‍टॉक (कोच, लोकोमोटिव) शामिल होंगे। 

 

प्राइवेट सेक्‍टर पर नजर 
इस पत्र की खास बात यह है कि लगातार प्राइवेट सेक्‍टर से दूर रहने का दावा करने वाली रेलवे ने माना है कि 160 किमी से ज्‍यादा स्‍पीड वाले अलग कॉरिडोर बनाने पर विचार किया जा सकता है और इसके लिए प्राइवेट-पब्लिक पार्टनरशिप मोड पर भी विचार किया जाएगा। 

 

पूरी तैयारी के साथ बनेंगी नई लाइनें 
रेलवे बोर्ड के मुताबिक, नई लाइन का कंस्‍ट्रक्‍शन करते वक्‍त जो भी ट्रैक जियोमेट्री तैयार होगी, उसकी स्‍पीड 160 किमी होगी। यानी कि नई पटरी की कैपेसिटी 160 किमी की होगी, जबकि मीनिमम MPS ( मीनिमम परमीशिबल लिमिट) 130 किमी होगी। 

 

आसान नहीं होगा यह काम 
रेलवे बोर्ड के पूर्व सदस्‍य आरसी आचार्य ने moneybhaskar.com से कहा कि यह एक अच्‍छा फैसला है कि रेलवे ट्रेनों की स्‍पीड बढ़ाना चाहता है, लेकिन इसके लिए रेलवे को गंभीर प्रयास करने होंगे। अभी ट्रैकों की क्षमता 100 किमी प्रति घंटा से कम है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट