Advertisement
Home » Economy » InfrastructureGovt working hard to introduce chip based e-passports: PM Modi

मोदी ने किया ऐलान, सरकार लाने जा रही है चिप वाले ई-पासपोर्ट

प्रवासी भारतीय सम्मेलन-2019 में प्रधानमंत्री माेदी ने कही centralized system तैयार करने की बात

1 of

नई दिल्ली.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वाराणसी में प्रवासी भारतीय सम्मेलन-2019 में लोगों को संबाेधित करते हुए कहा कि सरकार प्रवासी भारतीयों की सहूलियत के लिए लगातार कदम उठा रही है। उन्होंने पासपोर्ट सेवा से जुड़ी एक केंद्रीय व्यवस्था बनाने की बात की और यह भी कहा कि सरकार चिप आधारित ई-पासपोर्ट बनाने की दिशा में भी काम कर रही है।

 

उन्होंने कहा, ‘सरकार का पूरा प्रयास है कि आप सभी जहां भी रहें सुखी रहें और सुरक्षित रहें। बीते साढ़े चार वर्षों के दौरान संकट में फसे 2 लाख से ज्‍यादा भारतीयों को सरकार के प्रयासों से दुनिया के भिन्‍न-भिन्‍न देशों में मदद पहुंचाई गई है। आपकी सोशल सिक्‍योरिटी के साथ-साथ पासपोर्ट, वीजा, पीआईओ और ओसीआई कार्ड को लेकर भी तमाम प्रक्रियाओं को आसान करने की कोशिश सरकार कर रही है। प्रवासी भारतीयों के लिए कुछ महीने पहले ही एक नया कदम भी उठाया गया है। दुनिया भर में हमारी एम्‍बेसीज और कांउसलेट्स को पासपोर्ट सेवा प्रोजेक्‍ट से जोड़ा जा रहा है। इससे आप सभी के लिए पासपोर्ट सेवा से जुड़ा एक centralized system तैयार हो जाएगा। बल्कि अब तो एक कदम आगे बढ़ते हुएchip based E-passport जारी करने की दिशा में भी काम चल रहा है।’

 

जल्द बनने शुरू होंगे नए पासपोर्ट

विदेश मंत्रालय की ओर से दिसंबर में जारी की गई सूचना के मुताबिक नए पासपोर्ट्स इसमें एडवांस्ड सिक्योरिटी फीचर्स और बेहतर प्रिंटिंग व पेपर क्वालिटी होगी। ई-पासपोर्ट्स की मैन्युफैक्चरिंग नासिक के Indian Security Press (ISP) में होगी। इसके लिए ISP को International Civil Aviation Organisation (ICAO) द्वारा मान्य खांचा और ऑपरेटिंग सिस्टम लेने के लिए टेंडर डालने की अनुमति दी गई है। इस प्रक्रिया के पूरा होते ही ई-पासपोर्ट बनाए जाने का काम शुरू हो जाएगा।

 

 

चिप में सुरक्षित रहेगी आपकी सारी जानकारी

ई-पासपोर्ट में लगी इस चिप में आपकी सारी डिटेल्स, बायोमीट्रिक डाटा और डिजिटल साइन स्टोर किए जाएंगे। इलेक्ट्रॉनिक चिप लगा यह ई-पासपोर्ट आपके पारंपरिक पासपोर्ट की जगह ले लेगा। अगर कोई इस चिप के साथ छेड़छाड़ करेगा तो पासपोर्ट सेवा सिस्टम को इस बात का पता चल जाएगा जिससे पासपोर्ट ऑथेंटिकेशन की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाएगी। इस चिप में जानकारी कुछ ऐसे स्टोर रहेगी कि बिना पासपोर्ट को अपने पास रखे इस चिप को पढ़ा नहीं जा सकेगा।

 

सभी एम्बैसीज जुड़ेंगी पासपोर्ट सेवा प्रोजेक्ट से

विदेश में मौजूद देश की सभी एम्बैसीज को पासपोर्ट सेवा प्रोजेक्ट से जोड़ा जाएगा। फिलहाल अमेरिका और ब्रिटेन में भारतीय दूतावासों और कॉन्सुलेट्स को इससे जोड़ा जा चुका है।

 

 

सात दिन में मिलेंगे पासपोर्ट

पासपोर्ट की एप्लीकेशन मिलने के बाद पासपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया अपनी तरफ से जरूरी इंक्वायरी करने के बाद पासपोर्ट जारी करेगी। विदेश में भारतीय एम्बैसीज और कॉन्सुलेट्स में पासपोर्ट जारी करने के जिन मामलों में पुलिस वेरिफिकेशन की जरूरत नहीं है सात दिनों के अंदर तत्काल आधार पर नए पासपोर्ट जारी किए जाएंगे और पुराने पासपोर्ट को रिइश्यू किया जाएगा।

 

इन देशों में हैं ई-पासपोर्ट

अमेरिका, इटली, जर्मनी, जापान, यूरोपीय देश, हांगकांग, इंडोनेशिया समेत दुनिया के तकरीबन 86 देशों में ई-पासपोर्ट चलन में हैं। खास बात यह है कि इसमें पाकिस्तान भी शामिल है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss