Home » Economy » Infrastructureछत पर सोलर प्‍लांट की योजना को झटका- 10 percent target achieved of rooftop solar power

छत पर सोलर प्‍लांट की योजना को झटका, 10% टारगेट ही हासिल कर पाई सरकार

केंद्र सरकार के रूफ टॉप सोलर पावर प्‍लान को बड़ा झटका लगा है

1 of

 


नई दिल्‍ली। केंद्र सरकार के रूफ टॉप सोलर पावर प्‍लान को बड़ा झटका लगा है। सरकार ने 31 मार्च 2018 तक रूफ टॉप सोलर प्‍लांट्स से 10 हजार मेगावाट बिजली हासिल करने का लक्ष्‍य रखा था, लेकिन केवल 1063 मेगावाट (10 फीसदी) पावर जनरेशन कैपेसिटी बढ़ा पाई है। ऐसे में, साल 2022 तक 40 हजार मेगावाट का टारगेट हासिल असंभव सा लग रहा है। यही वजह है कि अब सरकार टारगेट आधा करने पर गंभीरता से विचार कर रही है।

 

निराशाजनक रहा 2017-18  

तीन साल तक लगातार पिछड़ने के बाद मिनिस्‍ट्री ऑफ न्‍यू एंड रिन्‍यूएबल एनर्जी ने साल 2017-18 में अग्रेसिव टारगेट रखा और निर्णय लिया था कि 2017-18 में 1000 मेगावाट बिजली रूफटॉप सोलर और 9000 मेगावाट बिजली ग्राउंड माउंटेड (जमीन पर लगने वाले सोलर प्रोजेक्‍ट्स) से हासिल की जाएगी। मिनिस्‍ट्री की ताजा रिपोर्ट बताती है कि ग्राउंड माउंटेड का टारगेट सौ फीसदी हासिल कर लिया गया, लेकिन रूफटॉप प्‍लांट्स का टारगेट अचीव नहीं हो पाया है। 2017-18 में रूफटॉप सोलर प्‍लांट से केवल 352 मेगावाट पावर कैपेसिटी एडिशन ही हो पाया इस तरह चार साल में सोलर पावर जनरेशन कैपेसिटी 1063 मेगावाट तक ही पहुंच पाई है।

 
टारगेट घटाने पर विचार 
मिनिस्‍ट्री ऑफ एमएनआरई के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि पिछले दिनों हुई एक बैठक में प्रस्‍ताव रखा गया था कि रूफटॉप सोलर पावर जनरेशन का टारगेट घटाकर आधा करने पर विचार किया जा रहा है। उनके मुताबिक, साल 2022 तक रूफटॉप सोलर का टारगेट 40 हजार मेगावाट से घटाकर 20 हजार किया जा सकता है। वहीं, सोलर पार्क का टारगेट 20 हजार मेगावाट से बढ़ाकर 40 हजार किया जा सकता है।
 
क्‍या है वजह 
रूफटॉप सोलर पावर बिजनेस से जुड़े एक कंपनी के फाउंडर ने नाम न छापने की शर्त पर http://moneybhaskar.com को बताया कि रूफटॉप पावर प्‍लांट लगाने पर सरकार 30 फीसदी तक सब्सिडी देती है, लेकिन यह सब्सिडी मिल नहीं रही है और लगातार पेंडिंग अमाउंट बढ़ता जा रहा है। इसके अलावा नेट मीटरिंग पॉलिसी को लेकर राज्‍य सरकारें अब तक स्‍पष्‍ट नहीं हैं। इस वजह से लोगों के चाहने के बावजूद रूफटॉप सोलर प्‍लांट्स की संख्‍या नहीं बढ़ रही है। 
 
आगे पढ़ें - पांच गुणा बढ़ाया गया था टारगेट 
 

पांच गुणा बढ़ाया गया था टारगेट 

सत्‍ता संभालने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोलर पावर पर पूरा फोकस करने के निर्देश दिए थे।  इसके चलते मिनिस्‍ट्री ऑफ न्‍यू एंड रिन्‍यूएल एनर्जी (एमएनआरई) संभाल रहे तत्‍काल मिनिस्‍टर पीयूष गोयल ने नए सिरे से टारगेट की घोषणा की थी। यूपीए सरकार का टारगेट 2022 तक 20 हजार मेगावाट सोलर पावर का था, जिसे पांच गुणा बढ़ाकर 1 लाख मेगावाट कर दिया गया। उस समय तय किया गया कि जमीन पर लगने वाले सोलर प्‍लांट्स से 60 हजार और छत पर लगने वाले सोलर प्‍लांट्स से 40 हजार मेगावाट बिजली हासिल की जाएगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट