बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureदेश की केवल 13 सड़कों पर चला सकते हैं 120 km की स्‍पीड से कार, दूसरे हाईवे पर चलाने से हो सकती है 6 माह की जेल

देश की केवल 13 सड़कों पर चला सकते हैं 120 km की स्‍पीड से कार, दूसरे हाईवे पर चलाने से हो सकती है 6 माह की जेल

मोदी सरकार ने बढ़ाई देश में बने 13 Expressways की स्‍पीड लिमिट

1 of

नई दिल्‍ली. चौड़ी और सुंदर सड़क देख कर कार की स्‍पीड तेज हो ही जाती है। यह तेज स्‍पीड आपको जेल की हवा भी खिला सकती है। क्‍योंकि आप 80 किलोमीटर प्रति घंटा की से ज्‍यादा की रफ्तार से गाड़ी नहीं चला सकते। लेकिन देश में 13 ऐसी सड़कें हैं, जहां आप 120 किलोमीटर की स्‍पीड से कार चला सकते हैं। ये सड़कें कोई आम सड़क नहीं हैं, इन सड़कों को इंडियन रोड नेटवर्क में सबसे हाई क्‍लास माना जाता है। आम भाषा में आप इन्‍हें एक्‍सप्रेस-वे कह सकते हैं। इन सड़कों का स्‍टैंडर्ड इतना ऊंचा होता है कि आप 100 की स्‍पीड से गाड़ी चलाने के लिए बेताब हो जाते हैं। यही वजह है कि केंद्र सरकार ने पिछले दिनों देश भर के Expressways पर मैक्सिमम स्‍पीड लिमिट 120 किमी प्रति घंटा कर दी है, जबकि दूसरे हाईवे पर यदि आप इस स्‍पीड से चलते हैं तो आपको 6 माह तक की जेल हो सकती है। 

आइए, आज हम आपको ऐसे ही 13 एक्‍सप्रेस-वे के बारे में बताते हैं, जिन पर आप 120 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से गाड़ी चला सकते हैं-  

 

यह है पहला एक्‍प्रेसस-वे 
मुंबई-पुणे एक्सप्रेस-वे 93 किमी की दूरी के साथ भारत का पहला छः लेन कंक्रीट, हाई-स्पीड एक्सप्रेस-वे है। इस एक्‍सप्रेस-वे के बनने के बाद मुंबई और पुणे के बीच की दूरी 1.30 से 2 घंटे की रह गई है। सुरंगों और पहाड़ी के बीच से गुजरने वाले इस एक्‍सप्रेस-वे की सुंदरता देखते ही बनती है। इससे पहले पुणे जाने के लिए मुंबई-चेन्नई राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच 4) का इस्‍तेमाल किया जाता था, लेकिन अब इस एक्‍सप्रेस-वे ने जगह ले ली है। 

 

जयपुर-किशनगढ़ एक्सप्रेस-वे
जयपुर से किशनगढ़ के बीच 90 किमी लंबा यह एक्‍सप्रेस-वे 6 लेन का है। यह एक्‍सप्रेस-वे नेशनल हाईवे नंबर-आठ पर चलता है। इससे इन इलाकों में पर्यटन की संभावनाएं भी बड़ी तेजी से बढ़ी हैं। 


अहमदाबाद-वडोदरा एक्सप्रेस-वे
अहमदाबाद-वडोदरा एक्सप्रेस-वे को राष्ट्रीय एक्सप्रेस-वे 1 भी कहा जाता है। इसकी लंबाई 95 किमी है। जो नेशनल हाईवे-8 को रिप्‍लेस करता है। जो भारत के सबसे व्यस्त हार्इवे में से एक है। यह एक्सप्रेस-वे गोल्डन चतुर्भुज परियोजना का हिस्सा है।

 

दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेस-वे
गुड़गांव और दिल्ली को जोड़ने वाला एक्सप्रेस-वे 28 किमी लंबा है, जो 6 व 8 लेन का है। इस एक्‍सप्रेस-वे के बनने के बाद गुड़गांव में विकास का नया दौर शुरू हुआ। 

 

वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे
मुंबई वेस्टर्न एक्सप्रेस-वे राजमार्ग 8-10 लेन वाला रिंग रोड है। 25.33 किमी एक्सप्रेस-वे माहिम क्रीक के पास शुरू होता है और शहर की उत्तरी सीमा में मीरा-दहिसर टोल बूथ तक फैला हुआ है। मुंबई में जाम से बचने के लिए इस एक्‍सप्रेस-वे का इस्‍तेमाल किया जाता है। 

 

ईस्‍टर्न एक्सप्रेस-वे
ईस्‍टर्न एक्सप्रेस-वे 6 लेन चौड़ा है। मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस में शुरू होता है और ठाणे तक फैलता है। 23 किलोमीटर लंबा यह एक्‍सप्रेस-वे भी मुंबई की महत्‍वपूर्ण सड़कों में से एक है। 

 

यमुना एक्सप्रेस-वे
ताज एक्सप्रेस-वे के रूप में भी जाना जाने वाला यमुना एक्सप्रेस-वे 165 किमी लंबा है, जो 6-लेन का है। यह ग्रेटर नोएडा से शुरू हो कर आगरा तक जाता है। एक्सप्रेस-वे में 7 इंटरचेंज और कई प्रमुख पुल शामिल हैं। यह सीसीटीवी के माध्‍यम से कंट्रोल किया जाने वाला एक्‍सप्रेस-वे है। जहां सुरक्षा और दुर्घटना सहायता के लिए एसओएस बूथ, मोबाइल रडार मिनिमम और मैक्सिमम स्‍पीड पर निगरानी की व्‍यवस्‍था है। 

 

आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे
आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे की लंबाई 302 किमी है।  यह भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे है। इस एक्सप्रेस-वे ने उत्तर प्रदेश में आगरा और लखनऊ के शहरों के बीच की दूरी को कम कर दिया। यह एक 6-लेन एक्सप्रेस-वे है जो भविष्य में 8-लेन तक चौड़ा किया जा सकता है। 

 

इलाहाबाद-बाईपास एक्सप्रेस-वे
82 किमी लंबा इलाहाबाद बाईपास एक्‍सप्रेस-वे गोल्डन चतुर्भुज परियोजना का हिस्सा है। यह 4-लेन एक्सप्रेस-वे मौजूदा एनएच -2 पर केवल 2 किमी के लिए इलाहाबाद शहर के उत्तर में चलता है। 

 

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे
नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे उत्तर प्रदेश से दिल्ली में छः लेन वाला राजमार्ग है। सुंदर एक्सप्रेसवे 24 किमी लंबा है और राष्ट्रीय राजमार्ग 2 से छुटकारा पाता है। 

 

आगे पढ़ें ... और एक्‍सप्रेस-वे के बारे में 

ईस्‍टर्न पेरिफेरल एक्‍सप्रेस-वे 
ईस्‍टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे, जिसे कुंडली-गाजियाबाद-पलवल (केजीपी) एक्सप्रेस-वे या नेशनल एक्सप्रेस-वे दो भी कहा जाता है। इसकी लंबाई 135 किमी है। छह लेन का यह एक्सप्रेस हरियाणा और उत्तर प्रदेश राज्यों से गुज़र रहा है। एक्सप्रेस-वे कुंडली, सोनीपत से शुरू होता है, उत्तर प्रदेश में बागपत, गाजियाबाद और नोएडा जिलों और हरियाणा के फरीदाबाद जिले से गुजरने से पहले पलवल के पास  शामिल हो जाता है। 

 

आगे पढ़ें ... 

 

वेस्‍टर्न पेरिफेरल एक्‍सप्रेस-वे 
वेस्‍टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे को कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस-वे भी कहा जाता है, जो 135.6 किमी लंबा है। अभी यह पलवल से मानेसर तक ही बन पाया है। शेष यह जल्‍द ही शुरू होने की संभावना है। 


डंकुनी-पालसीट एक्सप्रेसवे
कोलकात्‍ता के डंकुनी-पालसीट रोड को दुर्गापुर एक्सप्रेस-वे भी कहा जाता है। इसकी लंबाई 65 किलोमीटर है, जो पुराने ग्रांड ट्रंक रोड का हिस्‍सा है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट