Home » Economy » Infrastructureजेटली ने इंफ्रा पर निवेश बढ़ाने की जरूरत पर बल - Finance Minister emphasised the need to continue the momentum on infrastructure creation

दुनिया के मुकाबले भारत सबसे ज्‍यादा कर रहा इंफ्रा पर निवेश, इन्‍वेस्‍टमेंट बढ़ाने की जरूरत बताई

अरुण जेटली ने अर्थव्‍यस्‍था में मजबूती के लिए इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और रेलवे में लगातार निवेश के लिए जरूरत पर बल दिया है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने अर्थव्‍यस्‍था में मजबूती के लिए इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और रेलवे में लगातार निवेश के लिए जरूरत पर बल दिया है। फिक्‍की की वार्षिक बैठक में बोलते हुए उन्‍होंने कहा कि भारत दुनिया में सबसे ज्‍यादा इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर खर्च करने वाला देश है और इसे बनाए रखने की जरूरत है।

 

रेलवे में निवेश बढ़ाने पर जोर दिया

उन्‍होंने कहा कि रेलवे इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर पर निवेश तेजी से बढ़ाने की जरूरत है। इसमें स्‍टेशनों का आधुनिकरण, सुपरफास्‍ट और बुलेट ट्रेन जैसी योजनाओं पर काम चल रहा है।

 

बैंकों में कर भारी निवेश

उन्‍होंने कहा कि सरकार बैंकों का रिकैपिटलाइजेशन करने जा रही है। इसमें बड़ा निवेश किया जा रहा है। इससे सरकारी बैंकों की कर्ज देने की क्षमता बढ़ेगी। अभी बैंक कर्ज देने में दिक्‍कत महसूस कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि सरकार की प्रॉयरिटी अगले साल तक बैंकों की लैंडिंग क्षमता को बढ़ाने की है।

 

 

यह भी पढ़ें : वेतन से ज्‍यादा मिलने लगेगी पेंशन, ये है तरीका

 

 

स्‍ट्रक्‍चरज चेंल लाए जा रहे

उन्‍होंने कहा कि वैश्विक मंदी के बीच भी भारत में स्‍ट्रक्‍चरल चेंज हुए हैं। उन्‍होंने कहा कि 2017 के दौरान देश में कई स्‍ट्रक्‍चरल चेंज हुए है। जेटली ने कहाकि अगले साल सरकार के एजेंडे में बैंकों की फंडिग को बढ़ाना है। इसके अलावा सरकारी बैंकों को मजबूत करना भी शामिल है।

 

एयरइंडिया की बिक्री एजेंडे में

उन्‍होंने कहा कि सरकार एयरइंडिया को बेचने के लिए एडवाइजर की नियुक्ति जल्‍द करेगी। सरकार के एजेंडे में इस काम को जल्‍द से जल्‍द पूरा करना है। हालांकि उन्‍होंने इस मामले पर ज्‍यादा जानकारी नहीं दी। इसके अलावा उन्‍होंने भरोसा जताया कि सरकार अपने डिसइन्‍वेंस्‍टमेंट कार्यक्रम को लेकर गंभीरी है और उम्‍मीद है कि लक्ष्‍य से ज्‍यादा पैसा जुटाने की कोशिश करेगी।

 

 

यह भी पढ़ें : बैंकों में सेफ नहीं है आपकी पूरी डिपॉजिट, जान लें रहेंगे फायदे में

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट