बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureईडी ने एयर एशिया के अफसरों के खिलाफ दर्ज किया केस, इंटरनेशनल लाइसेंस के लिए कानून तोड़ने का आरोप

ईडी ने एयर एशिया के अफसरों के खिलाफ दर्ज किया केस, इंटरनेशनल लाइसेंस के लिए कानून तोड़ने का आरोप

जांच एजेंसी सीबीआई के बाद अब ईडी ने एयर एशिया और इसके टॉप ऑफिशियल के खिलाफ केस दायर किया है।

1 of

नई दिल्ली. एयर एशिया का मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। जांच एजेंसी सीबीआई के बाद अब ईडी ने एयर एशिया और इसके टॉप ऑफिशियल के खिलाफ केस दायर किया है। ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में यह केस दायर किया है। ईडी का आरोप है कि अधिकारियों ने इंडियन वेंचर एयर एशिया इंडिया लिमिटेड के लिए इंटरनेशन लाइसेंस हासिल करने के लिए सरकार की पॉलिसीज को तोड़ मरोड़कर पेश किया। जो कानून का उल्लंघन है। 

 

 

ईडी के ऑफिशियल ने बताया कि वह इस मामले की पूरी जांच के लिए सीबीआई के भी संपर्क में हैं। दोनों एजेंसियों के केस में दोषी का नाम समान है। दोनों एजेंसियों को भरोसा है कि जांच सही दिशा में जा रही है। एजेंसी इस बात की जांच करेगी क्या कथित रूप से इस धन का इस्तेमाल गैर-कानूनी तरीके से संपत्तियों को बनाने के लिए किया गया। ईडी ने इस मामले में एयर एशिया और उसके टॉप ऑफिशियल के खिलाफ अलग से फ्रेश केस दर्ज किया है। केस फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट (FEMA) के तहत दर्ज किया गया है।  

 

मिस्त्री के आरोप के बाद रजिस्टर हुआ था केस

यह केस पिछले साल समूह के हटाए गए चेयरमैन साइरस मिस्त्री के आरोप के बाद रजिस्टर किया गया था। मिस्त्री ने भारत और सिंगापुर में छद्म इकाइयों के जरिए एयर एशिया एयरलाइंस में 22 करोड़ रुपए के धोखाधड़ी के लेनदेन का आरोप लगाया था।

 

सीबीआई ने भी दर्ज किया है केस 
इसके पहले सीबीआई ने एयर एशिया ग्रुप के CEO एंथनी फ्रांसिस टोनी फर्नांडीज सहित 5 से ज्‍यादा लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। जांच एजेंसी का भी कहना था कि इन लोगों ने इंटरनेशनल फ्लाइंग लाइसेंस लेने के लिए कानूनों का उल्‍लंघन किया है। अधिकारियों के मुताबिक, एयर एशिया के डायरेक्‍टर्स ने एविएशन सेक्‍टर के 5/20 नियमों से छूट के लिए कानून तोड़े हैं। इसके अलावा फर्नांडीज व अन्‍य पर फॉरेन इनवेस्‍टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) नियमों का भी उल्‍लंघन करने का आरोप है। 

 

क्‍या है 5/20 नियम? 
5/20 नियम इंटरनेशनल फ्लाइंग लाइसेंस से संबंधित है। इसका अर्थ है कि यह लाइसेंस लेने के लिए किसी भी विमानन कंपनी के पास 5 साल का अनुभव और 20 विमान होने चाहिए। CBI इस मामले में दिल्‍ली, मुंबई और बेंगलुरु में 6 जगहों पर सर्च ऑपरेशन चला रही है। 

 

FIR में इनके नाम हैं शामिल
CBI की ओर से दर्ज FIR में टोनी फर्नांडीज के अलावा, ट्रैवल फूड ओनर सुनील कपूर, एयर एशिया के डायरेक्‍टर आर वेंकटरमन, एविएशन कंसल्‍टेंट दीपक तलवार, सिंगापुर स्थित SNR ट्रेडिंग के डायरेक्‍टर राजेन्‍द्र दुबे और कुछ अनजान सरकारी कर्मचारियों के नाम भी शामिल हैं। CBI ने टोनी फर्नांडीज पर लाइसेंस के लिए क्‍लीयरेंस पाने को लेकर सरकारी कर्मचारियों को अपने पक्ष में करने, एविएशन के मौजूदा 5/20 नियम से छूट पाने और रेगुलेटरी पॉलिसीज में बदलाव करने का आरोप लगाया है।

 

सीबीआई के आरोप पर क्या कहा था एयर एशिया ने

जांच एजेंसी के आरोप पर एयर एशि‍या ने कहा था कि‍ सीबीआई के आरोप बेतुके हैं। कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया कि‍ सीबीआई का यह आरोप बेमानी है कि एयर एशि‍या लि‍मि‍टेड का कंट्रोल फॉरेन एक्‍सचेंज इनवेस्‍टमेंट एक्‍ट ( FEMA ) के कायदों के हि‍साब से नहीं चल रहा था। एयरलाइन के मुताबि‍क, दि‍ल्‍ली हाईकोर्ट के आदेश के तहत डीजीसीए ने फरवरी 2017 में इस सि‍लसि‍ले में एक वि‍स्‍तृत आदेश जारी कि‍या था। इस आदेश में कहा गया था कि ब्रांड लाइसेंस एग्रीमेंट की शर्तों का मतबल केवल इतना था कि ब्रांड और उसकी सेवाओं में एकरूपता बनी रहे। यह शर्तें यात्रि‍यों के फायदे के लि‍ए हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट