विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureUP RERA issues deregistration notices to 7 builders

इन बिल्डरों से बुक कराया है घर तो हो जाएं सावधान, पंजीकरण हो सकता है रद्द

बिल्डरों को नोटिस का जवाब देने के लिए दो सप्ताह का समय दिया

UP RERA issues deregistration notices to 7 builders

नई दिल्ली। रेरा ट्रिब्युनल ने शुक्रवार को सात बिल्डरों के 14 प्रोजेक्टों के लिए नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही ट्रिब्युनल ने बिल्डरों को 15 दिन के अंदर जवाब दाखिल करने का भी आदेश दिया है। इस दौरान अगर रेरा को संतोषजनक दवाब नहीं मिलता तो इन सातों बिल्डरों के प्रोजेक्ट्स को वापस लेकर को-डेवलपर से निर्माण पूरा कराया जाएगा। इन प्रोजेक्टों में 4800 फ्लैट खरीदारों का आकलन है। यूपी रेरा के अध्यक्ष राजीव कुमार और सदस्य बलविंदर कुमार ने बताया कि प्रोजेक्ट में पैसा लगाने वाले लोगों ने बिल्डरों के खिलाफ रेरा में शिकायत दर्ज कराई थी। लोगों की शिकायत है कि ये बिल्डर प्रोजेक्ट को पूरा नहीं कर रहे हैं। लोगों की शिकायतों पर रेरा की तरफ से सुनवाई की गई। लेकिन कोई भी बिल्डर सुनवाई में शामिल नहीं हुआ। 

रेरा ने बिल्डरों को नोटिस का जवाब देने के लिए दो सप्ताह का समय दिया


इससे पहले रेरा ने बिल्डरों को चेतावनी नोटिस भी जारी किया था।  अब तक कोई जवाब न मिलने पर इनके प्रोजेक्टों का पंजीकरण रद्द करने का नोटिस जारी किया गया है। रेरा ने बिल्डरों को नोटिस का जवाब देने के लिए दो सप्ताह का समय दिया है। यदि बिल्डर दो सप्ताह के भीतर जवाब नहीं देते हैं तो रेरा इनके प्रोजेक्ट्स  अपने हाथ में ले लेगा। उसे पूरा कराने के लिए को-डेवलपर लाया जाएगा। कुछ को-डेवलपर इन प्रोजेक्ट को बनाने के लिए तैयार भी हैं।

 इन प्रोजेक्ट में करीब 4800 फ्लैट खरीदार शामिल हैं


अगर खरीदारों के संगठन चाहें तो उनको भी दिया जा सकता है। बची हुई संपत्ति को भी वे विकसित करेंगे। इन प्रोजेक्ट में करीब 4800 फ्लैट खरीदार शामिल हैं। इनको घर दिलाने के लिए रेरा प्रयास कर रहा है। बलविंदर कुमार ने बताया कि 20 और बिल्डरों की सूची तैयार की गई है, जिनके प्रोजेक्ट अटके हुए हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन