विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureTrain 18 will go from Delhi to Varanasi in just 8 hours, 1.5 times faster than fastest train

दिल्ली से वाराणसी के बीच 750 किमी का सफर सिर्फ 8 घंटे में तय करेगी ट्रेन 18

इस रूट पर सबसे तेज ट्रेन से भी डेढ गुना ज्यादा तेज होगी, कुंभ से पहले शुरू होगा संचालन

Train 18 will go from Delhi to Varanasi in just 8 hours, 1.5 times faster than fastest train

भारतीय रेलवे की पहली बिना इंजन की सेमी-हाई स्पीड ट्रेन ‘Train 18’ दिल्ली से वाराणसी के बीच का 750 किमी का सफर सिर्फ आठ घंटे में पूरा कर लेगी। इस रूट पर अभी सबसे तेज ट्रेन 11.30 घंटे का समय लेती है। ट्रेन-18 की रफ्तार 160 किमी प्रति घंटा होगी जो सबसे तेज ट्रेन से डेढ गुना अधिक है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इसे अगले हफ्ते से संचालित किए जाने की उम्मीद है। 14 जनवरी से प्रयागराज में कुंभ मेला लगने वाला हैउससे पहले ट्रेन का संचालन शुरू हो जाएगा। दिल्ली से वाराणसी के रूट पर ट्रेन कानपुर और इलाहाबाद स्टेशन पर भी रुकेगी।

 

नई दिल्ली.

भारतीय रेलवे की पहली बिना इंजन की सेमी-हाई स्पीड ट्रेन ‘Train 18’ दिल्ली से वाराणसी के बीच का 750 किमी का सफर सिर्फ आठ घंटे में पूरा कर लेगी। इस रूट पर अभी सबसे तेज ट्रेन 11.30 घंटे का समय लेती है। ट्रेन-18 की रफ्तार 160 किमी प्रति घंटा होगी जो सबसे तेज ट्रेन से डेढ गुना अधिक है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इसे अगले हफ्ते से संचालित किए जाने की उम्मीद है। 14 जनवरी से प्रयागराज में कुंभ मेला लगने वाला है, उससे पहले ट्रेन का संचालन शुरू हो जाएगा। दिल्ली से वाराणसी के रूट पर ट्रेन कानपुर और इलाहाबाद स्टेशन पर भी रुकेगी।

 

अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाओं से है लैस

चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (ICF) में बनी इस ट्रेन को ‘मेक इन इंडिया’ इनिशिएटिव के तहत बनाया गया है। इस ट्रेन में अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं दी गई हैं। इसमें ऑटोमैटिक एंट्री-एक्जिट डोर, स्लाइडिंग फुटस्टेप्स, कंफर्टेबल यूरोपीयन-स्टाइल सीट्स, एक्जीक्यूटिव क्लास में रोटेटिंग सीट्स, एयरक्राफ्ट जैसे डिफ्यूजिंग एलईडी लाइटिंग, धूल को अंदर आने से रोकने और यात्रियों के आसानी आवागमन के लिए सील किए हुए गलियारे, वाई-फाई, सीसीटीवी सर्विलांस, स्मोक डिटेक्टर्स, दिव्यांगों के लिए खास तरह के बाथरूम और व्हीलचेयर के लिए पार्किंग स्पेस, कार के जैसे आगे पुश होने वाली रिक्लाइनिंग सीट्स और मॉड्यूलर बायो-वैक्यूम टाॅयलेट्स होंगी।

 

सामान्य क्लास में भी होगी एसी की सुविधा

इस ट्रेन में दो क्लास होंगी- एक सामान्य और दूसरी एक्जीक्यूटिव क्लास। दोनों ही पूरी तरह से एयर कंडीशंड होंगी। कुंभ मेले से प्रवासी भारतीय दिवस के प्रतिनिधियों को गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली लाने के लिए चलाई जाने वाली चार ट्रेनों में से एक ट्रेन यह भी होगी। फिलहाल इस ट्रेन का किराया तय नहीं किया गया है। इसके किराए में खाने का मूल्य भी शामिल होने की संभावना है।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन