Home » Economy » InfrastructureThis doctor charges just 5 Rs

5 रुपए में पूरा हेल्‍थ पैकेज, टॉप कॉलेज से पढ़े डॉक्‍टर ने कि‍या कमाल

कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो रुपयों से ज्‍यादा तवज्‍जो इंसानि‍यत को देते हैं।

1 of

मांड्या। जहां पूरी दुनि‍या पैसों के पीछे भाग रही है वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो रुपयों से ज्‍यादा तवज्‍जो इंसानि‍यत को देते हैं। ऐसा ही शख्‍स हैं शंकर गौड़ा, जि‍न्‍हें सारा शहर 5 रुपए वाला डॉक्‍टर कह कर बुलाता है। कर्नाटक में शक्कर जिले के रूप में मशहूर मांड्या में वह बीमारों का मात्र पांच रुपए में इलाज करते हैं। वह रोजाना करीब पांच सौ बीमारों का उपचार करते हैं।

डॉ गौड़ा मरीज को पांच रुपए में इलाज का पूरा पैकेज मुहैया कराते हैं। इसमें जांच, परामर्श, दवाई लिखना और इंजेक्शन समेत चिकित्सा शामिल है। वह पिछले 35 साल से कर्नाटक के इस गन्ना बहुल जिले में अपनी प्रैक्टिस कर रहे हैं।

 

शिवाली के पैतृक और बांडी गौडा के निवासी डॉ गौड़ा के चाहने वाले पूरे जिले में फैले हुए हैं। उन्होंने अच्छे वेतन की पेशकश के बावजूद किसी निजी अस्पताल को अपनी सेवाएं नहीं दी और न ही अपनी फीस में इजाफा किया। शिवाली के पैतृक और बांडी गौडा के निवासी डॉ गौड़ा के चाहने वाले पूरे जिले में फैले हुए हैं। उन्होंने अच्छे वेतन की पेशकश के बावजूद किसी निजी अस्पताल को अपनी सेवाएं नहीं दी और न ही अपनी फीस में इजाफा किया। आगे पढ़ें 

नहीं करते प्राइवेट प्रैक्टिस 
मणिपाल के उच्च प्रतिष्ठित कस्तूरबा मेडिकल लेज से एमबीबीएस की डिग्री हासिल करने के बाद डॉ गौड़ा ने परास्नातक डिप्लोमा किया। चर्म रोग के विशेषग्य डॉ गौड़ा  गांव और शहर स्थित अपने क्लीनिक में रोजाना कम से कम 500 मरीजों को देखते हैं। उनकी लोकप्रियता जिले के दूर दराज के इलाकों तक है। 
शि‍वालि‍क के रहने वाले डॉक्‍टर गौड़ा मांड्या में प्रैक्टिस कि‍या करते थे, जो उनके गांव से करीब 12 कि‍लोमीटर दूर है। उन्‍होंने नोटि‍स कि‍या कि उनके इलाके के कई लोग वहां इलाज के  लि‍ए आते हैं। इसके बाद उन्‍होंने तय कि‍ वह अपने गांव जाकर वहीं प्रैक्टिस करेंगे। 

 

नहीं है गाड़ी
गौड़ा डॉक्‍टरी के अलावा छोटे पैमाने पर खेती-बाड़ी भी करते हैं। इतने वर्षों का अनुभव होने के बावजूद उनके पास अभी तक खुद की गाड़ी नहीं है। हर दि‍न वह अपने पब्‍लि‍क ट्रांसपोर्ट से अपने क्‍लीनि‍क पहुंचते हैं। रोज की तरह यहां हमेशा लंबी लाइन लगी रहती है। भीड़ कि‍तनी भी हो वह सभी मरीजों को देखे बि‍ना नहीं उठते। उनके पास आने वाले ज्‍यादातर मरीज इलाज से संतुष्‍ट दि‍खाई देते हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट