बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureआने वाले वक्त में मालामाल कराएगा सोलर बि‍जनेस, यहां होता है एडवांस कोर्स

आने वाले वक्त में मालामाल कराएगा सोलर बि‍जनेस, यहां होता है एडवांस कोर्स

दुनि‍याभर के वि‍शेषज्ञ यह मानते हैं कि‍ आने वाला वक्‍त सौर ऊर्जा की है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। सौर ऊर्जा के क्षेत्र में दुनि‍या लगातार तरक्‍की कर रही है। दुनि‍याभर के वि‍शेषज्ञ यह मानते हैं कि‍ आने वाला वक्‍त सौर ऊर्जा की है। यह तेजी से पॉपुलर हो रहा है मगर इसके बारे में लोगों को बहुत कम जानकारी है, लोग केवल इतना जानते हैं कि‍ सूरज की रोशन से बि‍जली पैदा की जाती है और यह बहुत महंगा और झंझट भरा काम है।

मगर सच्‍चाई ये है कि‍ सौर ऊर्जा पैदा करना और यूज करना अब लगातार आसान होता जा रहा है। इस क्षेत्र में लगातार नई तकनीक आ रही हैं। अगर आप करि‍यर बनाने को लेकर संजीदा हैं तो सौर ऊर्जा का ये कोर्स आपकी बहुत मदद कर सकता है। आप नौकरी कर सकते हैं और खुद का बि‍जनेस भी शुरू कर सकते हैं। नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ सोलर एनर्जी और राष्‍ट्रीय उद्यमि‍ता एवं लघु व्‍यवसाय वि‍कास संस्‍थान (NIESBUD) दोनों में इसके लि‍ए वि‍शेष ट्रेनिंग कोर्स चलाए जाते हैं। NIESBUD सीनि‍यर एडवाइजर, रंगनाथ कृष्‍णचन्‍द्र ने बताया कि‍ यहां कराए जाने वाले कोर्स में सोलर एनर्जी के टेक्‍नि‍कल पहलुओं की जानकारी दी जाती है। आगे पढ़ें 

आज की तकनीक पढ़ाई जाती है

 

नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ सोलर एनर्जी एडवांस सोलर प्राफेशनल कोर्स करवाता है। इस कोर्स में सौर ऊर्जा की बारीकि‍यां सि‍खाई जाती हैं। इसमें आज की तकनीक से रूबरू कराया जाता है। संस्‍थान की ओर से दी गई जानकारी के मुताबि‍क, इसमें Solar Photovoltaic technologies, ऑन ग्रि‍न ऑफ ग्रि‍ड सि‍स्‍टम, सोलर थर्मल टेक्‍नोलॉजी – लो टेंपरेचर हाई टेंपरेचर, सोलर रि‍सोर्स मैनेजमेंट, मैनेजमेंड एंड बि‍जनेस इंटरप्रि‍न्‍योरशि‍प जैसे टॉपि‍क कवर होते हैं। आगे पढ़ें

इस कोर्स को करने के बाद कहां खुलेंगे आपके लि‍ए मौके

- इंटरप्रि‍न्‍योरशि‍प

- प्रोजेक्‍ट इंजीनि‍यर

- ट्रेनर

- इंस्‍टॉलर, ऑपरेशन एंड मेंटीनेंट ट्रेनर 

कैसे लें दाखि‍ला

यह कोर्स इंस्‍टीट्यूट ऑफ सोलर एनर्जी करा रहा है, जो हरि‍याणा के गुड़गांव में मौजूद है। बाहर के छात्रों के लि‍ए यहां ठहरने का भी इंतजाम है। कोर्स की फीस 55000 रुपए है। इसके अलावा फीस पर 18 फीसदी की दर से जीएसटी भी लगेगा। कोर्स 6 महीने तक चलेगा, जि‍समें क्‍लारूम लेक्‍चर, प्रैक्टिकल, फील्‍ड वि‍जि‍ट, इंडस्‍ट्रि‍यल वि‍जि‍ट, लैब एक्‍सपेरि‍मेंट शामि‍ल हैं। यह कोर्स 15 जनवरी 2018 से शुरू होगा। आवेदन खुले हैं और आवेदन करने की आखि‍री तारीख 10 जनवरी है। कुल 40 सीटे हैं जो पहले आओ पहले पाओ के आधार पर भरी जाती हैं। हालांकि‍ अगर आवेदन ज्‍यादा हो जाते हैं तो छात्रों का चयन इंटरव्यू के जरि‍ए कि‍या जाता है। वि‍ज्ञान में सामान्‍य ग्रेजुएट भी दाखि‍ला ले सकता है। आगे पढ़ें

यहां मि‍लेगी अधि‍क जानकारी

अधि‍क जानकारी के लि‍ए आप संस्‍थान की वेबसाइट - https://nise.res.in/ पर जा सकते हैं। यहां करंट नोटि‍स में ही कोर्स के लि‍ए आवेदन का नोटि‍स दि‍या गया है। दूर दराज के छात्र ड्राफ्ट या ऑनलाइन फीस की पेमेंट कर सकते हैं।  आगे पढ़ें नि‍स्‍बड में क्‍या ट्रेनिंग मि‍लती है  

नि‍स्‍बड भी कराता है कोर्स

सोलर एनर्जी के क्षेत्र में करि‍यर बनाने में राष्‍ट्रीय उद्यमि‍ता एवं लघु व्‍यवसाय वि‍कास संस्‍थान भी मदद करता है। यहां समय समय पर शॉर्ट टर्म कोर्स कराए जाते हैं, जि‍सकी जानकारी वेबसाइट पर -  http://niesbud.nic.in/ अपडेट की जाती है। संस्‍थान के सीनि‍यर एडवाइजर, रंगनाथ कृष्‍णचन्‍द्र ने बताया कि‍ यहां कराए जाने वाले कोर्स में सोलर एनर्जी के टेक्‍नि‍कल पहलुओं की जानकारी दी जाती है। इसके अलावा यह भी बताया जाता है कि‍ इस क्षेत्र में कैसे बि‍जनेस कि‍या जा सकता है। इसके अलावा कि‍स आइटम की फंडिंग कहां से होगी इसकी जानकारी भी दी जाती है। उन्‍होंने कहा सोलर एनर्जी एक उभरता हुआ सेक्‍टर है और भारत में इसके ग्रोथ की अपार संभावनाएं मौजूद हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट