Home » Economy » InfrastructureThese 5 weapons will boost the power of Indian army

इस शहादत की भारी कीमत चुकाएगा पाक, भारत खरीद रहा है ये 5 हथि‍यार

पाकि‍स्‍तान के इरादों को भापंते हुए भारत अपनी मारक और बचाव क्षमता में जबरदस्‍त इजाफा करने की तैयारी में जुटा है।

1 of
नई दि‍ल्‍ली। पाकिस्‍तानी रेंजरों की फायरिंग की ताजा घटना में हमने अपने एक कैप्‍टन सहि‍त 4 सैनिकों को खो दि‍या है। पाकि‍स्‍तान के इरादों को भापंते हुए भारत अपनी मारक और बचाव क्षमता में जबरदस्‍त इजाफा करने की तैयारी में जुटा है। इस बार बजट में डिफेंस के लि‍ए 2.95 लाख करोड़ का आबंटन कि‍या गया है। यह पि‍छले साल के मुकाबले 7.81 फीसदी ज्‍यादा है। वर्ष 2017-18 में बजट के लि‍ए 2.74 लाख करोड़ का आवंटन कि‍या गया था। भारतीय सेना ऐसे 5 हथि‍यारों पर काम कर रही है, जि‍नके शामि‍ल हो जाने के बाद पाकि‍स्‍तान को बहुत कम समय में हि‍साब बराबर कर पाएंगे। जानें इन हथि‍यारों की खासि‍यत और अनुमानि‍त कीमत। 

1 . एम 777 होवि‍त्‍जर्स  
भारत ने 145 अल्‍ट्रा लाइट होवि‍त्‍जर्स (M777) के लि‍ए अमेरि‍का से 5000 करोड़ की डील की है। यह कि‍सी भी इलाके में खतरनाक गोलाबारी करने में माहि‍र है और इसका वजन कम है जि‍ससे इसे मूव करना आसान हो जाता है। इसे बीएई सिस्‍टम्‍स ने बनाया है। कुल 25 तोपों का आयात होगा और बाकी भारत में महिंद्रा सिस्‍टम्‍स और बीएई सिस्‍टम्‍स मिलकर बनाएंगे।  

 

2. मीडि‍यम रेंज सरफेस टू एयर मि‍साइल 

भारत ने मीडि‍यम रेंज सरफेस टू एयर मि‍साइल (MRSAM) के लि‍ए इजरायल के साथ 2 अरब डॉलर का करार कि‍या है। ये लॉन्‍ग रेंज सरफेस टू एयर मि‍साइल का ही दूसरा वर्जन है, जि‍से नौसेना के लि‍ए बनाया गया था। अब यह जमीन से दागी जा सकेगी। इसकी रेंज 70 कि‍लोमीटर बताई जा रही है। इस डील के तहत भारत को 200 मि‍साइल मि‍लेंगी। इसका इस्‍तेमाल हवाई हमलों से बचाव में कि‍या जाएगा। 

3. राफेल फाइटर जेट 
भारत ने 36 राफेल फाइटर जेट के लि‍ए फ्रांस से 8.7 अरब डॉलर का सौदा कि‍या है। इसे डीअसॉल्‍ट एवि‍एशन ने बनाया है। पहला राफेल सि‍तंबर 2019 से अप्रैल 2022 के बीच भारत को मि‍लने की उम्‍मीद है। इस एडवांस जेट का वजन 10 टन है। यह 3800 कि‍लोमीटर तक उड़ान भर सकता है और इसका कॉम्‍बेट रेडि‍यस 1850 कि‍लोमीटर है। यह 2000 कि‍लोमीटर प्रति‍घंटा की रफ्तार से उड़ सकता है यानी ध्‍वनि की दोगुनी रफ्तार के आसपास। 

 

4. 155एमएम/52 कैलि‍बर ट्रैक्‍ड गन 
डि‍फेंस उत्‍पाद बनाने वाली प्राइवेट सेक्‍टर की कंपनी Larsen & Toubro ने दक्षि‍ण कोरि‍याई कंपनी HTW से 155 एमएम मोबाइल आर्टि‍लरी गन के लि‍ए 72 करोड़ डॉलर यानी करीब 4800 करोड़ रुपए की डील की है। यह गन HTW कंपनी की के9 थंडर गन का बदला हुआ रूप है, जि‍से भारतीय जरूरतों के हि‍साब से बनाया जा रहा है। आम्‍तौर पर आर्टि‍लरी गनों को ट्रक से खींच कर ले जाना होता है मगर यह गन खुद मूव कर सकती हैं।   

5. एस-400 ट्राएंफ
रूस का दावा है यह दुनि‍या का सबसे अचूक एयर डि‍फेंस सि‍स्‍टम है। भारत से इसके लि‍ए रूस के साथ 5 अरब डॉलर का करार कि‍या है। इस लॉन्‍ग रेंज एयर डि‍फेंस मि‍साइन सि‍स्‍टम में एक साथ 400 कि‍लोमीटर की दूरी तक कई लक्ष्‍यों को भेदने की क्षमता है। यह एयरक्राफ्ट, मि‍साइल और ड्रोन तक को ट्रैक करके मार गि‍रा सकता है। भारत इस तरह के 5 सि‍स्‍टम खरीद रहा है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट