विज्ञापन
Home » Economy » Infrastructurepm modi will inagurate national war memorial today

60 साल बाद भारत को मिला दूसरा National War Memorial, 176 करोड़ रुपए में बनकर हुा है तैयार

176 करोड़ रुपए बनाया गया है यह वॉर मेमोरियल

1 of

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दिल्ली के इंडिया गेट के पास 40 एकड़ में बनाए गए नेशनल वॉर मेमोरियल को समर्पित लोगों को किया। बता दें कि वॉर मेमोरियल को 60 साल पहले ही प्रस्तावित किया गया था। इस वॉर मेमोरियल का उद्घाटन 26 जनवरी 2019 को होना था लेकिन काम पूरा ना होने के चलते इसे टाल दिया गया था। मेमोरियल को देश की रक्षा की खातिर शहीद होने वाले 25 हजार 942 से वीर जवानों की याद में बनाया गया है।  यह शहीद स्मारक पर आजादी से अब तक विभिन्न युद्धों और अभियानों में शरीद होने वाले 22,600 सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए निर्मित किया गया है। इसमें भी इंडिया गेट की तरह अमर ज्योति जलेगी। 

 

नेशनल वॉर मेमोरियल को ऐसे तैयार किया गया है, जिससे राजपथ और इसकी भव्य संरचना के साथ कोई छेड़छाड़ न हो। इससे लगे प्रस्तावित नेशनल वॉर म्यूजियम के लिए उपयुक्त डिजाइन तय करने की प्रक्रिया चल रही है। इसकी शुरुआती लागत करीब 176 करोड़ रुपए है और इसे तैयार होने में अभी कुछ साल और लगेंगे। मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक पिछले साल नवंबर में यह तय किया गया था कि शहीदों की याद में दो अमर ज्योति जलाई जानी चाहिए। इसमें से पहली अमर जवान ज्योति स्मारक पर, जो चार दशक पुराना है और दूसरी नेशनल वॉर मेमोरियल पर। दूसरी अमर ज्योति एक 15 मीटर ऊंची चार कोण वाला स्तंभ होगा।

ऐसा है नेशनल वॉर मेमोरियल


यह स्मारक इंडिया गेट सी-हेक्सागन पर बनाया गया है। 40 एकड़ के क्षेत्र में फैले इस स्मारक में अमर चक्र, वीर चक्र, त्याग चक्र और रक्षक चक्र होगा। यहां 'परम योद्धा स्थल' भी बनाया गया है जहां सेना के सर्वोच्च सम्मान परम वीर चक्र से सम्मानित 21 शहीदों की प्रतिमाएं लगाई गई हैं। इस वॉर मेमोरियल के पास ही नेशनल वॉर म्यूजियम भी बनाने की योजना है। इसके लिए 350 करोड़ रुपए का बजट भी आवंटित कर दिया गया है। 

पिछले लोकसभा चुनावों के प्रचार में किया था वादा


हालांकि इस वॉर मेमोरियल को बनाने का वादा भारतीय सेनाओं से दशकों पहल किया गया था, लेकिन 2014 के लोकसभा चुनावों के प्रचार के दौरान नरेंद्र मोदी ने 26,000 सैनिकों के सम्मान में वॉर मेमोरियल बनाने का वादा किया था। सरकार बनाने के एक साल बाद अक्टूबर 2015 में कैबिनेट ने इस स्मारक को बनाने के लिए 176 करोड़ आवंटित कर दिए।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन