विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructurePM Modi lays foundation stone for Delhi-Meerut Regional Rapid Transit System project

55 मिनट में पहुंच जाएंगे दिल्ली से मेरठ, देश की पहली रैपिड रेल का निर्माण शुरू

30,274 करोड़ रुपए का आएगा खर्च, दिल्ली मेट्रो से सस्ता होगा किराया

1 of

नई दिल्ली। मेरठ समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लोगों का लंबा इंतजार खत्म हो गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली-मेरठ के बीच बनने वाले पहले रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम का उद्घाटन कर दिया है। इस रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम के पूरा होने के बाद दिल्ली से मेरठ का सफर महज 55 मिनट में पूरा हो जाएगा। इस प्रोजेक्ट को 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। 

रैपिड रेल और मेरठ मेट्रो के जरिए आसान होगा सफर
रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम के तहत दिल्ली और मेरठ के बीच का सफर रैपिड रेल और मेरठ मेट्रो के जरिए आसान होगा। दिल्ली से मेरठ के बीच 82 किलोमीटर के सफर के लिए 30,274 करोड़ रुपए खर्च करके रैपिड रेल और मेरठ मेट्रो का निर्माण किया जाएगा। प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली के सराय कालेखां से मेरठ के परतापुर तक रैपिड रेल चलाई जाएगी। इससे आगे का सफर मेरठ मेट्रो के जरिए पूरा किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट को 2024 तक पूरा करने की डेडलाइन तय की गई है। 

ये होंगे स्टेशन
इस पूरे रूट में कुल 22 स्टेशन बनाए जाएंगे। इसमें 10 स्टेशन रैपिड रेल के होंगे और 12 स्टेशन मेरठ मेट्रो के होंगे। इस रूट पर सराय कालेखां, न्यू अशोक नगर, एमईएस कॉलोनी, डौरली मेट्रो, मेरठ नॉर्थ, मोदीपुरम, साहिबाबाद, गाजियाबाद, गुलधर, दुहाई, मुरादनगर, मोदीनगर साउथ, मोदीनगर नॉर्थ, मेरठ साउथ, रिठानी और शताब्दी नगर स्टेशन एलिवेटेड होंगे। आनंद विहार, ब्रह्मपुरी, मेरठ सेंट्रल, भैंसाली और बेगमपुल स्टेशन अंडरग्राउंड होंगे। 

रैपिड रेल से जुड़ जाएंगे दिल्ली-NCR, यूपी, हरियाणा और राजस्थान


केंद्र सरकार ने रैपिड रेल के जरिए यूपी के अलावा दिल्ली-NCR, हरियाणा और राजस्थान को जोड़ने की योजना बनाई है। केंद्र की योजना के अनुसार, दिल्ली मेरठ के अलावा, दिल्ली-पानीपत और दिल्ली अलवर के बीच भी रैपिड रेल चलाई जाएगी। यह तीनों रूट दिल्ली के सराय कालेखां  पर आपस में जुड़ेंगे। यहां पर यात्रियों को भारतीय रेलवे से कनेक्ट करने के लिए निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के लिए भी रास्ता बनाया जाएगा। जब तीनों कॉरिडोर बन जाएंगे तो एक ही ट्रेन में सवार होकर यूपी, दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान के स्टेशन वाले शहरों में पहुंच सकेंगे।

मेरठ समेत एनसीआर में आएगी नौकरियों की बहार


मेरठ के जागृति विहार निवासी राजेश शर्मा का कहना है कि रैपिड रेल के बनने से मेरठ से दिल्ली जाना आसान हो जाएगा। रैपिड रेल के बन जाने के बाद मेरठ से गाजियाबाद, साहिबाबाद, दिल्ली में नौकरी के लिए जाने वालों को आसानी होगी। इसके अलावा रैपिड रेल बनने से मेरठ समेत मोदीनगर-मुरादनगर में कारोबारी गतिविधियां बढ़ेंगी। इससे इस क्षेत्र के लोगों के लिए नौकरियों के अवसर बढ़ेंगे। 

दिल्ली मेट्रो से सस्ता होगा किराया


रैपिड रेल का किराया दिल्ली मेट्रो से सस्ता होगा। रैपिड रेल की डीपीआर के अनुसार औसतन किराया 2 से 2.5 रुपए होगा, जबकि दिल्ली मेट्रो का शुरुआती 12 किमी तक का औसत किराया 2.50 से 5 रुपए के बीच है। इसके अलावा रैपिड रैल कॉरिडोर के दोनों और ट्रांस ओरियंटेड जोन डवलप किए जाएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन