विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureNitin Gadkari inaugurated 1210 meter long Keerian Gandyal Bridge in Jammu Kashmir

158 करोड़ से बना किड़िया-गंडयाल ब्रिज आज से चालू, पंजाब एवं कश्मीर के बीच की दूरी 37 किमी कम हो गई

रावी नदी पर बना ये पुल जम्मू-कश्मीर के कठुआ को पंजाब के पठानकोट से जोड़ेगा

1 of

नई दिल्ली.

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को जम्मू-कश्मीर में रावी नदी पर बने किड़िया-गंडयाल पुल को देश को समर्पित किया। इस पुल पर आवाजाही शुरू होने के साथ ही यहां के स्थानीय लोगों का जीवन काफी आसान हो जाएगा। 1,210 मीटर लंबे इस पुल का निर्माण दो साल पहले शुरू हुआ था। यह 158.84 करोड़ रुपए की लागत से तैयार हुआ है। इसके निर्माण से जम्मू-कश्मीर के कठुआ तथा पंजाब के पठानकोट के बीच की दूरी 45 किलोमीटर से घटकर महज 8.6 किलोमीटर रह जाएगी। इससे न सिर्फ यात्रा का समय बचेगा बल्कि पैसे की भी बचत होगी।

बढ़ाएगा इंटर-स्टेट कनेक्टिविटी

पुल पर वाहनों की आवाजाही शुरू होने से जम्मू के लोगों को ही नहीं बल्कि पंजाब के लोगों को भी लाभ मिलेगा। अमृतसर जाने वाले जम्मू के लोगों के लिए यह पुल वैकल्पिक मार्ग का काम करेगा। यही नहीं वहां के लोग भी इस पुल के रास्ते सीधा जम्मू पहुंच पाएंगे। अमृतसर से जम्मू जाने वाले लोग अब पठानकोट जाने की बजाए सीधा सुंदर नगर से प्रवेश करते हुए कठुआ पहुंच पाएंगे। ऐसे में यह पुल केंद्र सरकार की इंटर स्टेट कनेक्टिविटी का भी एक महत्वपूर्ण अंश रहेगा।

 

चार साल में जम्मू-कश्मीर में बनी 900 किमी लंबी सड़क

मंत्रालय ने जानकारी दी कि 2014 से 2018 के बीच जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क में 969 किमी का इजाफा हुआ है। यहां सड़कों की कुल लंबाई 1,694 किमी से बढ़कर 2,664 किमी हो गई है। नेशनल हाईवे की संख्या भी 7 से बढ़कर 14 हो गई है। इस दौरान 969 किमी लंबाई के नए राष्ट्रीय राजमार्गों की भी घोषणा की गई और 400 किमी लंबी चार राज्य सड़कों को बनाए जाने के को भी स्वीकृति मिली।

 

 

45 हजार करोड़ के 16 प्रोजेक्ट पर चल रहा है काम

2015 में जम्मू-कश्मीर के लिए Prime Minister’s Development Package (PMDP) का ऐलान किया गया था। इसके तहत Road Transport and Highways Ministry 16 प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। इनकी लागत 45,107 करोड़ रुपए है। इसमें से 30,000 करोड़ रुपए की लागत का काम शुरू भी हो चुका है। जम्मू-कश्मीर में दो अहम कॉरीडोर बनाए जा रहे हैं- जम्मू से श्रीनगर और श्रीनगर से लेह। चेनानी-नाशरी सुरंग देश कीर सबसे ऊंची हाईवे सुरंग है। इसके चलते जम्मू से श्रीनगर से बीच का ट्रैवल टाइम ढाई घंटे कम हो गया है और दोनों जगहों के बीच की दूरी 30 किमी कम हो गई है। वहीं श्रीनगर को लेह से जोड़ने वाली जोजिला सुरंग एशिया की सबसे लंबी टू-लेन टनल होगी। इसकी लंबाई 14.2 किमी होगी। इससे दोनों जगहों के बीच का ट्रैवल टाइम साढे तीन घंटों से कम होकर सिर्फ 15 मिनट रह जाएगा।

 

 

इन परियोजनाओं पर हो रहा काम

मंत्रालय ने जानकारी दी कि श्रीनगर में 62 किमी लंबी चार लेन की रिंग रोड का निर्माण हो रहा है। इसकी लागत 1,860 रुपए रहेगी। इससे छह जिलों के 54 गांव जुड़ेंगे। जम्मू की 58.25 किमी लंबी चार-लेन की रिंग रोड का तकरीबन 25 फीसदी काम पूरा हो चुका है। इसकी लागत 1,891 रुपए है। इस प्रोजेक्ट के तहत 8 बड़े पुल, 22 छाेटे पुल, छह फ्लाईओवर और 770 मीटर और 710 मीटर की दो सुरंगें बनाई जाएंगी।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss