Advertisement
Home » Economy » InfrastructureRailway to introduce HHT device to provide confirmed seats on waiting and RAC tickets

खुशखबरी... Waiting और RAC टिकट वालों को कन्फर्म सीट दिलाने के लिए रेलवे की बड़ी पहल

TTE रियल टाइम में आपको दे सकेंगे कंफर्म बर्थ

1 of

नई दिल्ली.

ट्रेन से सफर करने वाले लोगों के लिए खुशखबरी है। जल्द ही भारतीय रेलवे आपके लिए ऐसी योजना को लागू करने वाला है जिससे वेटिंग और RAC टिकट को कन्फर्म कराना और भी आसान हो जाएगा। रेलवे देशभर में अपने नेटवर्क में सभी TTE (Travelling Ticket Examiner) को एक टेबलेट डिवाइस देगा जिसके जरिये टीटीई ट्रेन का रियल टाइम ऑक्यूपेंसी स्टेटस अपडेट कर पाएंगे। Hand Held Terminal (HHT) नाम के इस टैबलेट से आपको रियल टाइम में अपनी सीट कंफर्म कराने में आसानी होगी।

 

रेलवे मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक रेलवे ने 550 HHT डिवाइस अपने नेटवर्क में बांटने की योजना बनाई है। सबसे पहले शताब्दी और राजधानी ट्रेनों में इस डिवाइस का प्रयाग किया जाएगा। इस पहल का रिस्पॉन्स मिलने के बाद रेलवे रिजर्व्ड कोच वाली हर ट्रेन के टीटीई को यह डिवाइस उपलब्ध कराएगा।

 

 

कैसे काम करेगा डिवाइस

इस डिवाइस के जरिए टीटीई ट्रेन के चलने के बाद सीटों की रियल टाइम स्थिति के बारे में सर्वर को अपडेट कर सकेंगे। यानी कितनी बर्थ ऑक्यूपाई हो गई हैं और कितनी खाली हैं। अगर कोई रिजर्व्ड बर्थ खाली मिलती है तो इस बर्थ को HHT डिवाइस पर अपडेट कर दिया जाएगा। ट्रेन के रूट में आगे आने वाले स्टेशनों पर अगर किसी के पास वेटिंग या RAC टिकट है तो उसे रियल टाइम में सीट उपलब्ध करा दी जाएगी। इस डिवाइस के जरिए रेलवे खाली पड़ी सीट्स का बेहतर मैनेजमेंट करते हुए जरूरतमंद लोगों को समय से सीट उपलब्ध करा सकेगा।

 

आगे पढ़ें- GPRS से रहेगा कनेक्टिड

 

GPRS से रहेगा कनेक्टिड

इस डिवाइस के खास फीचर्स यह हैं कि GPRS के माध्यम से सोर्स चार्टबुकिंग लिस्ट और दूर-दराज के लोकेशन के चार्ट भी डाउनलोड कर सकेगा। इसके साथ ही यह हर स्टेशन से ट्रेन के निकलने के एक घंटे में कैंसल किए हुए टिकट को भी चार्ट में अपडेट कर सकेगा।

 

आगे पढ़ेंकंप्यूटराइजेशन को मिलेगा बढ़ावा

 

 

 

कंप्यूटराइजेशन को मिलेगा बढ़ावा

भारतीय रेलवे के मुताबिक सभी ट्रेनों में HHTs की सुविधा प्रदान करने के बाद पेपर चार्ट के बदले ई-चार्ट अपलोड किए जाएंगे। इसके साथ ही ऑनबोर्ड पैसेंजर इंटरफेस ऑपरेशंस का कंप्यूटराईजेशन किया जाएगा। जब यह पूरी तरह इस्तेमाल में आ जाएंगे तो इनके जरिए यात्रियों को ऑनबोर्ड टिकट देने और डिजिटल माध्यम से पेमेंट करने का भी ऑप्शन मिलेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement
Don't Miss