Home » Economy » InfrastructureModi will have to find a new way for S 400

अमेरि‍का ने अटका दी 40 हजार करोड़ की डील, मोदी को ढूंढना होगा दूसरा रास्‍ता

भारत और रूस के बीच हुए एक बड़े रक्षा सौदे में अमेरि‍का ने अड़चन लगा दी है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। भारत और रूस के बीच हुए एक बड़े रक्षा सौदे में अमेरि‍का ने अड़चन लगा दी है। भारत ने एयरफोर्स के लि‍ए रूस से एस-400 ट्राएंफ एयर डि‍फेंस सिस्‍टम खरीदने के लि‍ए डील कर ली है। ये सौदा करीब 40 हजार करोड़ रुपए     का है। पाकि‍स्‍तान और चीन की चुनौति‍यों को देखते हुए यह सि‍स्‍टम भारत के लि‍ए बहुत महत्‍वपूर्ण है। यह एक साथ 300 टारगेट को ट्रैक कर सकता है, मगर इस सौदे के बीच अमेरि‍का ने एक अड़चन लगा दी है। 


अमेरि‍का ने जारी कि‍या फरमान 
अमेरि‍का ने रूस के साथ रक्षा अथवा खुफिया प्रति‍ष्‍ठानों से कि‍सी भी तरह के लेनदेन करने वाले देशों और कंपनि‍यों को प्रति‍बंधि‍त करने का फरमान जारी कि‍या है। सौदे की जानकारी रखने वाले अधि‍कारि‍यों ने बताया कि‍ इस प्रति‍बंध को देखते हुए भारत और रूस अब बीच का रास्‍ता खोज रहे हैं। मि‍साइल खरीदने को  लेकर सारी बातचीत हो चुकी है। 


मोदी-पुति‍न करेंगे घोषणा 
उम्‍मीद है कि‍ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्‍ट्रपति‍ व्‍लादि‍मीर पुति‍न अक्‍टूबर में होने वाले शिखर सम्‍मेलन से पहले इसकी औपचारि‍क घोषणा कर सकते हैं। अमेरि‍का ने काउंटरिंग अमेरि‍काज एडवरसरीज थ्रू सैंक्‍शंस एक्‍ट के तहत रूस पर बैन लगाया गया है। वैसे तो अमेरि‍की सांसद भारत के पक्ष में आवाज उठा चुके हैं मगर अभी तक अमेरि‍का ने आधि‍कारि‍क तौर पर भारत को छूट देने जैसी कोई बात नहीं कही है। 


चीन ने खरीद लि‍या सि‍स्‍टम 
भारत चीन सीमा पर अपनी पोजीशन को मजबूत बनाने के लि‍ए इस सि‍स्‍टम को लगाना चाहता है। गौरतलब है कि‍ चीन ने भी रूस से इस मि‍साइल सि‍स्‍टम को खरीद रहा है। इस मामले में चीन भारत से आगे नि‍कल गया। वह पहला ऐसा देश है जि‍सने इस मि‍साइल सि‍स्‍टम के लि‍ए रूस से सौदा कर लि‍या। चीन ने वर्ष 2014 में यह सौदा कर लि‍या था और रूस उसे कई मि‍साइल दे भी चुका है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट