विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureKailash mansarovar yatra by charter flight

कठिन सफर हो जाएगा आसानः अब चार्टर्ड प्लेन से कर सकेंगे कैलाश मानसरोवर की यात्रा

वीजा प्रणाली आसान बनाने पर भी विचार

Kailash mansarovar yatra by charter flight

Kailash mansarovar yatra by charter flight कैलास मानसरोवर की यात्रा पर जाने वालों की सुविधाओं को बढ़ाने का वादा करते हुए चीन ने आज कहा कि वह तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र में भगवान शिव के इस तीर्थ के समीप एक हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय उड़ानों खासकर चार्टर्ड विमानों के लिए खोलने के साथ ही वीजा प्रणाली आसान बनाने पर विचार कर रहा है।

नयी दिल्ली। कैलास मानसरोवर की यात्रा पर जाने वालों की सुविधाओं को बढ़ाने का वादा करते हुए चीन ने आज कहा कि वह तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र में भगवान शिव के इस तीर्थ के समीप एक हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय उड़ानों खासकर चार्टर्ड विमानों के लिए खोलने के साथ ही वीजा प्रणाली आसान बनाने पर विचार कर रहा है।  चीन के दूतावास में मिनिस्टर एवं डिप्टी चीफ ऑफ मिशन ली बिजियान और तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र में अली प्रीफैक्चर के उप आयुक्त जी किंगमिन ने यहां एक कार्यक्रम में संवाददाताओं को यह जानकारी दी।

 CII और चीनी दूतावास ने मिल कर आयोजित किया कार्यक्रम

कैलास मानसरोवर के तीर्थयात्रियों के साथ संवाद का यह कार्यक्रम भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) और चीनी दूतावास ने मिल कर आयोजित किया था। कार्यकम में चीनी विदेश मंत्रालय में तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र मामलों की महानिदेशक बैमान्यांगज़ोंग और सीआईआई भारत चीन फोरम के अध्यक्ष तरुण विजय भी उपस्थित थे। कार्यक्रम तीर्थयात्रियों की कैलास मानसरोवर यात्रा को लेकर सुझावों एवं मांगों को लेकर जवाब देते हुए श्री ली बिजियान ने कहा कि कैलास मानसरोवर की यात्रा भारत एवं चीन के बीच जनता के बीच संपर्क बढ़ाने का बहुत भी प्रभावी मंच है।

कैलास मानसरोवर में सुविधाओं का विकास

उन्होंने कहा कि यात्रियों की बहुत सारी मांगों में से कुछ मांगों को मानना संभव है और चीन एवं तिब्बत की स्थानीय सरकारें इस बारे में समुचित कदम उठाएंगी लेकिन बहुत सी मांगों को पूरा करना बहुत कठिन है। इस क्षेत्र में आक्सीजन की कमी है और वर्ष में मई से सितंबर तक करीब चार -पांच माह ही काम करना संभव होता है। काम के लिए लोगों की उपलब्धता भी चुनौती है। उन्होंने कहा कि भारत एवं चीन के शीर्ष नेताओं के बीच सहमति के बाद नाथू ला में दूसरा मार्ग खोला गया है। इससे यात्रियों की संख्या भी बढ़ी है। कैलास मानसरोवर में ढांचागत सुविधाओं का विकास किया गया है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Recommendation
विज्ञापन
विज्ञापन