विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureIt will be easy to go to Delhi from Haridwar and Rishikesh soon

जल्द ही दिल्ली से हरिद्वार जाना हो जाएगा आसान, 2 घंटे तक बचेगा समय, ट्रैफिक से भी मिलेगी मुक्ति

30 हजार करोड़ होगी इस प्रोजेक्ट की लागत

1 of

नई दिल्ली। दिल्ली से गाजियाबाद के रास्ते मेरठ को जाने वाले रूट पर देश का सबसे आरामदायक, सबसे सुरक्षित एवं सबसे तेज ट्रेन चलेगी। मंगलवार देर शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट कमेटी ने इस परियोजना को अपनी मंजूरी दे दी। रैपिड द्वारा मेरठ से दिल्ली का 82 किलोमीटर का सफर एक घंटे भी कम समय में तय किया जाएगा। अभी दिल्ली से मेरठ जाने में करीब डेढ़ से दो घंटा लग जाता है। 82 किलोमीटर के इस रूट की पूर्ण लागत 30,274 करोड़ रुपए होगी। इससे न सिर्फ दिल्ली से मेरठ जाना आसान होगा बल्कि हरिद्वार और ऋषिकेश जाना भी उतना ही आसान होगा।

 

कैसे पहुंचे हरिद्वार-ऋषिकेश

दिल्ली से मेरठ के बीच रैपिड रेल सेवा शुरू होने के बाद हरिद्वार-ऋषिकेश जाने वालों के लिए सफर आरामदायक हो जाएगा। अगर आप दिल्ली से हरिद्वार जाते हैं तो पहले आप मेरठ तक रैपिड रेल से एक घंटे से भी कम समय में पहुंच जाएंगे। इसके बाद मेरठ से सीधी बस मिल जाएगी। जो महज 2 घंटे में हरिद्वार पहुंचा देगी। आप मेरठ से हरिद्वार जाने के लिए ट्रेन भी पकड़ सकते हैं। बता दें कि यहां से हर दिन ट्रेन जाती है। मेरठ से हरिद्वार तक 14 ट्रेन रोज़ाना चलती हैं। औसत यात्रा की अवधि 2 घंटे 47 मिनट है। पहली ट्रेन 01:10 पर निकलती है। अंतिम 22:53पर है जो लगभग 2.30 घंटे में हरिद्वार पहुंचा देती है। हरिद्वार से ऋषिकेश जाना काफी आसान है। डायरेक्ट ऑटो , कार बुक करके या बस से जा सकते हैं। बता दें कि अभी दिल्ली से हरिद्वार जाने में कम से कम 4-5 घंटे लग जाते हैं।

चुनाव से पहले रखी जा सकती है नींव


इससे पहले एनसीआरटीसी ने सड़क चौड़ीकरण, जियो इंवेस्टीगेशन सर्वे आदि का कार्य शुरू कर दिया है। साल 2019 में लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य की नींव रख सकती

सराय कालेखां बनेगा सबसे बड़ा जंक्शन

 

दिल्ली-एनसीआर को रैपिड रेल से जोड़ने के लिए दिल्ली के सराय कालेखां को जंक्शन बनाए जाने की तैयारी चल रही है। यहीं से मेरठ, पानीपत और अलवर के लिए रैपिड रेल मिलेगी। इसको देखते हुए सराय कालेखां जंक्शन को बनाए जाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। मेरठ, अलवर और पानीपत के लिए यहीं से रैपिड रेल मिलने के कारण यहां पर अधिक भीड़ होगी। इस कारण इस जंक्शन के लिए अलग तरह की प्लानिंग की जा रही है।


 


 


 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss