Home » Economy » InfrastructureIRCTC had named 11 unauthorised food suppliers

इन जगहों से न मंगवाएं ट्रेन में खाना, रेलवे ने जारी की लि‍स्‍ट

इन दि‍नों कई और सप्‍लायर ट्रेनों में खाना पहुंचाने लगे हैं।

1 of
नई दि‍ल्‍ली। ट्रेन में सफर कर रहे हैं तो ये जानकारी आपके काफी काम की है। सफर के दौरान आप कई जगहों से खाने-पीने का सामान खरीदते हैं इनमें रेलवे कैंटीन, ट्रेन केटरिंग और प्‍लेटफॉर्म पर मौजूद आउटलेट्स व वेंडर शामि‍ल हैं। अगर आप रेलवे की कैंटीन से कुछ खरीदते हैं और उसमें कोई खामी नि‍कलती है तो इसकी जिम्‍मेदारी रेलवे लेती है। इन दि‍नों कई और सप्‍लायर ट्रेनों में खाना पहुंचाने लगे हैं। यह लोग आपकी बर्थ पर आपका मनपसंद खाना पहुंचा देते हैं। इसे देखते हुए केटरिंग, टूरिज्‍म और ऑनलाइन टि‍कटिंग ऑपरेशंस देखने वाली आईआरसीटीसी ने यात्रि‍यों को चेतावनी जारी की है कि ट्रेनों में खाना सप्‍लाई करने का अधि‍कार केवल आईआरसीटीसी के पास है। IRCTC ने ट्रेनों में गैर कानूनी तरीके से खाना पहुंचाने वाले 11 सप्‍लायर्स लि‍स्‍ट जारी करते हुए यात्रि‍यों को चेताया है।  आगे पढ़ें 

रहें अलर्ट 
आईआरसीटीसी ने 11 गैर अधि‍कृत फूड सप्‍लायर्स का नाम जारी कि‍या है, जि‍नमें रेलयात्री, खानागाड़ी, खानाऑनलाइन, ट्रैवलजायका, ट्रेनफूड, ट्रैवलफूड, ट्रैवलरफूड, फूड इन ट्रेन, फूड ऑन व्‍हील, रेलरसोई और ईरेल शामि‍ल हैं। 
कॉरपोरेशन की ओर से दी गई सूचना के मुताबि‍क, ट्रेनों में खाना ऑर्डर करने की जो मौजूदा व्‍यवस्‍था है उसके अलावा जल्‍द ही 'मेन्‍यू ऑन रेल' एप  लॉन्‍च कि‍या जाएगा। इस एप के जरि‍ए यात्री अपनी मर्जी का खाना ऑर्डर कर पाएंगे। यह चार कैटेगरी की ट्रेनों के  लि‍ए उपलब्‍ध होगा 
पहली कैटगेरी - मेल, एक्‍सप्रेस, हमसफर
दूसरी कैटेगरी - राजधानी, शताब्‍दी, दूरंतो 
तीसरी कैटेगरी -  गति‍मान 
चौथी कैटेगरी - तेजस  

आगे पढ़ें रेलवे ने शुरू की एक और नई सुवि‍धा 

 

 

ट्रेनों में शुरू हुई नई सुवि‍धा, नहीं कटेगी आपकी जेब 
ट्रेनों में आपकी जेब पर बेईमानी का डाका नहीं पड़ेगा। भारतीय रेलवे के इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्‍म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने खाने पीने की चीजों की ओवर चार्जिंग पर पूरी तरह से लगाम लगाने के लि‍ए बड़ा कदम उठाया है। आईआरसीटीसी ने फि‍लहाल तीन ट्रेनों से इसकी शुरुआत की है। इन तीनों ट्रेनों में पीओएस मशीन की सुवि‍धा दी गई है। अभी ये सुवि‍धा जि‍न तीन ट्रेनों में शुरू की गई हैं उनके नाम हैं - अरावली एक्‍सप्रेस, तेलंगाना एक्‍सप्रेस और सियालदाह अजमेर एक्‍सप्रेस। रेलवे की योजना है कि‍ धीरे धीरे सभी ट्रेनों में पीओएस मशीन उपलब्‍ध करा दी जाए ताकि‍ सारी पेमेंट डि‍जिटल हो जाए और ओवरचार्जिंग की समस्‍या से पूरी तरह छुटकारा मि‍ल जाए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट