बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureये हैं मोदी सरकार के टॉप 5 हाइवे प्रोजेक्‍ट्स, बदल देंगे देश की तस्‍वीर

ये हैं मोदी सरकार के टॉप 5 हाइवे प्रोजेक्‍ट्स, बदल देंगे देश की तस्‍वीर

हाल ही में सरकार ने देश के पूर्वी और पश्चिमी बॉर्डर को जोड़ने वाले भारतमाला प्रोजेक्‍ट पर काम शुरू कर दिया।

1 of

नई दिल्‍ली. मोदी सरकार देश में रोड कनेक्टिविटी सुधारने पर विशेष ध्‍यान दे रही है। नए हाइवे के निर्माण और मौजूदा हाइवे के विस्‍तार के लिए कई प्रोजेक्‍ट्स पर काम हो रहा है। हाल ही में सरकार ने देश के पूर्वी और पश्चिमी बॉर्डर को जोड़ने वाले भारतमाला प्रोजेक्‍ट पर काम शुरू कर दिया। 

 

सरकार के कई ड्रीम प्रोजेक्‍ट्स के जरिए देश में वर्ल्‍ड क्‍लास इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर तैयार होने की उम्‍मीद है। इससे न केवल देश में एक जगह से दूसरी जगह तक आवाजाही सुगम बनेगी बल्कि देश का इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर भी मजबूत होगा, जो देश के आर्थिक विकास के लिए काफी महत्‍व रखता है। 

 

आइए आपको बताते हैं मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए टॉप 5 हाइवे प्रोजेक्‍ट्स के बारे में, जिनके बारे में कहा जा रहा है कि ये हाइवे देश की तस्‍वीर बदल कर रख देंगे।

 

आगे पढ़ें- क्‍या है भारतमाला प्रोजेक्‍ट 

1. भारतमाला प्रोजेक्‍ट

 
- लागत लगभग 5.35 लाख करोड़ रुपए
- लंबाई- 34,800 किलोमीटर

 

भारतमाला प्रोजेक्‍ट भारत के पश्चिम और पूर्वी बॉर्डर को जोड़ेगा। यह हाईवे प्रोजेक्‍ट गुजरात व राजस्‍थान से शुरू होगा और पंजाब की ओर बढ़ते हुए हिमालयन स्‍टेट्स को कवर करेगा। बाद में पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ते हुए मिजोरम में खत्‍म होगा। यह महाराष्‍ट्र से पश्चिम बंगाल तक के तटवर्ती राज्‍यों के रोड नेटवर्क को भी जोड़ेगा। सरकार की योजना इस प्रोजेक्‍ट को 5 सालों के अंदर खत्‍म करने की है। इस प्रोजेक्‍ट के पहले लॉट के लिए नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) ने 20 प्रोजेक्‍ट्स को चुना है। ये प्रोजेक्‍ट्स पांच राज्‍यों में बनेंगे।

 

आगे पढ़ें- अन्‍य प्रोजेक्‍ट्स के बारे में 

2. चारधाम हाईवे प्रोजेक्‍ट

 
- लागत 12,000 करोड़ रुपए

 

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने इस हाइवे प्रोजेक्‍ट की नींव दिसंबर 2016 में रखी थी। इसके तहत गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ को जोड़ने वाले 900 किलोमीटर के मौजूदा हाईवे को चौड़ा बनाया जाएगा। इस हाइवे के बनने से चारधाम की यात्रा ज्‍यादा सुरक्षित और सुविधाजनक बन जाएगी। प्रोजेक्‍ट में लैंडस्‍लाइड से सुरक्षा के इंतजाम, बाईपास, लंबे पुल, टनल, एलीवेटेड कॉरिडोर के निर्माण की दिशा में काम होगा। मोदी सरकार का यह ड्रीम प्रोजेक्‍ट 2018 के अंत तक पूरा होगा। 
 
आगे पढ़ें- नॉर्थ ईस्‍ट का हाइवे 

3. नॉर्थ ईस्‍ट एक्‍सप्रेस हाइवे

 
- अनुमानित लागत- 40,000 करोड़ रुपए
- लंबाई 1,300 किलोमीटर

 

नॉर्थ ईस्‍टर्न रीजन का यह हाइवे असम में बनने वाला है। यह ब्रह्मपुत्र नदी के किनारों पर बनेगा।

 
आगे पढ़ें- एक अन्‍य हाइवे प्रोजेक्‍ट के बारे में 

4. सेतु भारतम प्रोजेक्‍ट

 
- अनुमानित लागत 50,800 करोड़ रुपए

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस प्रोजेक्‍ट को 4 मार्च 2016 को लांच किया था। इस प्रोजेक्‍ट के जरिए सरकार का उद्देश्‍य सभी नेशनल हाईवेज को 2019 तक रेलवे क्रॉसिंग मुक्‍त करना है। प्रोजेक्‍ट के तहत 208 रेलवे क्रॉसिंग को रेल ओवर ब्रिजेस (ROBs) से रिप्‍लेस किया जाएगा, जिस पर 20,800 करोड़ रुपए खर्च आएगा। साथ ही अंग्रेजों के समय के 1,500 पुलों की मरम्‍मत की जाएगी, जिसकी लागत लगभग 30,000 करोड़ रुपए आएगी।

 

आगे पढ़ें- एक अन्‍य प्रोजेक्‍ट के बारे में 

5. दिल्‍ली-जयपुर सुपर एक्‍सप्रेस-वे 


- अनुमानित लागत- 18,000 करोड़ रुपए
- लंबाई- 225 किलोमीटर

 

यह एक्‍सप्रेस-वे दिल्‍ली-गुरुग्राम एक्‍सप्रेस-वे से निकलेगा और 7 जिलों के 423 गांवों से होते हुए गुजरेगा। इसके बन जाने से दिल्‍ली से जयपुर तक की दूरी लगभग 40 किलोमीटर घट जाएगी।
वहीं गुरुग्राम से जयपुर 120 मिनट में पहुंचा जा सकेगा। इस एक्‍सप्रेस-वे पर 6 लेन, 2 फ्लाईओवर, 4 रेल आवेरब्रिज होंगे।   

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट