Home » Economy » InfrastructureIndia is buying 7.40 lakh rifles for counter threat of Pakistan

जि‍तनी है पाक सैनि‍कों की गि‍नती, उतनी रायफल खरीद रहा है भारत

घुसपैठ, सीमा पार से फायरिंग और आतंकी घटनाओं के मद्देनजर सरकार ने बहुत बड़ा फैसला लि‍या है।

1 of

नई दिल्ली। घुसपैठ, सीमा पार से फायरिंग और आतंकी घटनाओं के मद्देनजर सरकार ने बहुत बड़ा फैसला लि‍या है। डिफेंस मिनिस्ट्री ने हथियारों की खरीद के लिए 15,935 करोड़ के प्रपोजल को मंजूरी दे दी है। इस कैपिटल एक्विजिशन प्रपोजल के तहत सेना 7.40 लाख असॉल्ट और 5,719 स्नाइपर राइफल्स खरीदेगी। पाकि‍स्‍तान की आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के कुल एक्‍टि‍व सैनिकों की संख्‍या 6,17,000 है। अगर इस हि‍साब से देखें तो एक उनके एक सैनि‍क पर भारत 1.20 रायफल की खरीद कर रहा है। इसके अलावा सेना की ताकत बढ़ाने के लिए खरीद की जाएंगी। डिफेंस मिनिस्ट्री में सरकारी खरीद के सबसे बड़ी निर्णायक बॉडी डिफेंस एक्विजिशन काउंसिल (DAC) में लंबे समय से लटके इस प्रपोजल को मंजूरी दी गई।


इधर अमेरि‍का ने भी एक बड़ा खुलासा करके भारत की चिंता बढ़ा दी है। अमेरि‍का का दावा है कि‍ पाकि‍स्‍तान नए कि‍स्‍म के परमाणु हथि‍यार वि‍कसि‍त कर रहा है। आगे पढ़ें क्‍या है भारत की तैयारी 

किस हथियार के लिए कितना बजट?
असॉल्ट राइफल: 7.4 लाख असॉल्ट राइफल की खरीदी 12,280 करोड़ रुपए से होगी। इन्हें बाय एंड मेक (इंडिया) कैटेगिरी के तहत बनाया जाएगा। इसमें देश की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड और प्राइवेट सेक्टर्स को शामिल किया जाएगा।
 स्नाइपर राइफल: इंडियन आर्मी और इंडियन एयरफोर्स के लिए स्नाइपर राइफल्स की खरीद 982 करोड़ रुपए के बजट से होगी। स्नाइपर राइफल्स को बाय ग्लोबल कैटेगिरी में रखा गया है। पहले इन वेपंस के लिए एम्युनेशन की खरीद होगी और इसके बाद इन्हें भारत में भी मैन्युफैक्चर किया जाएगा। आगे पढ़ें और कौन से हथि‍यार ले रहा है भारत 

 

850 करोड़ का बजट 
एंटी-सबमरीन वारफेयर: नेवी की कैपेबिलिटी बढ़ाने के लिए एंटी-सबमरीन वारफेयर खरीदे जाएंगे। इसके अलावा एडवांस टारपीडो डिकॉय सिस्टम (ATDS) भी खरीदे जाएंगें। इसके लिए 850 करोड़ का बजट रखा गया है।
ट्रायल हुआ पूरा 
मारीच: डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन ने मारीच सिस्टम डेवलप किया है। इसका ट्रायल भी पूरा हो चुका है, इसे भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड ने 850 करोड़ की लागत से प्रोड्यूस किया है। आगे पढ़ें ये लाइट मशीनगन बढ़ाएगी हमारी ताकत 

मेक इन इंडि‍या मशीनगन 
लाइट मशीनगन: डिफेंस मिनिस्ट्री ने कहा कि लाइट मशीनगन फास्टट्रैक रूट के जरिए आएंगी। साथ ही भारत में भी इनका संतुलित संख्या में बाय एंड मेक (इंडिया) प्रोडक्शन किया जाएगा। 1,819 करोड़ रुपए से LMGs खरीदी जाएंगी।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट