Home » Economy » InfrastructureGovt to make policies to boost blue economy

विकास का नया दांवः नीली अर्थव्यवस्था को पंख लगाने की तैयारी

नितिन गडकरी सतत नीली अर्थव्‍यवस्‍था सम्‍मेलन में शामिल होने के लिए नैरोबी रवाना हुए।

1 of

नई दिल्ली. 

केन्‍द्रीय जहाजरानी, सड़क परिवहन तथा राजमार्ग, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि भारत के आर्थिक विकास के लिए नीली अर्थव्‍यवस्‍था काफी अधिक महत्‍वपूर्ण है। गडकरी सतत नीली अर्थव्‍यवस्‍था सम्‍मेलन में शामिल होने के लिए नैरोबी रवाना हुए। यह सम्‍मेलन केन्‍या द्वारा आयोजित किया जा रहा है और कनाडा तथा जापान सम्‍मेलन के सह-मेजबान हैं। गडकरी कल सम्‍मेलन को संबोधित करेंगे।

 

गडकरी ने कहा है कि हिन्‍द महासागर क्षेत्र में भारत रणनीतिक स्‍थान पर है और इसी आधार पर भारत सतत समावेशी और जन केन्द्रित रूप में हिन्‍द महासागर रिंग एसोसिएशन (आईओआरए) के ढांचे के माध्‍यम से नीली अर्थव्‍यवस्‍था के विकास को स्‍वीकृति देता है। उन्‍होंने कहा कि भारत अपने मेरीटाइम ढांचे के साथ-साथ अंतर्देशीय जलमार्गों तथा महत्‍वाकांक्षी सागरमाला कार्यक्रम के माध्‍यम से तटीय जहाजरानी को विकसित कर रहा है, जिससे मेरीटाइम लॉजिस्टिक्‍स क्रांतिकारी रूप ले लेगा और देश में बंदरगाह नेतृत्‍व विकास होगा। उन्‍होंने कहा कि इस क्षेत्र के बारे में भारत का राष्‍ट्रीय दृष्टिकोण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए मंत्र ‘सागर’ अर्थात क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास में स्‍पष्‍ट होता है।

 

आगे पढ़ें- 2020 तक लाख करोड़ निवेश

 

 

 

2020 तक लाख करोड़ निवेश

 

भारत के महत्‍वाकांक्षी सागरमाला कार्यक्रम के अंतर्गत 600 से अधिक परियोजनाएं चिन्हित की गई हैं और इनमें 2020 तक लगभग लाख करोड़ रुपये (120 बिलियन डॉलरके निवेश का प्रावधान है। इससे देश लॉजिस्टिक लागतों में देश प्रति वर्ष बिलियन डॉलर की बचत करेगा और 10 मिलियन नये रोजगार के अवसर पैदा होंगे। बंदरगाह की क्षमता प्रति वर्ष 800 मिलियन मीट्रिक टन (एमएमटीपीएसे बढ़कर 3500 एमएमटीपीए हो जाएगी। गडकरी ने कहा कि प्रति स्‍थान 150 मिलियन डॉलर के प्रस्‍तावित निवेश के साथ सागरमाला के अंतर्गत तटीय आर्थिक क्षेत्र विकसित किए जा रहे हैं। तटीय आर्थिक क्षेत्र नीली अर्थव्‍यवस्‍था के केन्‍द्र होंगे।

 

आगे पढ़ें- क्या है नीली अर्थव्यवस्था

 

 

 

क्या है नीली अर्थव्यवस्था

धरती के 72 फीसदी भाग पर समुद्र है। दुनिया का 80 फीसदी व्यापार समुद्री रास्तों से होता है। ऐसे में समुद्र अर्थव्यवस्था को बढ़ाने में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर काफी योगदान देते हैं। वर्ल्ड बैंक के मुताबिक नीली अर्थव्यवस्था वह आर्थिक गतिविधि है जिसमें लोगों की जिंदगी संवारनेनौकरी मुहैया करानेआर्थिक वृद्धि सुनिश्चित करने के लिए समुद्री संसाधनों का इस तरह उपयोग किया जाता है जिससे समुद्री इकोसिस्टम को कोई नुकसान न पहुंचे। इसके तहत कई तरह की गतिविधियां आती हैं जैसे मछलीपालनपर्यटनमैरीटाइम ट्रांसपोर्टवेस्ट मैनेजमेंटरिनुएबल एनर्जी का उत्पादन शामिल है। इसमें ऐसे आर्थिक फायदे भी शामिल हैं जिनको प्रत्यक्ष तौर पर नहीं गिना जा सकता है। जैसे कि कार्बन जमा करनातटों की रक्षा और जैवविविधता का बचाव।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट