विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureDirect rail line from Delhi to Mata Chintpurni Shaktipeeth dedicated to nation

देवी भक्तों के लिए खुशखबरी, आज से शुरू हो गई दिल्ली से चिंतपूर्णी शक्तिपीठ के लिए डायरेक्ट रेल सेवा

इस रेल लाइन की आधारशिला 1974 में रखी गई थी

1 of

नई दिल्ली.

हिमाचल प्रदेश के उना जिले में स्थित चिंतपूर्णी शक्तिपीठ तक अब सीधे रेल लाइन से पहुंचा जा सकता है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी कि दिल्ली से माता चिंतपूर्णी शक्तिपीठ तक डायरेक्ट रेल सेवा देश को समर्पित कर दी गई है। कुछ दिन पहले ही केन्द्रीय रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने अंब से दौलतपुर चौक तक 16 किलोमीटर लंबी इस ब्राॅड गेज लाइन का उद्घाटन किया था। बता दें कि यह शक्तिपीठ 51 शक्तिपीठों में से एक है। यहां देवी सती के चरण गिरे थे।

 

335 करोड़ रुपए है लागत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस रेल लाइन पर 16 बड़े और पुल और दो स्टेशन हैं और इसे बनाने में कुल 335 करोड़ रुपए की लागत आई है। इस रेल लाइन पर कुनेरन गांव में पड़ने वाले एक स्टेशन का नाम चिंतपूर्णी मार्ग रखा गया है क्योंकि यह चिंतपूर्णी मंदिर के सबसे करीब है, जहां पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, दिल्ली और उत्तर प्रदेश के ज्यादातर तीर्थयात्री आते हैं। यह मंदिर रेलवे स्टेशन से 25 किलोमीटर दूर स्थित है, जहां सड़क मार्ग से पहुंचा जा सकता है। बता दें कि इस रेल लाइन की आधारशिला 1974 में तत्कालीन रेल मंत्री ललित नारायण मिश्रा ने अंब में रखी थी।

 

 

पौराणिक मान्यता 

श्री मार्कंडेय पुराण के अनुसार जब मां चंडी ने राक्षसों का संहार करके विजय प्राप्त की तो माता की सहायक योगिनियां अजया और विजया की रुधिर पिपासा को शांत करने के लिए माता ने अपना मस्तक काटकर, अपने रक्त से उनकी प्यास बुझाई, इसलिए माता का नाम छिन्नमस्तिका देवी पड़ गया।

 

 

साईं भक्तों को भी दिया रेलवे ने तोहफा

हाल ही में IRCTC ने साईं भक्तों को भी उपहार दिया। अब साईं दर्शन को लाने वाले भक्त आईआरसीटीसी की साइट से ट्रेन के टिकट के साथ दर्शन टिकट भी बुक करा सकेंगे। हालांकि यह सुविधा सिर्फ उन्हीं लोगों को मिलेगी जिनके पास शिरडी जाने की कंफर्म्ड टिकट है।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss