बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Infrastructureरेलवे के 25% क्रू मेंबर्स की भर्ती में नि‍यमों की अनदेखी, ऑफि‍शि‍यल डाटा में खुलासा

रेलवे के 25% क्रू मेंबर्स की भर्ती में नि‍यमों की अनदेखी, ऑफि‍शि‍यल डाटा में खुलासा

रेलवे के 25 फीसदी क्रू मेंबर्स की भर्ती नि‍यमों के तहत नहीं हुई है। इस बात का खुलासा ऑफि‍शि‍यल डाटा में हुआ।

1 of

नई दि‍ल्‍ली. रेलवे के 25 फीसदी क्रू मेंबर्स की भर्ती नि‍यमों के तहत नहीं हुई है। इस बात का खुलासा ऑफि‍शि‍यल डाटा में हुआ। ऐसे में कहा जा रहा है कि‍ सभी जोन को अपने चालक दल का चुनाव रेलवे के क्रू मैनेजमेंट सिस्टम (सीएमएस) से करना होगा। इसमें 89,000 कर्मचारी सदस्यों का डाटाबेस है। इसके साथ ही उनकी स्थिति और उपलब्धता के बारे में जानकारी भी यहां से मि‍लती है। चाहे पैसेंजर ट्रेन हो या मालगाड़ी।

 

बोर्ड ने कहा अभी संताेषजनक है स्‍थि‍ति‍ 

 

रेलवे बोर्ड ने एक निर्देश में कहा है कि औसतन 75 प्रतिशत चालक दल को जोन द्वारा नियमों के अनुसार चुना जाता है। ऐसे में यह संतोषजनक स्‍थि‍ति‍ है। वहीं, एक लेटर में बोर्ड ने चिंता व्यक्त की है कि ट्रेन चालकों, सहायक चालकों, गार्ड  जो कि‍ एक ट्रेन को चलाने के लि‍ए एक बेसि‍क फंक्‍शन टीम है और उसके प्रति‍ जिम्मेदार हैं। इनका चुनाव अनिवार्य नियमों के अनुसार ज़ोन की ओर से नहीं किया जाता है। ऐसे में इस ओर ध्‍यान देने की जरूरत है। 

 

सीएमएस सिस्टम क्रू चुनने के देता है दो वि‍कल्‍‍‍प 

 

1. 'फेच क्रू' ऑप्‍शन :  सीएमएस सिस्टम चालक दल के सदस्यों को चुनने के दो विकल्प प्रदान करता है। इसके मुताबि‍क नि‍यमों के अनुसार 'फेच क्रू' यानी चालक दल को चुन सकते हैं। वहीं, दूसरा ऑप्‍शन 'फेच ऑल' यानी सभी को चुनने का होता है। ऐसे में जोन ऐसे क्रू को बुक करना चाहते हैं जि‍नकी नि‍यमि‍त चि‍कि‍त्‍सा परीक्षा (पीएमई) और ट्रांसपोर्ट रि‍फ्रेशर एग्‍जाम ड्यू न हो। इसके साथ ये लोको में काम करने के लि‍ए भी फि‍ट हों। 

 

2. 'फेच ऑल' ऑप्‍शन : 'फेच ऑल' विकल्प में चालक दल को सिर्फ दो मापदंडों को पूरा करने की जरूरत होती है। इसके तहत उनकी नि‍यमि‍त चि‍कि‍त्‍सा परीक्षा (पीएमई) और ट्रांसपोर्ट रि‍फ्रेशर एग्‍जाम ड्यू नहीं होना चाहि‍ए।क्‍योंकि‍ रेलवे का मानना है कि‍ कि‍सी भी चालक दल का सदस्य जो रेलवे के संचालन का हिस्सा हैं। वह मालगाड़ी हो या पैसेंजर गाड़ी उसकी फि‍टनेस बेस्‍ट होनी चाहि‍ए। 

 

सीएमएस के नियमों से ही चुनें चालक दल 

 

बोर्ड की ओर से नवंबर में भेजे गए लेटर में कहा गया है कि‍ 1 जनवरी 2016 से 30 जून 2016 के बीच सीएमएस की एक रिपोर्ट से पता चला है कि दक्षिण पूर्वी रेलवे ने नियम के मुताबिक सिर्फ 4.49 प्रतिशत चालक दल को चुना है। वहीं, पूर्वी रेलवे में 5.25 फीसदी और दक्षिण रेलवे में यह आंकड़ा 7.45 फीसदी था। ऐसे में बोर्ड चाहता है कि क्षेत्रीय रेलवे सीएमएस के नियमों के अनुसार चालक दल को चुनें। 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट