विज्ञापन
Home » Economy » InfrastructureCIL board approves second interim dividend of Rs 5.85 per share

CIL अपने शेयरधारकों को देगा 5.85 रुपए प्रति शेयर का लाभांश, कोयले के उत्पादन में भी बढ़ोतरी

कोल इंडिया का कोयला उत्पादन लक्ष्य 61 करोड़ टन का था

CIL board approves second interim dividend of Rs 5.85 per share

CIL board approves second interim dividend of Rs 5.85 per share कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए अपने शेयरधारकों को दूसरे अंतरिम लाभांश के तौर पर 5.85 रुपए प्रति शेयर देने का फैसला किया है। कोल इंडिया के बोर्ड ने यह फैसला किया है। इसकी जानकारी कोल इंडिया (CIL)ने बीएसई को दी है। देश में होने वाले कुल कोयला उत्पादन में कोल इंडिया की हिस्सेदारी 80 फीसदी है।

नई दिल्ली। कोल इंडिया लिमिटेड (CIL) ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए अपने शेयरधारकों को दूसरे अंतरिम लाभांश के तौर पर 5.85 रुपए प्रति शेयर देने का फैसला किया है। कोल इंडिया के बोर्ड ने यह फैसला किया है। इसकी जानकारी कोल इंडिया (CIL)ने बीएसई को दी है। देश में होने वाले कुल कोयला उत्पादन में कोल इंडिया की हिस्सेदारी 80 फीसदी है।


कोयले के उत्पादन में 8 फीसदी की बढ़ोतरी

अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान कोयले का उत्पादन 638.46 मिलियन टन (एमटी) रहा, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में 591.42 एमटी कोयले का उत्‍पादन हुआ था। इस प्रकार वर्ष दर आधार पर 8.0% की वृद्धि दर्ज हुई। कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) का वर्ष 2018-19 के लिए कोयला उत्पादन लक्ष्य 610.00 एमटी निर्धारित किया गया था। अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान कोयले का उत्पादन 527.70 एमटी रहा,  जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान यह उत्‍पादन 495.08 एमटी रहा था। इस प्रकार वर्ष दर वर्ष आधार पर वृद्धि दर 6.6% रही। सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड (एससीसीएल) का वर्ष 2018-19 के लिए कोयले का उत्पादन लक्ष्य 65.00 एमटी निर्धारित किया गया था। अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान कोयले का उत्पादन 57.94 एमटी रहा, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान यह उत्‍पादन 54.64 एमटी रहा था। इस प्रकार वर्ष दर वर्ष आधार पर 6.0% की वृद्धि दर दर्ज हुई।

अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान कोयले का उत्पादन 44.41 एमटी रहा


आबद्ध खानों का कोयला उत्पादन लक्ष्य वर्ष 2018-19 के लिए 40.00 एमटी निर्धारित किया गया था। अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान कोयले का उत्पादन 44.41 एमटी रहा,  जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 33.76 एमटी कोयल का उत्‍पादन हुआ था।  इस प्रकार वर्ष दर वर्ष आधार पर 31.6% की वृद्धि दर दर्ज हुई।  इस प्रकार आबद्ध खानों ने फरवरी 2019 तक अपने कोयले का उत्पादन लक्ष्य (40.00 एमटी) पहले ही अर्जित कर लिया है। 2018-19 के लिए अन्य खानों का कोयला उत्पादन लक्ष्य 15.00 एमटी निर्धारित किया गया था। अप्रैल-फरवरी 2018-19 के दौरान इन खानों का कोयला उत्पादन 8.40 एमटी था, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 7.94 एमटी कोयले का उत्‍पादन हुआ था। इस प्रकार वर्ष दर वर्ष आधार पर 5.8% की वृद्धि दर प्राप्‍त हुई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन