विज्ञापन
Home » Economy » Infrastructurealt for Rs 150 per kg for retired soldiers in Vijaynagar

भारत के इस गांव में 200 रुपए किलो मिलता है नमक, वजह है बेहद चौंकाने वाली

एक कॉल करने के देने पड़ते हैं  5 रुपए प्रति मिनट

alt for Rs 150 per kg for retired soldiers in Vijaynagar

alt for Rs 150 per kg for retired soldiers in Vijaynagar भारत में दिन प्रतिदिन सामानों की कीमतें आसमान छूती जा रही है।  ऐसे में भारत के कुछ राज्य ऐसे भी है जहैं आम जरूरत के सामान भी काफी महंगे मिल रहे हैं। आज हम आपको भारत के एक ऐसे राज्य के बारे में बताने जा रहे हैं जहां नमक और चीनी की कीमतें इतनी ऊंची है कि लोगों को इन्हें खरीदने के लिए दो बार सोचना पड़ता है। भारत के अरूणाचल प्रदेश के विजयनगर में चीनी 200 रुपए प्रति किलो है जबकि यहां एक किलो नमक की कीमत 150 रुपए है। सामान की बड़ी हुई कीमतों के कारण यहां के लोग काफी परेशान है।

नई दिल्ली। भारत में दिन प्रतिदिन सामानों की कीमतें आसमान छूती जा रही है।  ऐसे में भारत के कुछ राज्य ऐसे भी है जहैं आम जरूरत के सामान भी काफी महंगे मिल रहे हैं। आज हम आपको भारत के एक ऐसे राज्य के बारे में बताने जा रहे हैं जहां नमक और चीनी की कीमतें इतनी ऊंची है कि लोगों को इन्हें खरीदने के लिए दो बार सोचना पड़ता है। भारत के अरूणाचल प्रदेश के विजयनगर में चीनी 200 रुपए प्रति किलो है जबकि यहां एक किलो नमक की कीमत 150 रुपए है। सामान की बड़ी हुई कीमतों के कारण यहां के लोग काफी परेशान है।

 

एक कॉल करने के देने पड़ते हैं  5 रुपए प्रति मिनट


यहां के परिवारों में महिलाओं के पास सीमित संसाधन होते हैं इसके अलावा मउनके पास कोई विकल्प नहीं है। यहां केवल नमक और चीनी के ही दाम ऊंचे नहीं है बल्कि यहां लोगों को हर सामान के ऊंचे दाम देने पड़ते हैं। यहां लोगों को पीसीओ से एक कॉल करने के 5 रुपए प्रति मिनट देने पड़ते हैं। यहां रहने वाले लोगों की प्रतिदिन की आय 200 रुपए है जिसमें से उन्हें 150 रुपए का सामान खरीदना पड़ता है। यहां हाल इतने बुरे हैं कि लोगों को अस्पताल जाने के लिए 200 किमी का सफर तय करना पड़ता है। 

 

असम राइफल्स ने की थी विजयनगर की खोज


आपको बता दें कि विजयनगर की खोज सबसे पहले असम राइफल्स अर्धसैनिक बलों द्वारा 1961 में श्रीजीत द्वितीय नाम की एक अभियान के दौरान की गई थी। विजयनगर के एक स्थानीय व्यक्ति ने बताया कि यहां के लोग अशिक्षित है। क्योंकि यहां पर कोई अच्छा स्कूल नहीं है। इसी को देकते हुए गांव में एक स्कूल तैयार किया गया है। जहां बच्चों को पढ़ाई के साथ सामाजिक सेवा के बारे में पढ़ाया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन