विज्ञापन
Home » Economy » Infrastructurekeep ac tempreture at 24, will save 20 billion unit power

एसी का टेंपरेचर 24 डिग्री पर रखेंगे तो बचेगी 20 अरब यूनिट बिजली

एसी को अगर 24 डिग्री सेल्सियस टेंपरेचर पर सेट करके चलाएंगे तो 20 अरब यूनिट बिजली की बचेगी, 1.6 करोड़ टन कम कार्बन निकलें

keep ac tempreture at 24, will save 20 billion unit power
एसी को अगर 24 डिग्री सेल्सियस टेंपरेचर पर सेट करके चलाएंगे तो सालाना 20 अरब यूनिट बिजली की बचत होगी। वहीं, एसी चलने की वजह से होने वाले कार्बन उत्सर्जन में 1.6 करोड़ टन की कमी आएगी। इससे हमारा पर्यावरण साफ होगा। बीईई ने अपने प्रेजेंटेशन में बिजली मंत्रालय को बताया कि पिछले साल भारत में 1150 अऱब यूनिट बिजली की खपत की गई। इनमें से 33 फीसदी बिजली की खपत बिल्डिंग सेक्टर

मनी भास्कर, नई दिल्ली

 

हम सब एसी को अगर 24 डिग्री सेल्सियस टेंपरेचर (tempreture) पर सेट करके चलाएंगे तो सालाना 20 अरब यूनिट बिजली की बचत होगी। वहीं, एसी चलने की वजह से होने वाले कार्बन उत्सर्जन में 1.6 करोड़ टन की कमी आएगी। इससे हमारा पर्यावरण साफ होगा। हाल ही में बिजली मंत्रालय को ब्यूरो ऑफ एनर्जी इफिसिएंशी (bee) की तरफ से दिए गए प्रेजेंटेशन में यह खुलासा किया गया है। हालांकि सरकार की तरफ से एसी को 24 डिग्री टेंपरेचर पर चलाने के नियम को अनिवार्य नहीं किया जा रहा है, लेकिन सरकार चाहती है कि इस बारे में लोग जागरूक हो। सरकार एक जागरूकता अभियान भी चलाने जा रही है।

 

बिजली की 33 फीसदी खपत बिल्डिंग सेक्टर में

 

बीईई ने अपने प्रेजेंटेशन में बिजली मंत्रालय को बताया कि पिछले साल भारत में 1150 अऱब यूनिट बिजली की खपत की गई। इनमें से 33 फीसदी बिजली की खपत बिल्डिंग सेक्टर में हुई। बिल्डिंग सेक्टर में कम बिजली कंज्यूम करने वाले उपकरणों को प्रोत्साहित करने के लिए बीईई की तरफ से एनर्जी कंजरवेशन बिल्डिंग कोड (ईसीबीसी) प्रोग्राम वर्ष 2007 में आरंभ किया गया था। लेकिन अब तक सिर्फ 12 राज्यों ने इस प्रोग्राम को अपनाया है।

 

आवासीय बिल्डिंग के लिए अलग से कोड 

 

बीईई जल्द ही आवासीय बिल्डिंग के लिए अलग से कोड लाने जा रहा है। एक सर्वे में पाया गया कि शहरों में बिजली की सबसे अधिक खपत रात 10 बजे से 1 बजे के बीच होती है। बिजली मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि पेरिस एग्रीमेंट के तहत भारत को अपने कार्बन उत्सर्जन में वर्ष 2030 तक 2005 के स्तर के मुकाबले 35 फीसदी तक की कटौती करना होगा। बीईई के मुताबिक कई नए बिजली उपकरणों को भी स्टार रेटिंग में लाने की कोशिश की जा रही है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन