विज्ञापन
Home » Economy » Infrastructure4 Chinook Multi-Mission Helicopters Inducted In Indian Air Force

8,048 करोड़ के Chinook हेलीकॉप्टर से नेस्तानाबूद हो जाएंगे पाकिस्तान के आतंकी ठिकाने

रात के अंधेरे से लेकर घने कोहरे में एक्शन लेने में सक्षम

1 of

नई दिल्ली.

पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राइक करके आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने वाली भारतीय वायु सेना की ताकत में इजाफा हो गया है। सोमवार को वायु सेना में चार एडवांस्ड मल्टी मिशन हेलीकॉप्टर Chinook को शामिल किया। इन्हें अमेरिकी कंपनी बोइंग ने तैयार किया है। भारत ने ऐसे 15 हेलीकॉप्टर लेने के लिए बोइंग के साथ तकरीबन 1.5 अरब डॉलर (8,048 कराेड़ रुपए) की डील की है। यह हेलीकाॅप्टर वायु सेना के लिए गेम-चेंजर साबित होंगे। इनके जरिए पाकिस्तान की सीमा से लगने वाली ऊंची लोकेशंस में ट्रून और मशीनरी भेजी जा सकेगी।

 

21 टन भार सहने की क्षमता

चिनूक में अधिकतम 11 टन पेलोड और 45 सैनिकों का भार वहन करने के क्षमता है। इसके अतिरिक्त यह 10 टन का अंडरस्लंग लोड भी कैरी कर सकता है। यह भारतीय सेना के M-777 अल्ट्रा लाइट होवित्जर्स को लिफ्ट करने में मदद करेगा।

 

रात में भी कर सकेगा कार्रवाई

एजेंसी की खबरों के मुताबिक इस हेलीकॉप्टर की सबसे खास बात यह है कि यह न सिर्फ दिन में बल्कि रात में भी सैन्य कार्रवाई कर सकता है। घने कोहरे और धुंध में भी यह एक्शन लेने में सक्षम है। यह बेहद कुशलता से मुश्किल से मुश्किल जमीन पर भी ऑपरेट कर सकता है। इसे हर मौसम में हर दिन-हर मिनट ऑपरेट किया जा सकता है।

सेना और उपकरण पहुंचाने के आएगा काम

यह एक मल्टी-मिशन हैवी-लेफ्ट ट्रांसपोर्ट हेलीकॉप्टर है, जिसके जरिए युद्धक्षेत्र में सेना, असला-बारूद, आर्टिलरी, बैरियर मैटीरियल, सप्लाई और अन्य उपकरणों को भेजा जा सकेगा। यह पूरी तरह साजो-सामान से लैस इंफैट्री सैनिकों को खास अभियानों के लिए लाने-ले जाने में सक्षम है। इसमें पूरी तरह इंटीग्रेटिड डिजिटल कॉकपिट मैनजमेंट सिस्टम है।

 

 

आपादा के समय मदद पहुंचाने में भी है सक्षम

न सिर्फ सैन्य अभियान, बल्कि इसे आपदा के समय राहत पहुंचाने, लोगों को बचाने, हताहतों को ढूंढने और उन्हें सुरक्षित स्थान तक लाने, आग से लड़ने और नागरिक विकास के कार्याें में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा।

2020 तक आएंगे सभी 15 चिनूक हेलीकॉप्टर

सोमवार को चंडीगढ़ स्थित वायु सेना की 126 Helicopter Unit में 4 chinook को शामिल किया गया। अगले साल मार्च तक सभी 15 चिनूक भारतीय वायु सेना में शामिल हाे जाएंगे। चिनूक की अगली खेप असम के दिंजन में लाई जाएगी, जिससे देश के पूर्वी बॉर्डर की सुरक्षा को पुख्ता किया जा सके।

​​​​​​​

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन