Home » Economy » GSTYou can complain to national anti profiteering authority for fraud in GST

GST में हो जाए फ्रॉड तो यहां करें शिकायत, ब्याज के साथ मिलेगा हर्जाना

GST के तहत नेशनल एंटी प्रोफिटियरिंग अथॉरिटी (NAA) का गठन हो चुका है। सरकार ने गुरुवार को ही इस अथॉरिटी को मंजूरी दी है।

1 of

नई दिल्‍ली. अगर GST के नाम पर आपसे ज्‍यादा पैसा वसूला जा रहा है तो सरकार ने ऐसा करने वालों पर नकेल करने का भी बंदोबस्‍त कर दिया है। GST के तहत नेशनल एंटी प्रोफिटियरिंग अथॉरिटी (NAA) का गठन हो चुका है।

 

सरकार ने गुरुवार को ही इस अथॉरिटी को मंजूरी दी है। बता दें कि हाल ही में सरकार ने कई प्रॉडक्‍ट्स पर जीएसटी की दरें घटाई हैं। ऐसे में कारोबारियों को निर्देश दिए गए हैं कि उसका फायदा ग्राहकों तक पहुंचाया जाए। लेकिन इसके बावजूद अगर कोई आपसे ज्‍यादा जीएसटी वसूलता है तो अब उस पर कार्रवाई की जाएगी।

 

इसके लिए कस्‍टमर NAA में शिकायत कर सकता है। कारोबारी के दोषी पाए जाने पर ग्राहक को ब्‍याज समेत पैसा वापस मिलेगा। 

 

 

आगे पढ़ें- कैसे कर पाएंगे शिकायत 

कैसे करेंगे शिकायत?


- अगर किसी कस्टमर को लगता है कि उससे किसी सामान या सर्विस के लिए GST के तहत ज्‍यादा पैसे लिए गए हैं तो वह इसकी शिकायत NAA की स्‍क्रीनिंग कमेटी के सामने कर सकता है। 
- लेकिन शिकायत उसी राज्‍य में करनी होगी, जहां से जुड़ा यह मामला होगा।
- अगर मामला ऐसा है, जिससे कई राज्‍य के लोगों पर असर हो सकता है तो शिकायत सीधे स्‍टैंडिंग कमेटी के सामने रखी जा सकती है।

 

आगे पढ़ें- कैसे होगी कार्रवाई

डीजी सेफगार्ड के पास जाएगा मामला


- अगर शुरुआती जांच में शिकायत सही पाई गई तो आगे की जांच के लिए उसे डायरेक्‍टर जनरल (डीजी) सेफगार्ड के पास भेजा जाएगा। 
- जांच के बाद डीजी अपनी रिपोर्ट NAA के पास भेजेंगे। इसके बाद NAA इस पर कार्रवाई करेगा।

 

आगे पढ़ें- कौन-कौन होगा अथॉरिटी का मेंबर

अथॉरिटी में होंगे 5 मेंबर


- NAA में 5 मेंबर होंगे। इसके प्रेसिडेंट कैबिनेट सेक्रेटरी पीके सिन्‍हा होंगे। 
- इसके मेंबर्स में रेवेन्‍यु सेक्रेटरी हसमुख अढिया, सीबीएसई चेयरमैन वनजा सरना और दो राज्‍यों के चीफ सेक्रेटरी होंगे।
- यह अथॉरिटी सिर्फ दो साल के लिए ही बनाई गई है। प्रेसिडेंट की पोस्ट संभालने के दो साल के बाद यह अपने आप खत्‍म मान ली जाएगी। ​

 

आगे पढ़ें- ब्‍याज समेत वापस मिलेगा पूरा पैसा

वापस कराया जाएगा ज्‍यादा वसूला पैसा


- कारोबारी ने कस्टमर से जीएसटी के नाम पर अगर ज्यादा पैसा लिया है तो डीजी की जांच रिपोर्ट के बाद NAA कारोबारी से ब्याज समेत पैसा वापस करवाएगा।
- अगर कारोबारी ने पैसा लौटाया, लेकिन किसी वजह से यह कस्टमर तक नहीं पहुंच पाया तो इसे कंज्‍यूमर वेलफेयर फंड में डाल दिया जाएगा।

 

आगे पढ़ें- कारोबारी का रजिस्‍ट्रेशन भी हो सकता है कैंसिल 

GST रजिस्‍ट्रेशन भी हो सकता है कैंसिल


- NAA को अगर लगता है कि दोषी कार्रवाई पर ज्‍यादा सख्‍त कार्रवाई की जरूरत है तो वह संबंधित कारोबारी का GST रजिस्‍ट्रेशन भी कैंसल कर सकता है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट