Home » Economy » GSTGovt has no control over the rates of small restaurants: Hasmukh Adhia

छोटे रेस्टोरेंट्स के रेट पर सरकार का नहीं है कंट्रोल: रेवेन्यू सेक्रेट्री

छोटे रेस्टोरेंट के रेट बढ़ानते पर सरकार का कोई कंट्रोल नहीं है। फाइनेंस सेक्रेट्री हंसमुख अढिया ने यह बात कही है।

1 of

नई दिल्‍ली. छोटे रेस्टोरेंट अगर रेट बढ़ाते हैं तो इस पर सरकार का कोई कंट्रोल नहीं है। फाइनेंस सेक्रेट्री हंसमुख अढिया ने यह बात रविवार को कही है। सरकार ने हाल ही में रेस्टोरेंट पर जीएसटी के तहत टैक्स रेट 18 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी कर दिया था। लेकिन, कस्टमर्स को रेट कट का फायदा नहीं मिल रहा है। कई रेस्टोरेंट्स ने इसका फायदा कस्टमर्स को पास ऑन नहीं किया है।

 

 
अढिया का कहना है कि अगरे छोटे रेस्टोरेंट ज्यादा बिल के लिए खाने-पीने की चीजों के दाम बढ़ाते हैं और 5 फीसदी टैक्स होने का फायदा कस्टमर्स को नहीं देते हैं तो वे अपना नुकसान करेंगे। उनके कस्टमर्स कम होते जाएंगे। असल में ऐसी कई शिकायतें आई हैं कि तमाम रेस्टोरेंट्स ने रेट बढ़ा दिए हैं, जिससे जीएसटी कम होने के बाद भी कस्टमर्स को पहले की तरह ही या ज्यादा भुगतान करना पड़ रहा है।

 

होगा एंटी प्रॉफिटियरिंग एक्शन 
फाइनेंस सेक्रेट्री का कहना है कि रेट को लेकर सरकार बड़े रेस्टोरेंट्स मालिकों से बात करेगी। उन्होंने कहा कि अगर बड़े रेस्टोरेंट्स भी मिलकर एक साथ रेट बढ़ाते हैं तो नए रेट का इनपुट टैक्स क्रेडिट से मिलान किया जाएगा। अगर दोनों में मिसमैच दिखता है तो एंटी प्रॉफिटियरिंग के तहत उन पर एक्शन किया जाएगा। 

 

NAA को मिल चुकी है मंजूरी 
अढिया ने कहा कि नेशनल एंटी प्रॉफिटियरिंग अथॉरिटी के गठन को लेकर अगले हफ्ते सरकार के निर्णय की घोषणा कर दी जाएगी। असल में GST के तहत नेशनल एंटी प्रोफिटियरिंग अथॉरिटी को मंजूरी मिल चुकी है। अगर कोई भी जीएसटी से हटकर ज्यादा रेट वसूलता है तो उसकी शिकायत अथॉरिटी को की जा सकती है, जिसके बाद एक्शन होगा। कारोबारी के दोषी पाए जाने पर ग्राहक को ब्‍याज समेत पैसा वापस मिलेगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट