बिज़नेस न्यूज़ » Economy » GSTअगस्त-सितंबर के GSTR-3B रिटर्न में संशोधन कर सकेंगे कारोबारी, 20 नवंबर से मिलेगी सुविधा

अगस्त-सितंबर के GSTR-3B रिटर्न में संशोधन कर सकेंगे कारोबारी, 20 नवंबर से मिलेगी सुविधा

बिहार के डिप्टी चीफ मिनिस्टर सुशील मोदी ने कहा कि जीएसटी नेटवर्क 20 नवंबर से कारोबारियों के लिए नई फैसिलिटी लॉन्च करेगा।

1 of

 

बेंगलुरू. बिहार के डिप्टी चीफ मिनिस्टर सुशील मोदी ने कहा कि जीएसटी नेटवर्क 20 नवंबर से कारोबारियों के लिए नई फैसिलिटी लॉन्च करेगा, जिससे वे अपने अगस्त और सितंबर के जीएसटीआर-3बी रिटर्न में बदलाव कर सकेंगे। इसके साथ ही जीएसटीएन फाइलिंग के प्रोसेस को सरल बनाने के लिए इन्फोसिस के साथ मिलकर काम करेगा।

 

 

जीओएम ने नीलेकणी से की मुलाकात

जीएसटीएन की खामियों पर गौर करने के लिए सुशील मोदी की अगुआई में बनाए गए ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स (जीओएम) ने शनिवार को इन्फोसिस चेयरमैन नंदन नीलेकणी से भी मुलाकात की। जीओएम की चौथी मीटिंग के बाद मोदी ने कहा कि नीलेकणी ने जीएसटीएन के सुगमता से काम करने का भरोसा दिलाया।

 

 

जीएसटीएन पर काम कर रहे 621 इंजीनियर

उन्होंने कहा कि इन्फोसिस ने पिछले महीने ही इस प्रोजेक्ट से 100 इंजीनियर जोड़े हैं। अब जीएसटीएन पर इन्फोसिस के 621 आईटी इंजीनियर काम कर रहे हैं। इसके अलावा आईटी कंपनी ने स्टेट कमिश्नर्स और जीएसटीएन के साथ कोऑर्डिनेट करने के लिए भी 30 रेजिडेंट इंजीनियरों को लगाया है।

जीओएम को टैक्सपेयर्स के अनुकूल यूटिलिटीज विकसित करने के लिए नए इनडायरेक्ट टैक्स रेजीम के लिए बनी आईटी बैकबोन हैंडलिंग कंपनी जीएसटीएन का काम सौंपा गया है।

 

 

कारोबारियों को मिलेंगे ये ऑप्शन

मोदी ने कहा कि हर यूटिलिटी के पास प्रीव्यू, एडिट, वैलिडेशन, पॉप-अप्स, खास एरर मैसेज और प्रिंट करने का ऑप्शन होना चाहिए, जिसे इन्फोसिस के साथ मिलकर जीएसटीएन विकसित करेगा। गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) रेजीम में कारोबारी शुरुआती सेल्स रिटर्न जीएसटीआर-3बी के रूप में फाइल करते हैं।

 

 

20 नवंबर से मिलेगी जीएसटीआर-3बी रिटर्न में संशोधन की सुविधा

टैक्सपेयर्स को जुलाई में जीएसटीआर-3बी रिटर्न फॉर्म में बदलाव की अनुमति दी गई थी, लेकिन बाद के महीनों में यह सुविधा नहीं दी गई। यह सुविधा नहीं मिलने के कारण लगभग 2 लाख रिटर्न फाइलर्स अटक गए थे।

मोदी ने कहा कि इसीलिए जीएसटीएन द्वारा 20 नवंबर तक अगस्त और सितंबर के जीएसटीआर-3बी रिटर्न में एडिटिंग यानी बदलाव की सुविधा लॉन्च करने का फैसला लिया गया।

 

 

रेट्स से जुड़े 80 फीसदी इश्यू दूर हुए

उन्होंने कहा कि गुवाहाटी में हुई जीएसटी काउंसिल की पिछली मीटिंग में रेट्स से संबंधित 80 फीसदी इश्यू दूर कर लिए गए।

मोदी ने कहा कि अब प्रॉसेस और प्रोसीजर्स के सरलीकरण पर काम करना है, जो इन्फोसिस के साथ मिलकर किया जाएगा।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट