बिज़नेस न्यूज़ » Economy » GSTमन की बात: PM ने राज्यों को दिया GST की सफलता का क्रेडिट, कहा- बिचौलिए की भूमिका खत्म हुई

मन की बात: PM ने राज्यों को दिया GST की सफलता का क्रेडिट, कहा- बिचौलिए की भूमिका खत्म हुई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एकबार फि‍र 'मन की बात' कार्यक्रम के तहत देशवासि‍यों से अपने वि‍चार साझा कि‍ए।

PM credits GST success to states in Mann ki baat
नई दि‍ल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को मन की बात में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) की सफलता का क्रेडिट राज्यों को दिया। उन्होंने कहा कि जीएसटी से देश में बिचौलिए की भूमिका खत्म हुई है, ईमानदार लोगों में जीएसटी को लेकर उत्साह का माहौल है। जीएसटी के एक साल पूरे होने पर उन्होंने कहा कि वन नेशन वन टैक्स एक सपना था, जीएसटी से वह सच हो गया। पीएम मोदी की मन की बात का ये 45वां एडिशन था। 
 
 
योग ने दुनि‍या को जोड़ा 
 
मन की बात में पीएम मोदी ने हाल ही में मनाए गए योग दिवस की भी बात की। उन्‍होंने कहा कि‍ योग दि‍वस पर पूरी दुनि‍या एकजुट नजर आई। विश्वभर में योग दिवस को उत्साह के साथ मनाया गया। सऊदी अरब में पहली बार ऐतिहासिक कार्यक्रम हुआ। लद्दाख की ऊंची चोटियों पर भारत और चीन के सैनिकों ने एकसाथ मिलकर योगाभ्यास किया। 
 
खेेेल भावना पर भी हुई बात  
 
पीएम मोदी ने मन की बात में इस बार खेल भावना पर भी बात की। उन्‍होंने कहा, 'बेंगलुरु में हुआ भारत-अफगानिस्तान टेस्ट मैच मुझे इसलिए याद रहेगा, क्योंकि भारतीय टीम ने ट्रॉफी लेते समय अफगानिस्तान की टीम को आमंत्रित किया और दोनों टीमों ने साथ में फोटो लिए। 
 
नानक और कबीर को भी कि‍या याद 
 
संत कबीरदास का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि‍ कबीरदास के मगहर जाने के पीछे एक कारण था। उस समय एक धारणा थी कि मगहर में जिसकी मौत होती है, वह स्वर्ग नहीं जाता। मगहर को अपवित्र माना जाता था, लेकिन संत कबीरदास इस पर विश्वास नहीं करते थे। इसके अलावा उन्‍होंने गुरु नानक देव को याद करते हुए कहा कि‍ गुरु नानक देव का 550वां प्रकाश पर्व 2019 में मनाया जाएगा। मैं आप लोगों से इसको मनाने के लिए सुझाव देने की अपील करता हूं। 
 
जलियांवाला बाग भी आया याद 
 
जलियांवाला बाग का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि‍ 2019 में जलियांवाला बाग की उस भयावह घटना के 100 साल पूरे हो रहे हैं, जिसने पूरी मानवता को शर्मसार किया था। 13 अप्रैल, 1919 का वो काला दिन कौन भूल सकता है। जब क्रूरता की सारी हदें पार कर निर्दोष और मासूम लोगों पर गोलियां चलाई गयी थीं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट