विज्ञापन
Home » Economy » GSTGST may have single standard rate between 12-18%: Jaitley

12 से 18 फीसदी के बीच हो सकती है स्टैंडर्ड GST रेट, जेटली ने दिए संकेत

Arun Jaitley ने संकेत दिए कि देश में आखिरकार गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स की सिंगल स्टैंडर्ड रेट तय की जा सकती है।

GST may have single standard rate between 12-18%: Jaitley
वित्त मंत्री अरुण जेटली (Finance Minister Arun Jaitley) ने सोमवार को संकेत दिए कि देश में आखिरकार गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (GST) की सिंगल स्टैंडर्ड रेट तय की जा सकती है। उन्होंने कहा कि यह रेट 12 से 18 फीसदी के बीच हो सकती है। वित्त मंत्री ने कहा कि लग्जरी और ‘सिन गुड्स’ को छोड़ दें तो 28 फीसदी का टैक्स स्लैब चरणबद्ध तरीके से खत्म हो जाएगा।

 

 

नई दिल्ली. वित्त मंत्री अरुण जेटली (Finance Minister Arun Jaitley) ने सोमवार को संकेत दिए कि देश में आखिरकार गुड्स एंड सर्विसेस टैक्स (GST) की सिंगल स्टैंडर्ड रेट तय की जा सकती है। उन्होंने कहा कि यह रेट 12 से 18 फीसदी के बीच हो सकती है। वित्त मंत्री ने कहा कि लग्जरी और ‘सिन गुड्स’ को छोड़ दें तो 28 फीसदी का टैक्स स्लैब चरणबद्ध तरीके से खत्म हो जाएगा।

 

 

टैक्स बढ़ने के बाद ही होगा ऐसा

Arun Jaitley ने एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से कहा, ‘फ्यूचर में 12 फीसदी और 18 फीसदी की दो स्टैंडर्ड रेट के बजाय एक ही स्टैंडर्ड रेट की दिशा में काम किया जा सकता है। यह दोनों दरों के बीच में कोई बिंदु हो सकता है। जाहिर तौर पर इसमें कुछ वक्त लगेगा और टैक्स पर्याप्त स्थिति में बढ़ने के बाद ही ऐसा होगा।’

 

 

जेटली ने सिंगल स्टैंडर्ड रेट की वकालत की

उन्होंने कहा कि देश में एक ही तरह का GST होनी चाहिए, जिसमें लग्जरी और सिन गुड्स को अपवाद स्वरूप छोड़ दें तो जीरो, 5 फीसदी और स्टैंडर्ड रेट के स्लैब्स ही होंगे। 28 फीसदी के उच्चतम टैक्स स्लैब पर मंत्री ने कहा, ‘जीएसटी से जुड़े बदलाव पूरे होने के साथ हम रेट में बदलाव के पहले चरण को पूरा करने जा रहे हैं, जिसमें लग्जरी और सिन गुड्स को छोड़कर 28 फीसदी का स्लैब खत्म करना शामिल है।’

 

 

सीमेंट पर घट सकता है टैक्स

जेटली ने अपनी पोस्ट में इन्फ्रास्ट्रक्चर को बड़ी सौगात देने के भी संकेत दिए। उन्होंने कहा कि सरकार की अगली प्राथमिकता सीमेंट को निचले टैक्स स्लैब में डालना है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन