बिज़नेस न्यूज़ » Economy » GSTGST रिटर्न: नए फॉर्म्‍स के ड्राफ्ट जारी, सहज और सुगम है नाम

GST रिटर्न: नए फॉर्म्‍स के ड्राफ्ट जारी, सहज और सुगम है नाम

मौजूदा GSTR-1 और GSTR-3B को करेंगे रिप्‍लेस..

new draft GST returns forms released

नई दिल्‍ली. गुड्स एंड सर्विसेज टैक्‍स (GST) रिटर्न भरने की प्रॉसेस आसान बनाने के लिए सरकार ने नए रिटर्न फॉर्म्‍स के ड्राफ्ट जारी कर दिए हैं। सहज और सुगम नाम के ये फॉर्म स्‍टेकहोल्‍डर्स की प्रतिक्रिया के लिए पब्लिक डोमेन पर अपलोड कर दिए गए हैं। बता दें कि वित्‍त मंत्री अरुण जेटली की अध्‍यक्षता वाली GST काउंसिल ने पिछले हफ्ते नए रिटर्न फाइलिंग फॉर्म को मंजूरी दी थी। ये फॉर्म मौजूदा GSTR-1 और GSTR-3B को रिप्‍लेस करेंगे।  

 

सहज फॉर्म B2C बिजनेस यानी केवल कंज्‍यूमर्स को सप्‍लाई करने वाले बिजनेस के लिए है। इस फॉर्म में आउटवर्ड और इनवार्ड दोनों तरह की सप्‍लाई की डिटेल देनी होगी, जिस पर रिवर्स चार्ज देय होगा। इसके अलावा इनपुट टैक्‍स क्रेडिट का दावा करने के लिए इसमें इनवार्ड सप्‍लाई की समरी भी देनी होगी। B2C बिजनेस को सप्‍लाई और इंट्रेस्‍ट की HSN केन्द्रित समरी, लेट फीस देनदारी, टैक्‍स का पेमेंट और वेरिफिकेशन भी फॉर्म में दर्शाना होगा।

 

फॉर्म सुगम किसके लिए

वहीं दूसरा फॉर्म सुगम बिजनेस टू बिजनेस (B2B) और B2C दोनों तरह की सप्‍लाई करने वाले बिजनेस के लिए है। इसमें सप्‍लाई, टैक्‍स देनदारी, इनपुट टैक्‍स क्रेडिट लेने के लिए इनवार्ड सप्‍लाई सभी की समरी, बकाया इंट्रेस्‍ट और टैक्‍स पेमेंट की डिटेल्‍स शामिल होंगी।    

 

निल टैक्‍सपेयर्स के लिए ‘निल’ रिटर्न फॉर्म ड्राफ्ट भी जारी

इनके अलावा निल टैक्‍सपयेर्स के लिए तिमाही आधार पर भरे जाने वाले ‘निल’ रिटर्न फॉर्म का ड्राफ्ट भी जारी कर दिया गया है। बता दें कि निल टैक्‍सपेयर्स की कैटेगरी में वे लोग आते हैं, जिन्‍होंने पूरी तिमाही के दौरान किसी भी तरह की खरीद या सप्‍लाई नहीं की है। इसके चलते उन पर किसी तरह की टैक्‍स देनदारी या इनपुट क्रेडिट टैक्स लेनदारी नहीं बनती है।  

 

जल्‍द SMS से GST रिटर्न फाइल कर सकेंगे निल टैक्‍सपेयर्स

सेंट्रल बोर्ड ऑफ इनडायरेक्‍ट टैक्‍सेज एंड कस्‍टम्‍स (CBIC) ने ड्राफ्ट रिटर्न फॉर्म जारी करते हुए कहा कि निल टैक्‍सपेयर्स के लिए जल्‍द ही SMS से GST रिटर्न फाइल करने की सुविधा लागू होगी। ऐसे टैक्‍सपेयर्स तिमाही के पहले और दूसरे महीने में मैसेज से अपने निल ट्रांजेक्‍शन को दर्ज करा सकेंगे।   

 

नया रिटर्न फाइलिंग सिस्‍टम जनवरी 2019 से अमल में लाने की योजना

रेवेन्‍यु डिपार्टमेंट की योजना नए रिटर्न फाइलिंग सिस्‍टम को जनवरी 2019 से अमल में लाने की है। गुप्‍ता ने आगे कहा कि GST कानून में काउंसिल से मंजूर संशोधनों को मानसून सत्र के दौरान संसद में पेश किया जाएगा। उसके बाद राज्‍य विधानसभाएं इसे पास करेंगी और फिर ये प्रभाव में आएंगे। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट