बिज़नेस न्यूज़ » Economy » GSTGSTR-3B की रिटर्न फाइलिंग में अभी भी दिक्कतें, CAIT का दावा 30% कारोबारी नहीं भर पाएं रिफंड

GSTR-3B की रिटर्न फाइलिंग में अभी भी दिक्कतें, CAIT का दावा 30% कारोबारी नहीं भर पाएं रिफंड

जीएसटी पोर्टल पर कारोबारी अभी भी जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइलिंग की परेशानी झेल रहे हैं।

1 of

नई दिल्ली। जीएसटी पोर्टल पर कारोबारी अभी भी जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइलिंग की परेशानी झेल रहे हैं। सिस्टम पर उनकी रिटर्न की डिटेल्स सेव नहीं हो रही है। सरकार ने पहले ही जीएसटी पोर्टल में टेक्निकल दिक्कतों के कारण जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइलिंग की डेट   2       दिन आगे बढ़ाई थी लेकिन इसके बावजूद टेक्निकल परेशानियों के कारण वह रिटर्न फाइल नहीं कर पाए। उन्हें अब पेनल्टी के साथ जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइल करनी पड़ रही है।

 

 

रिटर्न फाइलिंग में आ रही है परेशानी

 

 

मोरी गेट में ऑटो पार्ट्स का कारोबार करने वाले कारोबारी रमन सिंह ने moneybhaskar.com को बताया कि सरकार के जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइलिंग रिटर्न की डेट आगे बढ़ाने का कोई फायदा नहीं हुआ क्योंकि अभी भी रिटर्न फाइलिंग में डेटा सेव नहीं हो रहा है जिसके रिटर्न सबमिट नहीं हो पा रही है। सरकार ने जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइलिंग की डेट 22 मई तक के लिए बढ़ाई थी लेकिन उन 2 दिन में भी कारोबारी टेक्निकल समस्या के कारण रिटर्न नहीं फाइल कर पाए।

 

 

लेट फाइल करने पर लग रही है पेनल्टी

 

 

गाड़ियों की लाइट्स के ट्रेडर कमल शर्मा ने moneybhaskar.com को बताया कि जो कारोबारी और ट्रेडर्स उन बढ़े 2 दिन की डेटलाइन में जो रिटर्न नहीं फाइल कर पाए, उनसे अब पोर्टल लेट रिटर्न फाइलिंग के लिए पेनल्टी मांग रहा है। जीएसटी पोर्टल पर टेक्निकल प्रॉब्लम का खामियाजा कारोबारी उठा रहे हैं। सॉफ्टवेयर सिस्टम की परेशानी का नुकसान कारोबारी को हो रहा है।

 

 

सरकार ठीक करे सिस्टम

 

 

जीएसटीआर-3बी रिटर्न कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के जनरल सेक्रेटरी प्रवीण खंडेलवाल ने moneybhaskar.com को बताया कि अभी सिर्फ दिल्ली में ही 25 से 30 फीसदी कारोबारी ऐसे हैं जो जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइल नहीं कर पाए। अब वह पेनल्टी के साथ रिटर्न फाइल करने के लिए मजबूर हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार जीएसटी पोर्टल के सॉफ्टवेयर पर काम कर रही कंपनी इंफोसिस पर पेनल्टी नहीं लगा रही है लेकिन कारोबारी पर लगा रही है।

 

 

जीएसटी लागू होने के 11 महीने बाद भी नहीं ठीक हुआ सिस्टम

 

 

एसोसिएशन और कारोबारियों के मुताबिक जीएसटी लागू होने के 11 महीने बाद भी जीएसटी पोर्टल की टेक्निकल दिक्कतें खत्म नहीं हुई है। अभी भी टेक्निकल पार्ट पर ही जीएसटी फिसड्डी साबित हो रहा है। इसके कारण सरकार कई बार रिटर्न फाइलिंग की डेट आगे बढ़ा चुकी है। अभी हाल में ही आईटी से जुड़ी समस्याओं के कारण जीएसटी पोर्टल 18 अप्रैल को काम नहीं कर रहा था जिसके बाद सरकार ने अप्रैल की जीएसटीआर-3बी रिटर्न फाइलिंग की डेडलाइन 20 मई से बढ़ाकर 22 मई कर दी। लेकिन जीएसटी पोर्टल पर कारोबारियों की दिक्कतें खत्म नहीं हुई है।

 

 

आगे पढ़ें - क्यों नहीं डेट बढ़ाने से फायदा

 

 

 

दिन डेट बढ़ाने से भी नहीं बना काम

 

 

खंडेलवाल ने कहा कि डेट 2 दिन बढ़ाने के बाद भी जीएसटी पोर्टल पर टेक्निकल दिक्कतें आ रही थी। पोर्टल ज्यादा डेटा सेव नहीं कर रहा था और रिटर्न सबमिट नहीं हो रही थी। कई बार पोर्टल ही हैंग हो रहा था। अब कारोबारियों को पेनल्टी के साथ रिटर्न फाइल करनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि सरकार जीएसटी पोर्टल का सॉफ्टवेयर ठीक करें और बिना पेनल्टी के रिटर्न फाइल करवाएं क्योंकि इसमें कारोबारियों की तरफ से परेशानी नहीं है।

 

 

20 तारीख तक फाइल करनी होती है जीएसटीआर-3बी

 

 

 

कारोाबरियों और ट्रेडर्स को जीएसटीआर-3बी हर महीने की 20 तारीख तक फाइल करनी होती है। इसमें उन्हें सभी तरह की सेल परचेज की जानकारी देनी होती है। इसके अलावा 20 लाख से कम टर्नओवर वाले कारोबारियों के साथ किया गया लेन-देन जिसमें आपको रिवर्स चार्ज की जानकारी देनी होती है। इसके अलावा इस रिटर्न में इन्पुट टैक्स क्रेडिट की डिटेल, अंतर्राज्यीय कारोबर और अनरजिस्टर्ड डीलर के साथ किया गया बिजनेस, कंपोजिशन स्कीम के तहत आने वाले कारोबारियों के साथ बिजनेस, टैक्स फ्री वाले प्रोडक्ट की खरीद की जानकारी देनी होती है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट